Adultery ओह माय फ़किंग गॉड

Post Reply
User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 14826
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: ओह माय फ़किंग गॉड

Post by rajsharma »


मैं आखें बंद कर सोमलता को छाती से चिपकाकर लेता रहा. मेरा दिमाग उस वक़्त बिल्कुल शांत और किसी तरह के ख्यालों से खाली था. काफी दिनों के बाद मैं पूरी शांति का अनुभव कर रहा था. मेरा ध्यान तोड़ते हुए वह धीरे से बोली – “बाबू! ओं बाबु!”

मैं आँख मूंदकर ही जवाव दिया – “हुंह....”

उसने मेरी बालो को सहलाते हुए बोली – “कुछ खाओगे नहीं? भूख नहीं लगी तुम्हे?”

मैं कहा – “हुंह, देखते है रसोई में क्या है.” मैं उठकर रसोई की तरफ बढ़ने लगा.

वह भी मेरे पीछे आई और बोली – “बाबु, दूध है, मैं तुम्हारे लिए खीर बना देती हूँ. मैं अभी कपड़े पहन कर आई.” औए वह मुड़कर जाने लगी.

मैंने उसकी हाथ पकड़कर रोकते हुए कहा – “नहीं मेरी रानी. कपड़ो की कोई जरूरत नहीं है. यहाँ कोई आनेवाला नहीं है. ऐसे ही रहो ना.”

“बेशरम!!!” वह अपना हाथ छुडाते हुए बोली और खीर पकाने की तैयारी करने लगी. चूल्हे पर खीर चड़ने के बाद वह खिड़की के पास खड़े हो बाहर देख रही थी और मैं उसके पीछे खड़ा था. पुरे घर में नंगे घूमना एक मजेदार रोमांच पैदा कर रहा था. मैं उसकी बाँहों को पीछे से सहला रहा था. उसकी बदन और बालो से एक मीठी खुसबू आ रही थी जो काफी सुहावना लग रहा था. हम दोनों ही अपने ख्यालों में खोये हुए थे. कुकर की सिटी में हमारा ख्याल थोड़ा. मैं चूल्हे को बंद किया. अचानक मेरे दिमाग में शरारत सूझी. मैंने जैम का डब्बा निकाला और ढेर सारा जैम उसकी छाती में मल दिया. वह चोंककर मेरी और सवालिया नज़रो से देखी. मैं सिर्फ मुस्कुराया. मैं उसको बाहों से पकड़कर दीवाल से सता दिया और झुककर उसकी चुचियों की गहरी घाटी पर लगे जैम को चाटने लगा. उसकी जुबान से हल्की सिसकी निकली. वह मस्ती में आँख मूंदकर सर दिवार से टिककर सिसकी लेती जा रही थी. उसकी सिसकी ने मुझे गरम कर दिया. मैं जोर-जोर से उसकी चुचियों की चाटने-चूसने लगा. खासकर उसकी चुह्चियों के निप्पल को तो पुरी गोलाई से मुँह में डालता और दांत से दबाकर चूसता. मैंने चूस-चूसकर पुरी बदन से जैम को ख़तम कर दिया. अब मेरा हाथ उसकी नंगी चूत पर चला गया. उसकी योनी पहले ही अपना रस छोड़ चूका था. गीली चूत में मैं ऊँगली से चोद रहा था.

उसकी सिसकियों की आवाज अब ज्यादा हो गयी. वह निचे के होंठ को दांत से दबा सिसकी मर रही थी और मेरे सर को अपने छाती में दबा रही थी. मैंने बाये हाथ से उसकी कमर को लपेट कर किचेन के टेबल से टिककर खड़ा किया. अब मैंने दो ऊँगली एक साथ उसकी गीली में चूत में डाल दी. उसकी तेज सिसकी निकली और पेट को उत्तेजना से सिकोड़ दी. मैं एक हाथ से उसकी गांड को दबा रहा था और दूसरी हाथ से उसकी चूत को. मैंने बुरी तरह से उसकी चूत को उँगलियों से चोदना जरी रखा. उसकी सिसकियों की आवाज धीरे-धीरे तेज हो रही थी. उसकी चूत की दीवारे कसने लगी. उसका शरीर कसने लगा, सिसकी बंद और ऑंखें जोर से भीच गयी. वह झड़ने के करीब पहुँच चुकी थी. यह देख मैंने रफ़्तार बढ़ा दी. कुछ धक्को के बाद उसकी चूत में रस भरने लगा. फिर एक गर्म पानी का फव्वारा फूटा. उसकी चूत रह-रह कर पानी छोड़ रहा था जो मेरी उँगलियों से बहते हुए फर्श पर टपकने लगा.

योनीरस के मादक महक में पुरे कमरे को भर दिया. सोमलता को इस जबरदस्त ओर्गास्म ने हिलाकर रख दिया. वह निढाल होकर मेरे कंधे के ऊपर गिर गयी. मैंने उसको बाँहों में उठाकर कमरे में ले गया. ले जाते वक़्त भी उसकी ऑंखें बंद थी और सांसे तेज. सांसो के साथ-साथ उसकी छाती तेजी से ऊपर निचे हो रही थी. उसको बिस्तर पर सुलाकर मैं किचेन में आया और उसकी बनायीं खीर दो प्लेट में लगाकर कमरे में गया. अब भी उसकी सांसे तेज थी. मैं उसकी चुचियों का ऊपर-नीचे जाना देख रहा था. उसकी बदन पर पसीने की बुँदे बड़ी सेक्सी लग रही थी. बंद आँखों के कोने से कुछ बुँदे आंसू की टपक पड़ी.मैं आंसू को पोछने गया तो उसकी आँखें खुल गयी. वह धीमे से मुस्कुराई. मैंने उसको खींचकर बैठते हुए कहा – “रानी, खीर ठंडी हो रही है. खा लो.” वह प्लेट हाथ में लेकर चुपचाप खा रही थी और बीच-बीच में मेरी ओर देख मुस्कुरा रही थी . हमने बिना किसी बातचीत के खाना ख़त्म किया. प्लेट लेकर वह रसोई में चली गयी. जाते वक़्त मैं उसकी डगमगाती चाल देख रहा था. एक जबरदस्त चुदाई ने इसकी चाल बदल दी थी.



मैं भी काफी थका हुआ महसूस कर रहा था और दोपहर को सोना मेरी आदत थी. मैं बिस्तर में आराम से लेट गया. मेरे दिमाग में येही बात चल रही थी कि कल से सोमलता को कैसे मिलूँगा. घर में तो मुमकिन नहीं हो सकता और बाहर में खतरा बहुत है.मेरे लिंग पर बीर्य और योनिरस का मिश्रण लगा हुआ था जो सुखकर अकड़ रहा था. ज्यादा चुदाई के कारण मेरा लंड थोड़ा छिल गया था जिसके कारण थोड़ा दर्द कर रहा था. मैंने लंड साफ़ करने के इरादे से बाथरूम गया. बाथरूम का दरवाजा अन्दर से बंद नहीं था, बस लगा था. अन्दर से हल्की शावर की आवाज आ रही थी. दरवाजा को धीरे से ठेलने पर देखा की सोमलता दरवाजे की तरफ पीठ कर निचे शावर के निचे बैठी है और हल्की शावर चल रहा है. मैं बिल्कुल उसके पीछे दोनों टांगो को फैलाकर बैठ गया ताकि उसकी कमर मेरी जन्घो में बीच में हो. उसकी पीठ को अपने छाती से चिपकाकर उसकी कमर को दोनों हाथो से लपेट लिया. ऐसा करने पर भी वह बिल्कुल नहीं चौंकी जैसे वह मेरा इन्तेजार कर रही हो. उसको अपने से और चिपकाते हुए मैंने उसकी गर्दन पर एक प्यारभरी चुम्बन दी और हलके शावर का इन्तेजार करने लगा. उसका शरीर बिल्कुल भी हरकत नहीं कर रहा था.

हम दोनों लगभग आधे घन्टे तक शावर का मजा लेते रहे. पानी में ज्यादा देर रहने से ठण्ड लग रही थी. मैंने उसको झकझोरते हुए बोला – “चलो, ज्यादा देर रहे तो ठण्ड लग जाएगी. कमरे में चलते है.” हमदोनो उठकर शावर को बंद किया और तौलिये से एक-दुसरे के बदन को सुखाने लगे. आखिर में जब वह मेरा बदन सुखा रही थी तो पूरा शरीर को पोंछने के बाद झुककर मेरे लिंग की निचले हिस्से में होंठ रखकर एक चुम्बन जड़ दिया. इससे मेरा पूरा बदन सिहर उठा. फिर वह मेरी बाँहों को पकड़ कर कमरे में आ गयी. हमदोनो ही थके हुए थे इसलिए एक ही चादर में सो गए. वह मेरी पीठ से चिपककर एक टांग मेरे पैरो के ऊपर चढ़ाकर लेती थी. उसकी सख्त चूचियां मेरी पीठ पर एक अजीब सी झुनझुनी पैदा कर रही थी. मेरे मन में कई तरह के ख्याल आ रहे थे. क्या मैं सच में सोमलता से प्यार कर बैठा था या फिर वक़्त के साथ-साथ यह अनुभव ख़तम हो जाने वाला है? इस रिश्ते का अंत क्या होना है? एक रण्डी के साथ दिन गुजरने और एक शरीफ औरत के साथ दिन गुजरने में बहुत फर्क है. शायद वह मेरे दिल में कहीं ना कहीं जगह बना चुकी थी. हम दोनों शांत हो लेते हुए थे. पता नहीं सोमलता क्या सोच रही थी. मैं हमेशा से बड़ी उम्र की औरत में ज्यादा दिलचस्पी लेता था, लेकिन इस तरह के रिश्ते के बारे में कभी नहीं सोचा था. देखे अब आगे क्या होता है.





Read my all running stories

(ख़ौफ़ running) ......(फरेब running) ......(लव स्टोरी / राजवंश running) ...... (दस जनवरी की रात ) ...... ( गदरायी लड़कियाँ Running)...... (ओह माय फ़किंग गॉड running) ...... (कुमकुम complete)......


साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 14826
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: ओह माय फ़किंग गॉड

Post by rajsharma »




शाम लगभग 6 बजे नींद खुली. अप्रेल के दिन थे, शाम गहरी हो रही थी. मैं उठने की कोशिश की तो पाया की सोमलता अभी भी मुझे जकड़े हुए सो रही थी. मेरी पीठ से चिपक के मेरी सीने को पकडे सोई थी. मैंने उसकी नींद को तोडना उचित न समझते हुए उसकी हाथ को धीरे से उठाकर उसकी ओर करवट बदली. सोमलता का चेहरा नींद में किसी बच्ची जैसा मासूम था. हालाँकि चेहरे से उम्र और दुःख के निशान साफ़ झलक रहे थे. मुझे उस वक़्त मुझसे बड़ी औरत पर बड़ा प्यार आ रहा था. मेरे हाथ उसकी जुल्फों को धीरे-धीरे सहलाने लगे. वह धीरे-धीरे साँस ले रही थी. उसकी आँखों में एक शांति, एक संतुष्टि थी. शायद मेरी हाथो की हरकत से उसकी नींद खुल गयी. धीरे से आँख खोली तो मुझे अपनी आखों में झाकता पाया. मै मुस्कुरा दिया. उसने मुझे अपनी ओर खींचते हुए पास आई. हमदोनो इतने पास थे की दोनों की छातियाँ एक-दुसरे पर दबाव दे रहे थे. उसने अपना चेहरा मेरे कंधे में छिपा लिया और मेरे कंधे को चूमने लगी. होंठो का प्यार पाकर मेरा सोया लिंग नींद से जग गया और उसकी जन्घो को चीरते हुए खड़ा होने लगा. अचानक लंड पर सोमलता की उंगलिया फिरने लगी जो लंड को और ज्यादा उकसा रही थी. वह अभी भी मुझे चूम रही थी.

अचानक वह चेहरा मेरे चेहरे के सामने लाकर पूछी – “बाबु, उस दिन तुमने जो फिल्म दिखाई थी, उसमे वह औरत अपने लड़के का लंड चूस रही थी. क्या यह गन्दा नहीं होता है?”

मैंने उसकी बालों को सहलाते हुए कहा – “नहीं मेरी सोमा, अगर शारीर साफ़ हो तो कुछ भी गन्दा नहीं होता. ना मेरा लंड, ना तुम्हारा बुर.”

वह मुस्कुराकर बोली – “अच्छा, तुमको भी चुसवाने का बड़ा मन कर रहा होगा?”

मैंने कहा – “क्यों नहीं. जब मेरी प्रेमिका मासिक में रहती थी और हम चुदाई नहीं कर पते थे तो वह मुझे इसी तरह ठंडा करती थी.”

सोमा थोड़ा मायूस होकर बोली – “लेकिन बाबु मुझे चुसना नहीं आता है. तुम मुझे वो वाली फिल्म दिखा सकते हो?”

मैंने कहा – “हाँ, क्यों नहीं. चलो मेरे कमरे में.”

मेरे मन में तो लड्डू फुट रहे थे. लंड चुसवाने के सपना सब को होता है, लेकिन अभी भी हमारे देश की लड़कियां, बीबियाँ, औरतें इसको अच्छा काम नहीं समझती है. इसलिय मैं वाकई में किस्मतवाला था जो उसने खुद मुझे प्रस्ताव दिया. मैं उसको अपने कमरे में लाया और कंप्यूटर ओं कर दी. सुबह से हमारे बदन में कपड़े का एक धागा तक नहीं था. फिल्म शुरू हो गयी और ओरल सेक्स का सीन भी आ गया. सोमा रानी बड़ी ध्यान से पोर्न स्टार की चुसाई देख रही थी. मेरा लंड तो अपना चमड़ा फाड़ने को बेताब हो रहा था. मैं एक कुर्सी कर स्क्रीन की ओर पीठ कर बैठ गया और सोमा मेरी दोनों जांघो के बीच बैठ गयी. इस तरह वह मेरी लिंग को चूस सकती थी और कंप्यूटर स्क्रीन को देख भी सकती थी. अब शुरू हुआ लंड चुसाई के कार्यक्रम. टीवी देखकर खाना बनाते बहुत सारे औरतों को आपने देखा होगा लेकिन पोर्न फिल्म देखकर लंड चूसने वाली एक शायद पहली औरत होगी.

सोमा घुटनों के सहारे बैठ गयी. फिल्म में औरत ने बिना हाथ लगाए लड़के के लंड को उपर से नीचे तक चाटती है. वैसे ही सोमा ने मेरे फनफनाते नाग को गर्म जीभ से चाट दी. मेरे मुँह से ज़ोरदार सिसकी निकली. सोमा ने मेरी ओर देखा. मेरी आँखों में वासना के लाल डोरे तैर रहे थे. फिर से उसने लंड को उपर से नीचे चाटी. मैं आँख बंद कर सिसिकी को काबू में करने की बेकार कोशिश कर रहा था. पोर्न फिल्म के अनुसार वह मेरी लिंग को चूम चाट रही थी. अब उसने मेरे लंड को पूरा मुँह में डालकर सर को आगे पीछे करने लगी. मेरा कड़क लंड उसकी गले तक जा पहुंचा. वह खांसते हुए लंड हो बाहर निकाली और हांफने लगी. मैंने उसकी सर को बालों से पकड़ कर लंड को फिर से मुँह में डालकर सर को आगे पीछे करने लगा. अब वह बड़ी आराम से मुझे मुख-मैथुन का सुख दे रही थी.


अब उसने फिल्म देखना बंद कर दी और दोनों हाथो से लंड को पकड़ कर चूसने लगी. चूसने के दौरान काफी मात्रा में लार निकला जो चाप-चाप की आवाज पैदा कर रही थी. वह मेरी गोटियों से खेलते हुए लंड को चूसने लगी. मैं सातवे आसमान में था. मेरा लिंग का सुपारा फुल गया था और दर्द कर रहा था. चूँकि आज काफी बार बिर्य निकला था इसलिए इतनी जल्दी झड़ने वाला नहीं था, इसलिए सोमा धीरे-धीरे चूसने की गति बड़ा रही थी. एक हाथ से लंड को पकड़ दूसरा हाथ उसकी चुचियों पर चला गया. वह खुद अपनी चुचियों को मसल रही थी. यह देख मेरा लंड और अकड़ गया. सुपारे का दर्द मेरी जान निकल रहा था. अब मैं झड़ने वाला था. मैंने उसकी सर को लंड से अलग करने की कोशिश की लेकिन वह चुसे जा रही थी

. “आआह्हह्हह... सोमाआआआअ..... मेरा निकल रहा है..... अआह्ह्ह” एक तेज धार के साथ मेरा बांध टूट गया. ढेर सारा मुठ उसकी चुचियों पर जा गिरा. वह मुठ गिरने के वावजूद चुसे जा रही थी. लंड अकड़ कर 3-4 पिचकारी में मुठ निकाला और लटक गया. सोमा लंड को चुसे जा रही थी, जैसे वह सारा पानी निकल कर ही दम लेगी. मैंने उसको उठाकर जांघो पर बिठाया और उसकी होंठो को चूसने लगा. मैंने अपने बिर्य का स्वाद चखा. हम दोनों अगले 10-15 मिनट तक चूसते रहे. दोनों का बदन मेरे बिर्य से गन्दा हो गया, इसलिए

फिर से हमें बाथरूम जाना पड़ा.
Read my all running stories

(ख़ौफ़ running) ......(फरेब running) ......(लव स्टोरी / राजवंश running) ...... (दस जनवरी की रात ) ...... ( गदरायी लड़कियाँ Running)...... (ओह माय फ़किंग गॉड running) ...... (कुमकुम complete)......


साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 14826
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: ओह माय फ़किंग गॉड

Post by rajsharma »

(^%$^-1rs((7)
Read my all running stories

(ख़ौफ़ running) ......(फरेब running) ......(लव स्टोरी / राजवंश running) ...... (दस जनवरी की रात ) ...... ( गदरायी लड़कियाँ Running)...... (ओह माय फ़किंग गॉड running) ...... (कुमकुम complete)......


साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
naik
Gold Member
Posts: 5015
Joined: 05 Dec 2017 04:33

Re: ओह माय फ़किंग गॉड

Post by naik »

very nice update


Post Reply