Thriller सीक्रेट एजेंट

Post Reply
Masoom
Pro Member
Posts: 2564
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Thriller सीक्रेट एजेंट

Post by Masoom »

सीक्रेट एजेंट

सुबह‍ ग्‍यारह बजे का वक्‍त था जबकि मुम्‍बई पुलिस हैडक्‍वार्टर्स की तीसरी मंजिल के एक मिनी कांफ्रेंस रुम जैसे कमरे में एक मिनी कांफ्रेंस ही जारी थी । उस कांफ्रेस की सदारत खुद मुम्‍बई पुलिस कमिश्‍नर जुआरी ने करनी थी लेकिन खड़े पैर उसके लिये होम मिनिस्‍टर का बुलावा आ गया था तो अब उसकी जगह उसकी वो ड्‍यूटी जायंट कमिश्‍नर बोमन मोरावाला सम्‍भाल रहा था । उसके अतिरिक्‍त वहां जो तीन, बावर्दी पुलिस अधिकारी और मौजूद थे उनमें से एक दादर डिस्ट्रिक्‍ट का डीसीपी नितिन पाटिल था, दूसरा हैडक्‍वार्टर में ही तैनात एडीशनल कमिश्‍नर संजीव दीक्षित था और तीसरा नितीन पाटिल के अंडर आने वाले नौ थाने में से एक ग्रांट रोड थाने का एसएचओ श्‍याम राव महात्रे था ।

उन अफसरान में महात्रे की औकात सबसे छोटी थी - हैडक्‍वार्टर के उच्‍चाधिकारियों के सामने वो हमेशा अपना दर्जा चपरासी जैसा पता था - लेकिन अपने डीसीपी के हुक्‍म पर उसको वहां हाजिरी भरनी पड़ रही थी और वो वहां जायंट कमिश्‍नर के रूबरू यूं बैठा हुआ था जैसे कुर्सी की सीट पर कांटे उगे हों । ये अभी उसे मालूम होना बाकी था कि क्‍यों उसकी वहां हाजिरी जरूरी समझी गयी थी ।
कांफ्रेंस में डिसकस होने वाले सब्‍जेक्ट की बाबत अलबत्ता उसे मालूम था ।
सब्‍जेक्‍ट था : कोनाकोना आइलैंड और उसका मौजूदा करप्‍ट निजाम ।
कोनाकोना आइलैंड अरब सागर में स्‍थापित था और प्राकृतिक सौंदर्य के लिहाज से कुदरत का करिश्‍मा था । वो बहुत शांत टूरिस्‍ट टाउन था जिसकी स्‍थायी लोकल आबादी मुश्किल से दो हजार थी । आइलैंड पर एक मनोरम झील थी जिसके दायें बाजू एक पहाड़ी इलाका था जो एस्‍टोरिया हिल के नाम से जाना जाता था और जिस पर सारे महाराष्‍ट्र के साधन सम्‍पन्‍न महानुभावों के लग्‍जरी कॉटेज थे जिनमें से कोई ही कभी सारा साल आबाद दिखाई देता था । बड़े, रईस लोग परिवार के साथ, फ्रेंड्स के साथ, कीप्‍स के साथ पिकनिक के लिये, तफरीह के लिये, मौजमस्‍ती के लिये, रिलैक्‍सेशन के लिये आते थे, जी भर जाता था तो वापिस चले जाते थे, फिर आ जाते थे । रईसों का ऐसा आवागमन कोनाकोना आइलैंड पर राउंड-दि-इयर चलता था । सारा साल ही वहां सैलानियों की आवाजाही रहती थी क्‍योंकि उनके लिये वहां मनोरंजन के ऐसे इंतजाम भी मौजूद थे जिनकी इजाजत राज्‍य का कायदा कानून नहीं देता था । कायदे कानून के नाम पर वहां अराजकता का राज था । बहुत ऊपर तक इस बात की हाजिरी थी कि एक अरसे से आइलैंड पर महज दो जनों का कब्‍जा था जिनमें से एक वहां के थाने का थानेदार था ।

यही बात उस कांफ्रेंस का मुद्दा थी जो कि मूलरूप से कमिश्‍नर की मौजूदगी में होने वाली थी ।
“...ये काम” - जायंट कमिश्‍नर बोमन मोरावाला कह रहा था - “मुम्‍बई पुलिस के स्‍कोप में नहीं आता । कोनाकोना आइलैंड हमारी ज्‍यूरिसडिक्‍शन नहीं । उसका निजाम उस डिस्ट्रिक्‍ट के डीसीपी के अंडर आता है जिसके अंदर कि मुरुड आता है जबकि कोनाकोना आइलैंड मुम्‍बई से करीब है, पिच्‍चासी किलोमीटर पर है । मुरुड से - जो कि कोस्‍टल टूरिस्‍ट टाउन है - वो एक सौ पचपन किलोमीटर से फासले पर है । ये विसं‍गति, व्‍यवस्‍था अंग्रेज के टाइम से चली आ रही है जिस पर पुनर्विचार करने की, जिसको रिवाइज करने की कभी कोई कोशिश नहीं हुई । बहरहाल इस सिलसिले में जो है सो है । नो ?”

सबके सिर सहमति में हिले ।
“मुरुड - जैसा कि मैंने कहा - यहां से एक सौ पैंसठ किलोमीटर पर है । बहरहाल हमें ऊपर से आर्डर इशु हुआ है कि इस प्रोजेक्‍ट को हम हैंडल करें, इस तरीके से हैंडल करें कि जिनका असल में ये काम है, उनको भी कानोंकान खबर न हो कि आइलैंड पर खास, नया, कुछ हो रहा है ।” - जायंट कमिश्‍नर एक क्षण ठिठका और फिर बोला - “मुरुड से और इधर मुम्‍बई से कोनाकोना आइलैंड के लिये स्‍टीमर चलते हैं जिनकी सर्विस इतनी बढ़िया है कि पर्यटकों को वहां पहुंचने में कोई दिक्‍कत नहीं होती । आइलैंड पर हैलीपैड है इसलिये जिसकी समर्थ हो वो हैलीकाप्‍टर से भी वहां पहुंच सकता है । इट गोज विदाउट सेईंग दैट ऐसी समर्थ उन वीआईपीज की ही है जिनके कि वहां लग्‍जरी कॉटेजिज हैं ।”

कोई कुछ न बोला ।
“टुरिस्‍ट्स के लिये वहां मनोरंजन का हर साधन उपलब्ध बताया जाता है । शराब और शबाब का खुला दरबार तो वहां है ही, कहते हैं कि एक जुआघर भी वहां बड़े सुचारुरूप से, बिना किसी खास छुपाव के, शरेआम चलता है । इस वजह से औरतों के रसिया और जुए के शौकीन लोग भारी तादाद में वहां पहुंचते हैं । यहां तक सुना गया है कि कुछ टूरिस्‍ट एजेंसियां तो कोनाकोना आईलैंड के बैंकाक स्‍टाइल सैक्‍स टूर्स आर्गेनाइज करने लगी हैं ।” - जायंट कमिश्‍नर अपने शब्‍दों का प्रभाव अपने मातहतों पर देखने के लिये एक क्षण को रुका और फिर आगे बढ़ा - “लेकिन ये सब-प्रास्‍टीच्‍यूशन, गेम्‍बलिंग - भी हायर अप्‍स की चिंता का विषय नहीं हैं, क्‍योंकि ये दोनों काम यहां मुम्‍बई में भी बहुताहत में होते हैं और उन पर रोक लगाने की पुलिस की भरपूर कोशिशों के बावजूद नहीं रुकते । पुलिस रेड करके ये कारोबार एक जगह से उखाड़ती है तो वो दूसरी जगह शिफ्ट हो जाता है, तीसरी जगह शिफ्ट हो जाता है । जंटलमैन, होम मिनिस्ट्री का चिंता का विषय ये है कि उनके पास कुछ ऐसी - अनकनफर्म्‍ड - रिपोर्ट्स पहुंची हैं कि कोनाकोना आइलैंड ड्रग समगलिंग का और आर्म्‍स सम‍गलिंग का अड्‍डा बना जा रहा है । हम नहीं जानते कि इस बात में कितनी सच्‍चाई है लेकिन ये हम बराबर जानते समझते हैं कि हम नहीं चाहते - राज्‍य का निजाम नहीं चाहता - कि कोनाकोना का कैरेक्‍टर स्‍वैननैक प्‍वायंट वाला बन जाये । हम नहीं चाहते कि पाकिस्‍तान की शह पाये बादशाह अब्‍दुल मजीद दलवई की सरपरस्‍ती में फूला फला स्‍वैननैक प्‍वायंट तबाह हुआ तो उसकी जगह अब कोनाकोना ले ले ।”

“ऐसा कैसे होगा, सर !” - डीसीपी नितिन पाटिल बोला - “क्‍यों होने देंगे हम ? क्या प्राब्‍लम है ?”
“प्राब्‍लम हमारी ये लाचारी, ये बेचारगी है कि हकीकत को भांपने के लिये, कनफर्म करने के लिये हमारा जो कोई भी अंडरकवर एजेंट कोनाकोना आइलैंड पर कदम रखता है, फौरन पहचान लिया जाता है । नतीजतन वहां चलता कैसीनो यूं गायब हो जाता है जैसे कि कभी था ही नहीं । वहां की ईंट उखाड़े मिलने वाली प्रास्‍टीच्यूट्स ओवरनाइट में गायब हो जाती हैं या सम्भ्रांत टूरिस्‍ट महिलायें लगने लगती हैं । बार वहां लीगल हैं, स्‍काच विस्‍की आम मिलती है लेकिन वो समगलिंग की होती है, एक्‍साइज अनपेड होती है लेकिन हमारे अंडरकवर एजेंट की आइलैंड पर मौजूदगी की भनक लगते ही बारों पर स्‍काच की बोतलें लीगल, एक्‍साइज पेड दिखाई देने लगती हैं । कोई कहीं ड्रग्‍स का हिंट दे तो उसे गिरफ्तार करा दिये जाने की धमकी मिलती है । हमारा सीक्रेट एजेंट अभी वहां पहुंचा नहीं होता कि समझो कि वहां रामराज स्‍थापित हो जाता है ।”

“कमाल है !”
“कमाल ही है । और ये कमाल एक बार नहीं, पिछले दो साल में कई बार हो चुका है ।”
“कैसे हो पाता है ?”
“रक्षक, ही भक्षक हैं, ऐसे हो पाता है ।”
“जी !”
“हमारी इंटेलीजेंस रिपोर्ट ये कहती है कि वहां के थाने का थानेदार - एसएचओ, स्‍टेशन हाउस आफिसर, अनिल महाबोले नाम है - ही मेन विलेन है । उसी ने आपना ऐसा खुफिया तंत्र उधर स्‍थापित किया हुआ है कि जब भी कोई सरकारी आदमी उधर का रुख करता है, उसे एडवांस में खबर लग जाती है । मुझे कहते अफसोस होता है लेकिन कहना पड़ता है कि इस सिलसिले में उसकी सलाहियात काबिलेरश्‍क हैं । हिज रिसोर्सफुलनैस इस एनवियेबल ।”

“दैट्स टू बैड !”
“आफकोर्स इट्स टू बैड । कोई बड़ी बात नहीं कि इस सिलसिले में मुरुड से भी उसे मदद मिलती हो ।”
“मुरुड से ?” - एडीशनल कमिश्‍नर दीक्षित सकपकाये लहजे से बोला ।
“हां ।”
“लेकिन मुरुड से...”
“समझो, भई । मामूली इंस्‍पेक्‍टर, यहां से पिच्‍चासी किलोमीटर दूर के एक थाने का थानेदार यहां हैडक्‍वार्टर में घात नहीं लगा सकता लेकिन मुरुड के डीसीपी तक पहुंच बना सकता है जिसके अंडर कि उसका थाना आता है । खुदा न करे डीसीपी गलत हो लेकिन अगर हो तो सोचो, अपने ऊंचे रुतबे के जेरेसाया वो क्‍या नहीं कर सकता !”

“ओह ! ओह ! तो इसलिये ऊपर से हुक्‍म हुआ है कि हमारे प्रेजेंट प्रोजेक्‍ट की किसी को भी कानोकान खबर न लगे ?”
“नाओ यू अंडरस्टैंड ।”
“एक्‍सक्‍यूज मी, सर ।” - डीसीपी नितिन पाटिल बोला - “ऐसे थानेदार पर अंकुश लगाने के और भी तो तरीके हैं !”
“उसे वहां से ट्रांसफर किया जा सकता है । यही कहना चाहते हो न ?”
“ज..जी हां ।”
“किया जा सकता है । सस्‍पेंड करके उसके खिलाफ डिपार्टमेंटल इंक्‍वायरी भी बिठाई जा सकती है लेकिन ये कदम इस वक्‍त नहीं उठाया जा सकता, मौजूदा हालात मैं नहीं उठाया जा सकता ।”

“गुस्‍ताखी माफ, सर, वजह ?”
“सुनने में आया है कि गुजरे वक्‍त के साथ उसने उधर अपनी ऐसी ताकत बना ली है कि वहां से हटाया जाने पर भी वो रिमोट कंट्रोल से आइलैंड का निजाम कंट्रोल कर सकता है ।”
“नये एसएचओ को अपनी कठपुतली की तरह नचा सकता है ?”
“हां ।”
“ओह, नो ।”
“ऐसा ही सुनने में आया है । ऊपर से लोकल म्‍युनिसपैलिटी के प्रेसीडेंट बाबूराव मोकाशी से उसका हाथ और दस्‍ताने जैसा गंठजोड़ है । और ऊपर से खुद कमिश्‍नर साहब का खयाल है कि अपनी नयी स्‍ट्रेटेजी के तहत अगर हम उसे थोड़ी और ढ़ील दें तो उसका ओवरकंफीडेंस ही उसके पतन को कारण बन जायेगा । वो खुद अपना वाटरलू बनेगा । इस सिलसिले में उसकी एक करतूत बुनियाद बन भी चुकी है ।”
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)
Masoom
Pro Member
Posts: 2564
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Thriller सीक्रेट एजेंट

Post by Masoom »

“वो कैसे, सर ?”
“वो ताकत के मद में इतना ऐंठ चुका है कि अपने आपको आइलैंड का बादशाह समझता है । समझता है कि जो कोई भी आइलैंड पर बसा है और बाहर से आकर कदम रखता है, वो उसका सबजैक्‍ट है और वो जैसे चाहे उसके साथ पेश आ सकता है । इसी ऐंठ में हाल में ऐसी करतूत की कि जिन पर एक्‍सपोज्‍ड नहीं भी था, उन पर भी एक्‍सपोज हो गया ।”
“क्‍या किया ?”
“मुम्‍बई से वहां पहुंची मीनाक्षी कदम नाम की एक टूरिस्‍ट महिला को सरेराह रोक लिया । महिला फिल्‍म स्‍टार्स जैसी नौजवान और जगमग बताई जाती है । नार्थ पायर रोड पर अपनी कार ड्राइव करती आ रही थी कि महाबोले की - जो कि तब वर्दी और दारू के दोहरे नशे के हवाले था - उस पर निगाह पड़ी, उसने घुटनों तक लार टपकाई और अपनी जीप उसके रास्‍ते में अड़ा कर उसे रोक लिया, बोला, जिगजैग चला रही थी, चालान होगा । साथ में हिंट देने लगा कि वो उस पर मेहरबान होती तो चालान माफ हो सकता था । महिला ने हिंट न लिया तो बोला हेरोइन की बरामदी दिखा दूंगा, ले जा के हवालात में बंद कर दूंगा, ऐसी दुरगत होगी कि तमाम पालिश उतर जायेगी । उस धमकी से वो महिला घबरा गयी, तलाशी के लिये अपना हैण्‍डबैग पेश करने लग गयी कि उसके पास ड्रग्‍स जैसी कोई चीज नहीं थी । महाबोले ने हैण्‍डबैग खोला और उसमें मौजूद सौ सौ डालर के दो नोट अपने काबू में कर लिये और महिला को चला जाने दिया । ...जंटलमैन, आप सोच रहे होंगे कि ये वाकया हमारे - मुम्‍बई पुलिस के - नोटिस में कैसे आया !”

सबके सिर सहमति में हिले ।
“वो महिला इधर एनसीपी के एक एमपी की करीबी थी, मुम्‍बई पहुंच कर उसने तमाम किस्‍सा एमपी को सुनाया तो एमपी आगबगूला हो उठा, उसे लेकर मंत्रालय में होम मिनिस्‍टर के पास पहुंच गया जो कि कोलीशन सरकार में उसी की पार्टी का है । मिनिस्‍टर ने उसी वक्‍त खड़े पैर हमारे कमिश्‍नर को मंत्रालय में तलब किया जहां कि उस स्‍ट्रेटेजी की बुनियाद बनी जो कि इस वक्‍त अंडर डिसकशन है । होम मिनिस्‍टर की सहमति के अंतर्गत ये फैसला हुआ कि आइलैंड के करप्ट निजाम को थोड़ा अरसा और छूट दी जाये और इस बार कोई ऐसा अंडरकवर एजेंट तलाश किया जाये जो महकमे का हो भी और न भी हो । यानी कि पड़ताल पर जिसका कोई रिश्‍ता महकमे से न जोड़ा जा सकता हो । जिस पर किसी सूरत में पुलिस का भेदिया होने का शक न किया जा सके । यूं हम निर्विवाद रूप से इस बात की तसदीक होने की उम्‍मीद कर रहे हैं कि आइलैंड का निजाम सिर्फ पुलिस और लोकल सिविल एडमिनिट्रेशन की करप्‍शन के हवाले है या वो उन्‍हीं लोगों की मदद से एस्पियानेज का, नॉरकॉटिक्‍स और आर्म्‍स समगलिंग का गढ़ भी बना हुआ है ।”

सबने गम्‍भीरता से सहमति में सिर हिलाये ।
“आइलैंड की बाबत” - जायंट कमिश्‍नर आगे बढ़ा - “हाल ही में एक और बात भी उजागर हुई है कि गोवा का एक बड़ा रैकेटियर वहां मुकाम पाये है । गोवा में उसके कानूनी गैरकानूनी कई जुए के अड्‍डे हैं । अब उसकी नजरेइनायत कोनाकोना आइलैंड पर हुई है तो कोई बड़ी बात नहीं कि वो वहां कोई स्‍वैननैक प्‍वायंट जैसा बड़ा कैसीनो खड़ा करने के ख्‍वाब देख रहा हो ।”
“सर” - डीसीपी पाटिल तनिक प्रतिवादपूर्ण स्‍वर में बोला - “स्‍वैननैक प्‍वायंट पाकिस्‍तान की मिल्कियत था, उस पर हमारा कोई जोर नहीं था, भारत सरकार वहां चलते किन्‍हीं कार्यकलापों की बाबत कोई कदम उठाती थी तो पाकिस्‍तान हल्‍ला करने लगता था और उसे पाकिस्‍तानी टैरीटैरी पर हमला करार देने लगता था । नतीजतन, मजबूरन, भारत सरकार को अपना कदम वापिस लेना पड़ता था । लेकिन कोनोकोना आइलैंड तो भारत है; क्रॉस आइलैंड, बूचर आइलैंड, एलिफेंटा आइलैंड जैसे कई आइलैंड्स की तरह भारत है, वहां किसी गोवानी रैकेटियर की, किसी गेम्‍बलिंग जायंट्स आपरेटर की वैसी पेश कैसे चलेगी जैसी पाकिस्‍तान की सपरपरस्‍ती में बादशाह अब्‍दुल मजीद दलवई की स्‍वैननैक प्‍वायंट आइलैंड पर चली !”

“तफ्तीश का मुद्दा है । जो कि हमारी आइंदा स्‍ट्रेटेजी रंग लाई तो बहुत मुस्‍तैदी से होगी, बहुत बारीकी से होगी ।”
“है कौन वो गोवानी रैकेटियर ?” - एडीशनल कमिश्‍नर दीक्षित ने पूछा ।
“उसका नाम फ्रांसिस मैग्‍नोरो है । कनफर्म हुआ है कि आजकल स्‍थायी रूप से आइलैंड पर मुकाम पाये है और म्‍यूनीसिपल प्रेसिडेंट मोकाशी और एसएचओ महाबोले से उसकी खूब गाढ़ी छनती है । वो तीनों वहां ट्रिपल एम और त्रिमुर्ति जैसे नामों से मशहूर हैं ।”
“चोर चोर मौसेरे भाई ।” - डीसीपी पाटिल के मुंह से निकला ।
“यू सैड इट, पाटिल । ऐन मेरे मुंह की बात छीनी । ब्रावो !”

डीसीपी पाटिल शिष्‍ट भाव से मुस्‍कराया ।
“बहरहाल अब सुरतअहवाल ये है कि हमें एक ऐसा आदमी दरकार है जो किसी पुलिस या एडमिनिस्‍ट्रेटिव बैकिंग की उम्‍मीद न करे, जिसे अपने लोन प्‍लेयर के रोल से गुरेज न हो और जो शेर की मांद में कदम रखने का हौसला कर सके । ऐसा एक आदमी इंस्‍पेक्‍टर महात्रे ने अपने डीसीपी को - नितिन पाटिल को - सुझाया है और पाटिल ने उसका जिक्र आगे कमिश्‍नर साहब से और मेरे से किया है । बेहतर होगा कि उसकी बाबत आगे जो कहना है, वो महात्रे खुद कहे । महात्रे !”
“यस, सर ।” - महात्रे हड़बड़ाया और फिर तत्‍पर स्‍वर में बोला । साथ ही उसने उठकर खड़ा होने की कोशिश की ।

“नो, नो” - तत्‍काल जायंट कमिश्‍नर बोला - “कीप सिटिंग । यू डोंट हैव टु स्‍टैण्‍ड टु बी हर्ड ।”
“यस, सर ! थैंक्‍यू, सर !” - महात्रे बोला, फिर झिझकता, सकुचाता आगे बढ़ा - “वो क्‍या है कि वो भीङू -आदमी - अभी एक साल पहले तक पुलिस के महकमे में ही था - मेरे थाने में, बोले तो ग्रांट रोड थाने में, मेरे साथ एएसएचओ था - करप्‍ट कॉप था, भाई लोगों के हाथों पूरी तरह से बिका हुआ था । लेकिन हालात कुछ ऐसे बने कि जब कि डीसीपी साहब” - उसने अदब से पाटिल की तरफ इशारा किया - “जो कि डीसीपी देशपाण्‍डे साहब के एकाएक रिजाइन कर जाने की वजह से उनकी जगह तब नये नये आये थे - बतौर करप्‍ट कॉप उसकी शिनाख्‍त भी कर चुके थे और उसका सस्‍पेंशन आर्डर तक तैयार हो चुका था, उसने साहब को उन्‍हीं लोगों के खिलाफ खड़ा होने का, जिनका कि वो चमचा बना हुआ था, ऐसा मजबूत इरादा दिखाया कि उसका सस्‍पेंशन आर्डर थोड़े अरसे के लिये रोक लिया गया । हालात कुछ ऐसे बने कि जिन भाई लोगों के हाथों वो पूरी तरह से बिका हुआ था, उन्‍हीं ने उसके छोटे भाई का - जो कि उससे ग्‍यारह साल छोटा था, दादर थाने मे सब-इंस्‍पेक्‍टर था - एक बाहर से बुलाये कांट्रैक्‍ट किलर से कत्‍ल करा दिया । डीसीपी साहब से वादे के तहत और भाई का बदला लेने के इरादे के तहत उसने भाई लोगों के खिलाफ अकेले ही जिहाद छेड़ दिया और उनके साथ एक फेस टु फेस शूट आउट में कंधे मे गोली खा कर गम्‍भीर रूप से घायल हुआ । उसने पकड़े गये भाई लोगों के खिलाफ गवाह बनना कबूल कर दिया इसलिये वादामाफ गवाह का दर्जा पाकर सस्‍ते में छूट गया - खाली नौकरी से बर्खास्‍त किया गया - वर्ना पांच की तो कम से कम लगती ।”

“करैक्‍ट !” - जायंट कमिश्‍नर बोला - “वो आदमी हमारे काम का साबित हो सकता है... होगा ।”
“इंस्‍पेक्‍टर बोला” - एडीशनल कमिश्‍नर की भवें उठीं - “उसके कंधे में गोली लगी थी, वो गम्‍भीर रूप से घायल हुआ था !”
“एक साल पहले ! परसों नहीं !”
“जी !”
“सर” - इंस्‍पेक्‍टर महात्रे जल्‍दी से बोला - “वो पूरी तरह से तंदरुस्‍त हो चुका है । रिकवरी में पूरे पांच महीने लगे थे लेकिन अब वो पर्फेक्‍ट हैल्‍थ में है !”
“गुड !” - जायंट कमिश्‍नर बोला - “पुलिस की नौकरी से गया । अब क्‍या करता है ? दैट इज, अगर कुछ करता है तो !”

“करता है । आज कल वो बांद्रा के एक फैंसी बार का सिक्‍योरिटी इंचार्ज है ।”
“फैंसी नाम ! सिक्‍योरिटी इंचार्ज ! असल में बाउंसर होगा !”
महात्रे खामोश रहा ।
“वो असाइनमेंट को फौरन हाथ में लेने की स्थिति में होगा ?”
“सर, मेरे खयाल से तो होगा !”
“तुम्‍हारे खायाल से ?”
“वो मामूली नौकरी है, छोड़ देने से वैसी कभी भी फिर मिल जायेगी ।”
“लेकिन तुम्‍हारे खयाल से ?”
“मैं...मैं मालूम करूंगा ।”
“कौन है वो ? क्‍या नाम है ? कहां पाया जाता है ?”
महात्रे ने बताया ।
***
नीलेश गोखले बस पर सवार हो कर खार पहुंचा और आगे उस सड़क पर बढ़ा जिस पर आचार्य अत्रे का धर्मार्थ सेवा आश्रम था ।

आचार्य जी नीलेश के पिता की जिंदगी में पिता के अभिन्‍न मित्र थे और तब भी और आज एक अरसा पहले हो चुकी पिता की मौत के बाद भी, गोखले परिवार के कुल गुरु का दर्जा रखते थे । उसके स्‍वर्गीय भाई राजेश गोखले की आचार्य जी पर उसके मुकाबले में कहीं ज्‍यादा निष्‍ठा थी, इतनी कि वो अपनी जिंदगी का कोई भी अहम काम आचार्य जी से सलाह किये बिना नहीं करता था । राजेश गोखले एक नौजवान, निष्‍ठावान, कर्मठ पुलिस अधिकारी था जो, उसकी बदकिस्मती थी कि, भाई लागों के एक शूटर शिवराज सावंत की करतूत का चश्‍मदीद गवाह बन गया था, उसने दादर के एक होटल में दशरथ हजारे नाम के एक अपने भाई लोगों से एंटी, नॉरकॉटिक्‍स डीलर की लाश गिराई थी और धुआं उगलती गन लेकर अभी उसके सिर पर खड़ा था कि राजेश गोखले वहां पहुंच गया था और नाहक, अपनी बदकिस्मती से, उसके खिलाफ चश्‍मदीद गवाह बन गया था ।

खुद नीलेश उन्‍हीं भाई लोगों के हाथों बिका करप्‍ट पुलिसिया था जिसको भाई लोगो का हुक्‍म हुआ था कि वो अपने भाई को गवाही से रोके वर्ना ‘वो जान से जायेगा और तू भाई से जायेगा’।
उस तमाम हाई टेंशन ड्रामे का अंत ये हुआ था कि कोर्ट में गवाही दे पाने से पहले ही उसका भाई मारा गया था, फाइनल एनकाउंटर में टॉप भाई अन्‍ना रघु शेट्‍टी मारा गया था, उसका नैक्‍स्‍ट इन कमांड सायाजी घोसालकर फरार होता गिरफ्‍तार हो गया था, गैंग के कई नामलेवा मवाली भी गिरफ्तार हो गये थे, और खुद वो अन्‍ना रघु शेट्‍टी की गोली खाकर मरता मरता बचा था । गोली उसके कंधे में लगी थी, छाती में लगती तो वो ठौर मारा गया होता । गोली की वजह से कंधे की हड्‍डी बुरी तरह से टूटी थी, नतीजतन एक ही जगह पर तीन बार हुई सर्जरी की वजह से उसे पूरे पांच महीने हस्‍पताल में काटने पड़े थे, और अभी दो महीने और घर पर पूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य लाभ करने में लगे थे ।
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)
Masoom
Pro Member
Posts: 2564
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Thriller सीक्रेट एजेंट

Post by Masoom »

सारे वाकये के बाद मीडिया ने - खास तौर से, कर्टसी अनूप जोशी, रिपोर्टर ‘एक्‍सप्रैस’ ने - उसे बड़ा बिल्‍ड अप दिया था, उसको बाकायदा हीरो की तरह प्रोजेक्‍ट किया गया था, लेकिन ऐन उसी वजह से ये बात छुपी रहना मुहाल हो गया था कि असल में वो उन्‍हीं भाई लोगों का भड़वा था, अपने भाई की मौत का बदला लेने की खातिर आखिरकार वो जिनके खिलाफ हो गया था । उसका गिरफ्तार होना और जेल जाना लाजमी, महज वक्‍त की बात, हो गया था । खुद उसके एसएचओ महात्रे ने हस्‍पताल आ के उसे बताया था कि उसे कम से कम पांच साल की लगती जिससे निजात पाने का एक ही तरीका था कि वो भाई लोगों के खिलाफ - खासतौर से सायाजी घोसालकर के खिलाफ - कोर्ट अप्रूवर बन जाता । ‘मरता क्‍या न करता’ के अंदाज से उसने वो पेशकश कबूल की थी, नतीजतन जेल जाने से बच गया था लेकिन नौकरी से निकाले जाने की शर्मिंदगी उसे उठानी पड़ी थी, खड़े पैर बेरोजगार होना उसे कबूलना पड़ा था ।

बकौल महात्रे, वो उसका ऐन सही कदम था, पांच साल जेल में काटने के मुकाबले में बर्खास्‍तगी की जिल्‍लत और बेरोजगारी की लानत मामूली सजायें थीं ।
खुद आचार्य अत्रे ने भी उसके उस कदम को सही ठहराया था और साधुवाद से नवाजा था कि वो अपनी शुद्धि की, अपने प्रायश्चित की, गुड सन बनने की राह पर था । आचार्य जी ने उसे ‘सुबह का भूला’ करार दिया था जो कि ‘शाम को घर लौटा था’, उसको बीती बिसार के आगे की सुध लेने की राय दी थी और आश्‍वासन दिया था कि ‘आज से तुम्‍हारा नया जीवन शुरु होता है’ ।

लेकिन वो तमाम आशाजनक, उत्‍साहवर्धक बातें मनोबल ऊंचा करने के ही काम की थीं, लोकाचार में उनकी कोई अहमियत नहीं थी, कोई कीमत नहीं थी, वो उसे किसी सम्‍मानजनक नौकरी में पुनर्स्थापित करने में सर्वदा अक्षम थीं । वक्‍त के साथ लोगबाग भूल जाते तो भूल जाते कि वो पुलिस के महकमे से ‘डिसग्रेसफुली डिसमिस्‍ड’ इंस्‍पेक्‍टर था, फिलहाल तो मुम्‍बई शहर में उससे और उसकी जात औकात से हर कोई वाकिफ था । लिहाजा हर ढ़ण्‍ग की नौकरी की जगह से उसको एक ही जवाब मिलता था:
अभी कोई वेकेंसी नहीं है, एप्‍लीकेशन छोड़ के जाने का, बोलेंगे ।
बोलता कोई नहीं था ।

उसकी मौजूदा - समथिंग इज बैटर दैन नथिंग जैसी - नौकरी बांद्रा के ‘पिकाडली’ नाम के एक बार में थी जिसकी कहने को वो सिक्‍योरिटी आफिसर था लेकिन असल में लेट नाइट आवर्स में अतिरिक्‍त चुस्‍त, चाकचौबंद और चौकस रहने वाला बाउंसर था क्‍योंकि खूबसूरत बारबालाओं के लिये मशहूर उस बार में कोई गलाटा होता था तो रात दस और एक बजे कि बीच ही होता था । ऊपर से और डाउनग्रेडिंग बात ये थी कि वो दिहाड़ी मजदूर था - महीना तनखाह पर नहीं, हजार रुपये रोजाना पर वहां ड्‍यूटी करता था ।
‘सब दिन जात न एक समान ।’ - होंठों में बुदबुदाते हुए उसने आश्रम में कदम रखा ।

और ‘संचालक’ का पट लगे आफिस में आचार्य जी के रूबरू हुआ ।
उसने करबद्ध अभिवादन किया ।
“आओ” - आचार्य जी स्‍वभाववगत मीठे स्‍वर में बोले - “बिराजो ।”
“धन्‍यवाद ।” - नीलेश उनके सामने एक कुर्सी पर बैठा ।
आचार्य अत्रे आयु में पैंसठ वर्ष के चौकस तंदुरुस्‍ती वाले व्‍यक्ति थे; लम्‍बी दाढ़ी, मूंछ और कन्धों तक आने वाले बाल रखते थे, भगवा वस्‍त्र पहनते थे और गले में रुद्राक्ष की डबल माला पहनते थे । उनके व्‍यक्तित्‍व का प्रताप ऐसा था कि सामने पड़ने वाला स्‍वयं ही नतमस्‍तक हो जाता था ।
“कैसे आये ?” - वो मुस्‍कराते हुए बोले - “बल्कि पहले बोलो, अब तंदुरुस्‍ती कैसी है ?”

“ठीक है ।”
“कंधा प्राब्‍लम नहीं करता ?”
“अब नहीं करता ।”
“ये शुभ समाचार है । अब बोलो, कैसे आये ?”
“स्‍वार्थ लाया ।”
आचार्य जी की भवें उठीं ।
“दिशाज्ञान की जरुरत लायी ।”
“हम समझे नहीं ।”
“मेरे सामने एक पेशकश है जिसकी बाबत कोई तुरंत, तत्‍पर फैसला कर पाने में मैं खुद को अक्षम पाता हूं इसलिये अपकी शरण में आया हूं ।”
“क्‍या पेशकश है ?”
“पेशकश पुलिस के महकमे से है....”
“जिसका कि तुम कभी हिस्‍सा थे !”
“जी हां ।”
“आगे बढ़ो ।”
“पुलिस के टॉप ब्रास की, होम मिनिस्ट्रिी तक की, सहमति प्राप्‍त उनका एक बड़ा, जानजोखम वाला, प्रोजेक्‍ट है जिसके लिये उनकी दरकार एक ऐसा शख्‍स है जो पुलिस का अपना हो, पूरेभरोसे का हो, पूरी तरह से उनके कंट्रोल में हो फिर भी जिसका किसी भी तरीके से पुलिस के महकमे से कोई रिश्‍ता न जोड़ा जा सके । जिसकी पड़ताल हो तो किसी दूरदराज के तरीके से भी उसकी कोई कड़ी पुलिस से - या पुलिस जैसे किसी महकमे से, जैसे सीआईडी, इंटेलीजेंस ब्‍यूरो, स्‍पेशल टास्क फोर्स - से जुड़ती न पायी जाये, जो किसी पुलिस या एडमिनिस्‍ट्रेटिव बैकिंग की उम्‍मीद न करे, जो जो कुछ भी करे अपने, अकेले के बलबूते पर करे; लगन से, मेहनत से, मशक्‍कत से, मुकम्‍मल जिम्‍मेदारी से करे और कामयाब होकर दिखाई । मेरे को साफ बोला गया है कि ये शेर की मांद में कदम रखने जैसा काम होगा ।”

“जो खुद शेर हो, उसको शेर की मांद में कदम रखने में भला क्‍या खतरा होगा ? हासिल क्‍या है ?”
“जी !”
“जो तुमसे उम्‍मीद की जाती है, वो कर गुजरो तो तुम्‍हें क्‍या मिलेगा ?”
“मुझे क्‍या मिलेगा ?”
“भई, सोशल सर्विस तो नहीं चाहते होंगे वो लोग तुम से ! तुम उनका इतना बड़ा काम करना कबूल करोगे, करने में कामयाब हो जाओगे तो बदले में वो भी तो कुछ करेंगे या नहीं ! सहजबुद्धि में यही आता है कि बड़े काम का कोई बड़ा ईनाम भी तो पहले से मुकर्रर होना चाहिये ! है ?”
“जी हां, है ।”

“क्‍या ?”
“मुझे मेरी नौकरी पर बाइज्‍जत बहाल कर दिया जायेगा ।”
“ऐसा ?”
“जी हां ।”
“ये फर्म आफर है ?”
“जी हां । खुद कमिश्‍नर की । होम मिनिस्‍टर की एनडोर्समेंट के साथ ।”
“तुम फिर नीलेश गोखले, इंस्‍पेक्‍टर मुम्‍बई पुलिस !”
“कामयाब हुआ तो !’’
“फौरन हां बोलो, बेटा । ये सोच कर फौरन से पेश्‍तर हां बोलो कि जिस नौकरी ने तुम्‍हें कलंकित किया, वही अब तुम्‍हारे पाप धोयेगी । उनकी पेशकश कबूल करो और अपनी हिम्‍मत और मेहनत से उनकी उम्‍मीदों पर खरा उतर कर दिखाओ, ऐसा करतब करके दिखाओ कि खुद तुम्‍हें अपने आप पर अभिमान हो कि ये काम तुमने, सिर्फ तुमने किया ।”

“जी ।”
“बाकी रही जान जोखम की बात तो जोखम कहां नहीं है, बेटा ! जो शख्‍स जोखम से खौफ खाता है, उसके लिये तो हर कदम पर जोखम है । वो दरख्‍त परवान नहीं चढ़ सकता जिसे हर वक्‍त अपने पर बिजली गिरने का खतरा सताता हो । बेटा, जीवन का परमानंद उसी काम को अंजाम देने में है जो लोगों को लगे - खुद आपको लगे - कि आप नहीं कर सकते । नहीं ?
“जी.. जी हां ।”
“फिर मौत से क्‍या डरना ! मौत तो जिंदगी का आखिरी अंजाम है । अन्‍ना रघु शेट्‍टी नाम के उस बड़े मवाली से मुठभेड़ में जो गोली तुम्‍हारे कंधे पर लगी, वो माथे पर भी तो लग सकती थी ! मौत किस को बख्‍शती है ! सबको आनी है...सबको आती है ! राजा और रंक में फर्क किये बिना आती है । लंकापति रावण गया, बीस भुजा दस शीष; तो एक शीष का मानव किस बूते पर मौत के सामने इतरा सकता है !”

“नहीं इतरा सकता ।”
“मौत और जिंदगी एक ही सिक्‍के के दो पहलू हैं, बेटा । मौत से डरना जिंदगी से डरने के समान है । जो लोग मौत से डरते हैं, समझो वो पहले ही तीन चौथाई मर चुके हैं । तुम अपना शुमार ऐसे लोगों में चाहते हो ?”
“हरगिज नहीं ।”
“नया सूरज निकलता है तो हर कोई कहता है कि मेरी बाकी जिंदगी का पहला दिन है, इसलिये मैंने कुछ नया, कुछ रचनात्‍मक करके दिखाना है । क्‍या कोई कहता है कि वो उसकी गुजरी जिंदगी का आखिरी दिन है इसलिये बस, अब कुछ करने की जरूरत नहीं ! नहीं कहता । क्‍यों नहीं कहता ? क्‍योंकि इस मामले में हर कोई प्रबल आशावादी है, हर किसी को यकीन है कि वो सौ साल जियेगा । कोई उन बंधुबांधवों से भी सबक नहीं लेता जो सौ के स्कोर के करीब भी न फटक सके, उलटे ये कह के खुद को तसल्‍ली देता है कि वो तकदीर के हेठे थे, मेरी बात जुदा है, । वास्‍तव में किसी की बात जुदा नहीं, कोई नहीं जानता कि जिंदगी की डोर कहां जा के टूटने वाली है । पानी केरा बुदबुदा, उस मानुष की जात; देखत ही छिप जायेगा, ज्‍यों तारा प्रभात । ऐसे क्षणभंगुर जीवन को एक आशा, एक आत्‍मश्‍लाघा के सहारे निष्क्रिय हो कर जीना अच्‍छा है या कुछ नया, कुछ अनोखा, कुछ चमत्‍कारी कर गुजरते जीना अच्‍छा है ? सिकंदर ने दुनिया फतह की, उसको मौत का अंदेशा सताता होता तो उसने मकदूनिया से बाहर भी कदम न रखा होता । तमाम नामुमकिन कामों को ऐसे लोगों ने अंजाम दिया है जिनको खबर ही नहीं थी कि वो काम नामुमकिन थे, नहीं किये जा सकते थे । तुम अपना नाम ऐसे लोगों में शुमार देखना चाहते हो तो एक जोश, एक जुनून, एक तड़प के साथ, उस मुहाज पर निकलो जिसमें कामयाबी तुम्‍हारे आने वाली जिंदगी में आमूलचूल परिवर्तन ला देगी, उसके ऐसा संवार देगी कि गुजरी जिंदगी से गिला करना भूल जाओगे । बेटा, वो जिंदगी का सफर हो या जंग का मैदांन मुहाज कोई भी हो, हौसला जरुरी है । क्‍या पोजीशन है तुम्‍हारी इस मद में ?”
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)
Masoom
Pro Member
Posts: 2564
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Thriller सीक्रेट एजेंट

Post by Masoom »

“हौसले की कोई कमी नहीं, आचार्य जी, विचलित मन को एक आसरे की जरूरत थी जो हासिल हो गया । दिशाज्ञान की जरूरत थी जो अर्जित कर लिया, आप जैसे प्रतापी पुरुष के आशीर्वाद की जरूरत थी जो प्राप्‍त हो गया । मैं अभी दादर का रुख करता हूं और डीसीपी नितिन पाटिल के आफिस में जाकर अपनी स्‍वीकृति दर्ज कराता हूं ।”
“हम दिन प्रतिदिन तुम्‍हारी सफलता के लिये प्रार्थना करेंगे ।”
“अहोभाग्‍य, आचार्य जी । प्रणाम !”
“जीते रहो, बेटा ! सफलता तुम्‍हारे चरण चूमे ।”
***
नीलेश गोखले को कोनाकोना आइलैंड पर बारह दिन हो चुके थे ।

उसकी मुलाजमत - जो कि बिना दिक्‍कत उसे पहले ही दिन हासिल हो गयी थी - उस बार में थी जो कि कोंसिका क्‍लब के नाम से जाना जाता था । बार की सारी रौनक शाम को ही होती थी अलबत्ता खुल वो ग्‍यारह बजे जाता था जबकि इक्‍का दुक्‍का टूरिस्‍ट की आवाजाही वहां चल पड़ती थी ।
उस वक्‍त दोपहरबाद के चार बजे थे जबकि बार में बियर चुसकने मुश्किल से चार पांच लोग मौजूद थे ।
उसको वहां बतौर बाउंसर रखा गया था लेकिन वहां वो उसका इकलौता काम नहीं था, बारमैन गोपाल पुजारा - जो कि बार का मालिक भी था - की गैरहाजिरी में - या रश आवर्स में उसकीमौजूदगी में - उसे बारमैन का रोल अदा करना पड़ता था जिसमें बार सर्विस के अलावा भीतर से धुल कर आये गीले गिलास सुखाने, चमकाने की ड्‍यूटी भी शामिल थी; पढ़ा लिखा था, इसलिये कभी चिट क्‍लर्क को रिलीफ की जरूरत हो तो उसकी जगह भी बैठना पड़ता था ।

मुम्‍बई के पिकाडली बार की अपनी डेली वेजिज वाली जिस एम्‍पालायमेंट को वो निरंतर कोसता था, वो ही अब उसके काम आयी थी और उसकी मौजूदा मुलाजमत की बुनियाद बनी थी । दूसरे, पुजारा ने उसे खुद बताया था कि उसकी ‘पिकाडली’ से बहुत व्‍यापक पड़ताल करवाई भी जा चुकी थी ।
अपना घर का पता वहां उसने खार का आचार्य अत्रे के सेवा आश्रम का बताया था जहां कि आचार्य जी के उसके पिता के जीवन में पिता से दोस्‍ती के मुलाहजे में उसे रहने को एक कमरा स्‍थायी रूप से मिला हुआ था जिसके बदले में वो आश्रम के कई छिटपुट काम बतौर वालंटियर करता था । उसने पहले से सुनिश्‍चित किया हुआ था कि वहां से उसकी बाबत कोई पड़ताल होती तो माकूल जवाब मिलता ।

खामोशी और शांति की बार की उस घड़ी के माहौल में तब वो शीशे के प्रवेश द्वार के पीछे खड़ा था और बाहर सड़क पर झांक रहा था जहां कि उसे बावर्दी हवलदार जगन खत्री अलसाये भाव से कभी एक कभी दूसरा हाथ हिलाता सड़क पर ट्रैफिक को डायरेक्‍ट करता दिखाई दे रहा था । उसकी अपनी ड्‍यूटी में कितनी तवज्‍जो थी, कितनी जिम्‍मेदारी थी वो इसी से जाहिर था कि उसके होंठों में सुलगता सिग्रेट लगा हुआ था ।
अपनी आइलैंड की बाहर दिन की संक्षिप्‍त हाजिरी में ही नीलेश इस हकीकत से वाकिफ हो चुका था कि पुलिस को वो बावर्दी हवलदार एक छोटे लैवल का बुकी भी था - मटके और सट्‌टे के दांव भी कलैक्‍ट करता था, नीलेश को मालूम हुआ था कि पांच साल में दो बार सस्‍पेंड हो चुका था लेकिन विभागीय कार्यवाही में दोनों बार उसके खिलाफ कुछ साबित नहीं हुआ था - दोनों बार खुद एसएचओ अनिल महाबोले उसकी कर्मठता और कर्तव्‍यपरायणता का जामिन बना था, नतीजतन हवलदार जगन खत्री का सस्‍पेंशन वापिस हो गया था और वो उसी ड्‌यूटी पर बहाल कर दिया गया था जो उसके बुकी वाले साइड रोल के लिये बहुत सुविधाजनक थी ।

उसके द्वारा तब तक जमा की जानकारी मुम्‍बई पुलिस हैडक्‍वार्टर के टॉप ब्रास तक पहुंच भी चुकी थी लेकिन - वो खुद ही जानता था कि - वो अभी किसी एक्‍शन के लिये काफी नहीं थी । बहरहाल बॉल का लुढ़कना शुरू हो चुका था और जाहिर था कि देर सबेर उसने रफ्तार भी पकड़नी थी ।
उसकी निगाह हवलदार जगन खत्री पर से उचटी तो पैन होती जाकर सड़क के पार की विशाल, भव्य, विक्‍टोरियन स्‍टाइल में अंग्रेज के जमाने की बनी - आखिर वो आइलैंड भी तो एक ब्रिटिश गवर्नर की खोज था - एक विशाल दोमंजिला इमारत पर पड़ी जो कि आइलैंड का सबसे बड़ा और इकलौता स्‍टार रेटिंग वाला होटल था । स्‍थापना के वक्‍त से होटल का नाम ड्‌यूक्स था लेकिन हाल ही में उसे पणजी की इम्‍पीरियल रिजार्ट्स नाम की एक कम्‍पनी ने खरीदा था और सौ साल पुराने उस नाम को बदलकर ‘इम्‍पीरियल रिट्रीट’ रख दिया था ।

फ्रांसिस मैग्‍नारो इम्‍पीरियल रिजार्ट्स नामक कम्‍पनी का मैनेजिंग पार्टनर बताया जाता था । उस होटल की पहली मंजिल के लैफ्ट विंग में उसका आफिस था जहां वो हमेशा पाया जाता था अलबत्ता रहता वो झील के करीब के पहाड़ी इलाके के एक कॉटेज में था । होटल में उसका ‘ब्‍लू डायमंड’ नाम का अपना बार था जो शाम सात बजे के बाद कैब्रे जायंट में तब्‍दील हो जाता था और जब तक कस्‍टमर्स चाहें - कई बार तो सवेरे के चार बजे जाते थे - चलता था । जानकार कहते थे कि ज्‍यों ज्‍यों रात ढ़लती जाती थी, कैब्रे बोल्‍ड होता जाता था, लिहाजा आधी रात के बाद कैब्रे जायंट नहीं, स्ट्रिप जायंट बन जाता था - डांसर्ज अपने तन के आखिरी दो कपड़े - बिकिनी ब्रा और जी-स्ट्रिंग - भी उतार फेंकती थीं ।

ये सब वहां राज्‍य के कायदे काननू की धज्जियां उड़ाते शरेआम, बेखौफ होता था ।
वजह का नाम अनिल महाबोले था जो कि आइलैंड के इकलौते थाने का थानेदार था और ‘ब्‍लू डायमंड’ के प्राफिट में शेयरहोल्‍डर था ।
गोवानी रैकेटियर के लिये उसका दर्जा ‘सैय्यां भये कोतवाल’ का था ।
कैब्रे जायंट के स्ट्रिप जायंट बन जाने के बाद वहां सर्विस का स्‍टाइल ये था कि मेहमान का गिलास खाली दिखते ही उसको नया जाम सर्व हो जाता था, भले ही वो उसने आर्डर किया हो या न किया हो शराब के साथ साथ शबाब के नशे में झूमते मेहमान को तब वो जाम वैलकम जान पड़ता था, ये बात दीगर थी कि जब बिल आता था तो कितने ही मेहमानों के दोनों नशे हवा हो जाते थे ।

‘वांदा नहीं’ - तब उनका फिलासोफिकल कमैंट होता था - ‘एनजाय तो फुल किया न !’
दूसरे, वहां मुम्‍बई स्‍टाइल में नोट उड़ाने के लिये भी मेहमानों को प्रोत्‍साहित किया जाता और जैसे नोट मेहमान उड़ाना चाहे, वैसे उसे सप्‍लाई भी मैनेजमेंट करता था जो कि बाद में उसके बिल में चार्ज हो जाते थे । उस प्रोत्‍साहन में सारे मेहमान तो नहीं फंसते थे लेकिन आधे भी फंस जाते थे, एक चौथाई भी फंस जाते थे तो मैनेजमेंट की चांदी थी ।
मैनेजमेंट की डांसर बालाओं की नहीं ।
मेहमान को यही बताया जाता था कि उसके डांसरों पर उड़ाये नोट डांसरों के ही हिस्‍से में आते थे लेकिन हकीकत ऐसा नहीं था । डांसर बालायें वहां फिक्‍स्‍ड सैलेरी पर काम करती थीं, स्‍टेज पर बरसे नोटों को हाथ लगाने की भी उनको इजाजत नहीं थी । अगर वो एक्स्ट्रा इंकम चाहती थीं तो उसके लिये एक जुदा जरिया था । किसी खास कद्रदान, शौकीन मेहमान के लिये होटल के एक प्राइवेट रूम में उसकी स्ट्रिपटीज की प्राइवेट परफारमेंस का - और भी जैसी परफारमेंस मेहमान चाहे - इंतजाम किया जाता था जिसका इकलौता दर्शक वो मेहमान होता था । नशे और अमीरी के मद में ऐसा कोई कोई मेहमान तो लड़की पर इतनी बड़ी रकम न्‍योछावर कर जाता था कि खुद उसकी आंखें फट पड़ती थीं ।

वो तमाम जानकारी गुजश्‍ता बारह दिनों में नीलेश ने बड़ी एहतियात से, बड़ी मेहनत से हासिल की थी । तब उसने ये तक कोशिश की थी कि कोंसिका क्‍लब की जगह उसे होटल में नौकरी मिल जाती लेकिन वो मुमकिन नहीं हो सका था । होटल की मुलाजमत के जुदा ही रूल थे जिनके तहत खड़े पैर किसी ‘नवें भीङू को’ वहां नौकरी मिल पाने की कोई गुंजायश नहीं थी । होटल का निजाम बहुत ही भरोसे के मुलाजिमों के आसरे चलता था जो कि - भरोसे का मुलाजिम - खड़े पैर कोई ‘नवां भीङू’ नहीं बन सकता था ।

बावजूद अपनी इस नाकामी के नीलेश इतना भांपने में कामयाब हो गया था कि उस विशाल होटल की दूसरी मंजिल की बहुत खास अ‍हमियत थी । वहां एक बिलियर्ड रूम था जो कि असल में एक मिनी कैसीनो था । वैसे दिखावे को वहां दो बिलियर्ड टेबल्‍स थीं लेकिन वहां का प्रमुख आकर्षण ब्‍लैकजैक नाम के जुए की कुछ टेबल थीं, एक रॉलेट व्‍हील था और कई स्‍लॉट मशीन थीं ।
कथित बिलियर्ड रूम की बाजू में एक कदरन छोटा कमरा और था जो कि खास तौर से रम्‍मी और तीन पत्ती के शौकीनों के लिये था । अमूमन वीकएण्‍ड्स पर या छुट्‌टी वाले दिनों में ही कोई नामलेवा रौनक हो पाती थी लेकिन बिलियर्ड रूम की रौनक छुट्‌टी या वीकएण्‍ड की मोहताज नहीं थी ।

उन दो कमरों की सुरक्षा और अमनचैन को सुनिश्‍चित करने के लिये वहां होटल के मसलमैन तो होते ही थे, सादे कपड़ों में थाने के स्‍टाफ के चंद लोग भी वहां कोई बद्इंतजामी, कोई गलाटा न होने देने के लिये तैनात होते थे ।
ये एक बहुत चौंकाने वाली जानकारी थी जो नीलेश के हाथ लगी थी और हैडक्‍वार्टर को भेजी अपनी रिपोर्ट में जिसे उसने खासतौर से हाईलाइट किया था ।
वहां के मसलमैन के इंजार्ज, सिक्‍योरिटी चीफ कहलाने वाले, शख्‍स का नाम रोनी डिसूजा था ।
आइलैंड की इकलौती झील वहां से करीब ही थी । उस झील के उस ओर के वैस्‍टएण्‍ड कहलाने वाले किनारे के करीब खुश्‍की का एक विशाल खण्‍ड पानी में से सिर उठाये था जिस पर शीशे के खिड़की दरवाजों वाली एक इमारत स्‍थापित थी जिसके चारों तरफ रंग बिरंगे फूलों और मखमली घास से सजे लान थे । वो जगह मनोरंजन पार्क कहलाती थी और खुश्‍की से उस तक पहुंचने के लिये एक लोहे का संकरा पुल उपलब्‍ध था जो संकरा होने के कारण पैदल पारपथ के रूप में उपयोग में लाये जाने के ही काबिल था ।

“है न टांग देने के काबिल, साला हलकट !”
नीलेश हड़बड़ाकर वापिस घूमा ।
मेन डोर से शुरू होने वाली केबिनों की कतार के पहले केबिन के साथ पीठ टिकाये रोमिला सावंत खड़ी थी और मुस्‍कराती हुई उसकी तरफ देख रही थी । वो खुले खुले हाथ पांव वाली, कटे बालों वाली, लम्‍बी ऊंची, गोरी, खूबसूरत लड़की थी, उस घड़ी वो घुटनों तक आने वाली टाइट स्‍कर्ट और मैचिंग स्‍कीवी पहने थी जिसमें वो खूब जंच रही थी । उसका वक्ष उन्‍नत था, कमर पतली थी और कूल्हे भारी थे । नीलेश का उसकी उम्र का अंदाजा पच्‍चीस-छब्‍बीस का था । कहने को वो वहां की होस्‍टेस थी लेकिन हकीकत में उस जैसी और कई नौजवान लड़कियों की तरह बारबाला, एंटरटेनर, पार्ट टाइम प्रास्‍टीच्यूट, कालगर्ल, सब कुछ थी । बार की ऐसी लड़कियों का प्रमुख काम मेहमानों की जेब हल्‍की करना था - जैसे भी वो कर पायें ।

“हल्‍लो !” - नीलेश बोला ।
वो और मुस्‍कराई ।
“किसकी बात कर रही हो ?”
“तुम्‍हें मालूम है ।”
“फिर भी !”
“जो अभी तुम्‍हारी निगाह में था ।”
“कौन ?”
“मेरे से ही कहलवाओगे ! वो घोड़े की दुम हवलदार !” - उसने बाहर की तरफ उंगली उठाई - “जगन खत्री !”
“ओह !”
“इतनी देर से नोट कर रही हूं, क्‍यों ताड़ रहे थे उसे ? क्‍या भा गया उसमें ?”
“कुछ नहीं ।”
“खामखाह कुछ नहीं ! कोई दो हफ्ते यहां हो, मैंने पहले भी दो तीन बार तुम्‍हें उसको ताड़ते देखा है ।”
“माई डियर, क्‍योंकर तुम्‍हें ये बात मालूम है ? क्‍योंकि तुम मुझे ताड़ती हो !”

“मैं क्‍या अकेली ? यहां की सारी लड़किया तुम्‍हें ताड़ती हैं । जादू कर दिया हुआ है तुमने सब पर । जिसको बोलोगे - इशारा भी करोगे - तुम्‍हारी खाट बनने को तैयार हो जायेगी ।”
“क्या बात करती हो !”
“आजमा के देखो ।”
“भले ही तुम्‍हें आजमा के देखूं ?”
“मेरे को मंजूर !”
नीलेश हंसा ।
वो उनतालीस साल का था, विधुर था, सात साल पहले, शादी के दो साल बाद उसकी बीवी उसे औलाद का मुंह दिखाने वाली थी तो चाइल्‍डबर्थ की कम्‍पलीकेशंस में जच्‍चा बच्‍चा दोनों मर गये थे । तब से आज तक उसने घर बसाने की कोई कोशिश नहीं की थी, फीमेल अटेंशन से, फीमेल कम्‍पेनियनशिप से कोई परहेज अलबत्ता उसे नहीं था ।

“पास आ ।” - वो बोला ।
“क्‍या इरादा है ?” - रोमिला ने नकली हड़बड़ाहट जताई - “क्‍या यहीं...”
“स्‍टूपिड !”
कुटिल भाव से मुस्‍कराती वो उसके करीब आकर खड़ी हुई ।
“इस आदमी का किरदार अनोखा है” - नीलेश दबे स्‍वर में बोला - “मेरे जेहन से निकलता ही नहीं । पुलिस का मुलाजिम ! बावर्दी, तीन फीतियों वाला हवलदार ! साथ में मटका कलैक्‍टर ! सट्‌टा आपरेटर ! सोचने भर से दिमाग घूम जाता है ।”
“अभी तो तुमने कुछ भी नहीं देखा । ये लंका है, यहां सारे बावन गज के हैं ।”
“हैरानी है !”

“हो लो हैरान ! हैरान होने की कौन सी फीस लगती है !”
“ठीक ।”
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)
Masoom
Pro Member
Posts: 2564
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Thriller सीक्रेट एजेंट

Post by Masoom »

“लोग जुआ खेलना चाहते हैं उन्‍हें कौन रोक सकता है ! प्रास्‍टीच्‍यूशन की तरह जुए को भी कोई मुल्‍क, कोई सरकार, कोई निजाम नहीं रोक सकता । सदियों से ये लानत हैं, सदियों से इनको रोकने की ग्‍लोबल कोशिशें हैं । न इन लानतों पर अंकुश लगता है, न कोशिशों में कमी आती है । बड़ी हद हुआ है तो ये हुआ है कि कोशिशों की मुतवातर नाकामी से आजिज आकर कई मुल्‍कों ने प्रास्‍टीच्‍यूशन और गेम्‍बलिंग दोनों पर से रोक हटा दी है । लास वेगास को देखो, पूरा एक शहर ही गेम्‍बलिंग को समर्पित है । कोलम्बो और काठमांडू को देखो जहां कैसीनो न हों तो टूरिस्‍ट ट्रेड की कमर ही टूट जाये । मोंटे कार्लो में दुनिया भर से धनकुबेर बोरों में नोट लेकर पहुंचते हैं जुआ खेलने के लिये । स्‍वीडन में वेश्‍यायें डाक्‍टरों, वकीलों की तरह रजिस्‍टर्ड हैं और धंधे की कमाई पर बाकायदा इंकम टैक्‍स भरती हैं । बैंकाक सैक्‍स टूर्स के लिये सारे योरोप में मशहूर है, ऐसा लगता है जैसे वहां की हर नौजवान लड़की को प्रास्‍टीच्‍यूशन के अलावा कोई काम ही नहीं है । यहां इंडिया में ही प्रास्‍टीच्‍यूशन इतना प्राफीटेबल धंधा बन गया है कि रूस से नौजवान लड़कियां धंधा करने के लिये, पैसा कमाने के लिये टूरिस्‍ट वीसा पर यहां आती हैं, सूटकेस भर नोट कमा के लौट जाती हैं, फिर आ जाती हैं । कभी किसी ने सोचा था कि सैक्‍स भी इम्‍पोर्ट की आइटम बन जायेगी...”

“तुम तो लैक्‍चर देने लगी !”
“सारी ! मैं दरअसल कहना ये चाहती थी कि लोगबाग मटका या सट्टा यहां खेलते हैं तो एजेंट की कमीशन की कमाई यहां होती है, कहीं और जाके खेलेंगे तो इधर से तो वो कमाई गयी न !”
“इसलिये पुलिस का हवलदार पार्ट टाइम मटका कलैक्‍टर ! सट्टा एजेंट !”
“अरे भई, जब उसके अफसर को, थानाध्‍यक्ष को, उसकी करतूतों से ऐतराज नहीं तो तुम्‍हें भला क्‍यों होना चाहिये !”
“लेकिन शरेआम...”
“तो भी तुम्‍हें क्‍या !’
“तुम्‍हारा भी यही रवैया है ! मुझे क्‍या ?”
“मोटे तौर पर । लेकिन फिर है भी !”

“मतलब ?”
“जो रेवड़िया यहां बंट रही हैं, जिनका यहां खुल्‍ला दरबार हे, उसमें मेरे हिस्‍से का साइज चिडि़या की बीट जैसा है ।”
“अगर तुम्‍हारे हिस्‍से के साइज में इजाफा हो जाये तो तुम्‍हें किसी बात से कोई ऐतराज नहीं ?”
“फिर काहे को होगा, भई !”
“कमाल है ! तुम मेरी समझ से बाहर हो ।”
“शुक्र मनाओ कि पकड़ से, पहुंच से बाहर नहीं हूं । खुद तसदीक करना चाहो तो आज लेट नाइट में टाइम है मेरे पास । बोलो, क्‍या ....”
“गोखले !”
नीलेश ने हड़बड़ाकर सिर उठाया तो पाया बार पर से पुजारा उसे बुला रहा था ।

“बॉस बुलाता है । जाता हूं ।”
“हिज मास्‍टर्स काल !” - रोमिला व्‍यंग्‍यपूर्ण स्‍वर में बोली ।
“आफ कोर्स !”
वो लपकता हुआ बार के पीछे पहुंचा और पुजारा के निर्देश पर एप्रन पहन कर गिलास चमकाने में जुट गया ।
बार में तक कुछ और ग्राहकों के कदम पड़ चुके थे, मेल कस्‍टमर्स से अब कदरन ज्‍यादा मेजें आबाद दिखाई देने लगी थीं इसलिये जलवे लुटाती रोमिला उनमें विचरने लगी थी ।
फिर धीरे धीरे रौनक बढ़ने लगी ।
नौ बजने तक वहां की भीड़ और शोर शराबे में बेतहाशा इजाफा हो गया - इतना कि बार पर हर घड़ी दो बारमैन - एक पुजारा दूसरा नीलेश - जरूरी हो गए । हाल में अब रोमिला जैसी और भी सजीधजी बारबालायें दिखाई देने लगी थीं लेकिन बार पर बिजी होते हुए भी नीलेश की निगाह खामखाह सिर्फ रोमिला का अनुसरण कर रही थी जो कि हंसी के फूल बिखेरती, जलवे लुटाती टेबल-टु-टेबल विचर रही थी, चुहलबाजी में किसी मेहमान की गोद में खुद जा बैठती थी तो कोई उसे खींचकर खुद अपनी गोद में बिठा लेता था । लेकिन वो सब क्षण भर को होता था, मेहमान अभी अपना अगला कदम निर्धारित ही कर रहा होता था कि वो पारे की तरह फिसलती थी और मेहमान को अपने नुकसान का अहसास होने से पहले किसी और टेबल पर किसी और मेहमान के साथ चुहलबाजी कर रही होती थी ।

बहरहाल तब तक ऐसा कोई वाक्‍या पेश नहीं आया था, नशे के हवाले कोई महेमान ऐसा आपे से बाहर नहीं हुआ था, कि नीलेश को अपने बाउंसर के रोल में आना पड़ता ।
बारबालाओं में एक दूसरी लड़की यासमीन मिर्जा थी जो कि रोमिला जैसी ही हसीन थी और बढि़या बनी हुई थी लेकिन जो जलवे लुटाने में ज्‍यादा दिलेर थी । कोई मेहमान उसे गोद में खींचकर उसके गिरहबान में या स्‍कर्ट में हाथ डाल देता था तो एतराज करने की जगह, छिटक कर अलग होने की जगह उसका दिल रखने को यूं जाहिर करती थी जैसे मेहमान की मनमानी से वो मेहमान से ज्‍यादा आनंदित हुई थी । असल में वो सब ड्रामा वो एक मिशन के तहत करती थी । वो एक्‍सपर्ट जेबकतरी थी, जब मेहमान उसके गिरहबान में हाथ डालकर उसकी छातियां भींच रहा होता था तब वो बड़ी सफाई से उसका बटुवा पार कर रही होती थी ।

नीलेश बार पर बहुत बिजी था फिर भी यासमीन का पेटेंट कारनामा उस घड़ी उसकी निगाह में था ।
उसका तब का शिकार एक अधेड़ व्‍यक्ति था जो उसकी छातियां मसल रहा था, उसको किस करने की कोशिश कर रहा था और समझ रहा था कि उसी में कोई खूबी थी जो वो फुल पटाखा बारबाला उस पर ढ़ेर थी और उसे ‘सब कुछ’ नहीं तो ‘इतना कुछ’ करने दे रही थी ।
उसकी खुशफहमी उतनी ही देर टिकी जितनी कि यासमीन को उसका बटुवा सरकाने में लगी । फिर वो मछली की तरह फिसलकर उस व्‍यक्ति की गिरफ्त से निकली और उसने सीधे लेडीज टायलेट का रुख किया जहां - नीलेश जानता था कि - वो हाथ आये बटुवे के तमाम बड़े नोट निकाल लेती थी ।

कुछ क्षण बाद यासमीन फिर हाल में प्रकट हुई, सीधे बटुवे के मालिक के पास पहुंची और जा कर उसकी गोद में बैठ गयी । उसने एक हाथ उसकी गर्दन के पीछे डाला और जबरन उसका मुंह अपने उन्‍नत वक्ष की घाटियों में धंसा दिया।
अधेड़ व्‍यक्‍ति का चश्‍मा टूटते टूटते बचा, उसकी सांस घुटने को हो गयी लेकिन फिर भी वो बाग बाग था और पहले से ज्‍यादा जोशोखरोश के हवाले था ।
हाथापाई के उस सैकण्‍ड राउंड के दौरान - नीलेश को मालूम था - यासमीन बटुवा वापिस अपने शिकार की जेब में सरका देती थी और मेहमान की मनमानी का पटाक्षेप कर देती थी ।

ऐन ऐसा ही हुआ ।
एकाएक एसने बेचारे चश्‍मे वाले अधेड़ व्‍यक्ति को आने से धक्‍का देकर अलग किया और ये जा वो जा ।
वेटर ने जाकर उसको रिपीट के लिये पूछा ।
अपनी मायूसी से उबरने की कोशिश करते चश्मे वाले ने अनमने भाव से इनकार किया तो वेटर ने बिल पेश कर दिया ।
सहमति में सिर हिलाते उसने जेब से बटुवा बरामद किया, उसे खोला तो पाया कि उसमें तो वेटर को टिप देने लायक भी पैसे नहीं थे ।
फासले से भी नीलेश ने उसके चेहरे पर हाहाकारी भाव आते साफ देखे ।
फिर मेहमान शोर मचाने लगा, दुहाई देने लगा कि कोंसिका क्‍लब में उसको लूट लिया गया था ।

वो वक्‍त बाउंसर के दखलअंदाज होने को होता था ।
किसी को ऐसी दुहाई देकर क्‍लब को बदनाम करने की इजाजत भला कैसे दी जा सकती थी !
पुजारा ने नीलेश को इशारा किया ।
बार के पीछे से निकल कर लम्‍बे डग भरता नीलेश हालदुहाई मचाते मेहमान के करीब पहुंचा, खून जमा देने वाली घुड़की से उसने उसे चुप कराया और फिर उसको जबरन चलाता बाहर को ले चला । बाहर फुटपाथ पर पहुंच कर उसने अब भयभीत मेहमान को एक बाजू धकेल दिया ।
सहमा हुआ मे‍हमान नशे में घूमता अपना माथा दोनों हाथों में थाम कर वहीं फुटपाथ के किनारे सड़क पर टांगे फैला कर बैठ गया और राह‍गीरों के लिये तमाशा बन गया ।

ऐसी थी महिमा कोंसिका क्‍लब नाम के सैलानियों के उस बार की ।
नीलेश वा‍पिस भीतर कदम रखने ही लगा था कि उसने देखा डण्‍डा हिलाता एक सिपाही चश्‍मे वाले के सिर पर आ खड़ा हुआ था ।
नीलेश उस सिपाही को पहचानता था और उसके नाम से - अनंतराम महाले - वाकि‍फ था । वो ठिठका और घूम कर उधर देखने लगा ।
महाले ने चश्‍मे वाले को जबरन उठा कर उसके पैंरो पर खड़ा किया ।
“अंदर से आया ।” - महाले नीलेश को घूरता बोला - “टुन्‍न है । मुंडी थामे फुटपाथ पर बैठेला है । बोले तो झाड़ दिया ! क्‍लीन कर दिया फुल !”

“मेरे को कैसे मालूम होगा, भई ।” - नीलेश भुनभुनाता सा बोला - “मैंने क्‍या इसकी जेबें टटोलीं !”
“जरुरत किधर थी ! साला मुंडी पकड़ के बाहर फेंका कि नहीं फेंका कचरा का माफिक ! बिल चुकता करने को कोई रोकड़ा पॉकेट में होता तो साला कौन इससे इधर ऐसे पेश आया होता ! इसके माथे पर लिख रयेला है कि लूट लिया, रोकड़ा पार कर दिया, बिल चुकता करने के लायक न छोड़ा । मैं शर्त लगाता है सबसे बडे़ वाले गांधी का कि इसका पॉकेट खाली ! रोकड़ा खल्‍लास !”
“पब्लिक प्‍लेस में, रश वाली पब्लिक प्‍लेस में खबरदार रहना मांगता है न !”

“साला बेवड़ा ! कैसे होयेंगा खबरदार ! खबरदार रहने पर जोर देगा तो साला नशा नहीं होगा ।”
“मेरे को नशे का इतना ज्ञान नहीं । अब क्‍या करोगे इसका ?”
“थाने लेकर जाऊंगा । जो करना होगा, ऊपर वाला कोई करेगा !’’
“क्‍या ?”
“हल्‍ला करेगा लुट गया, कम्‍पलेंट दर्ज कराना चाहेगा तो…तो देखेंगे ।”
“ऐसा नहीं करेगा तो ?”
“तो नार्मल होने पर खुद ही उठेगा और नक्‍की करेगा ।”
“ये कम्‍पलेंट नहीं लिखायेगा ।”
“बहुत कंफीडेंस से बोलता है, गोखले !”
“लिखायेगा तो कोई लिखेगा नहीं ।”
“बहुत कंफीडेंस से…”
“देखना ।”
वो घूमा और वापिस बार में दाखिल हो गया ।

बार के आधे रास्‍ते में उसे रोमिला मिली । दोनों एक दूसरे के सामने ठिठके । नीलेश ने नोट किया वो बद्हवास लग रही थी और उसके कपडे़ भी अस्‍तव्‍यस्‍त थे ।
“बेवडे़ को बढ़िया हैंडल किया ।” - वो बोली ।
नीलेश ने लापरवाही से कंधे उचकाये ।
“नाइंसाफी करते इधर में” - रोमिला ने एक उंगली से अपने बायें वक्ष को छुआ - “कुछ होता नहीं ?”
“बोले तो‍ ?”
“या‍समीन ने जो किया, तुमने अपनी आंखो से देखा, साफ देखा । फिर भी कचरा उस भीङू का ही हुआ । निकाल बाहार फेंका ।”
“अपनी ड्यूटी की ।”
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)
Post Reply