Meri Bhabhi Ma मेरी भाभी माँ

Post Reply
Masoom
Pro Member
Posts: 2519
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Meri Bhabhi Ma मेरी भाभी माँ

Post by Masoom »

अपडेट 16

अभी हम सभी कॅंटीन मे भी बैठे थे, अभी तक किसी ने अक्की से कुछ पूछा नही था लेकिन उसकी हालत देख कर सभी बस मंद मंद मुस्कुरा ज़रूर रहे थे ..


“क्यो हीरो अभी भी मेडम का चेहरा नज़रो मे घूम रहा है क्या ??”


नेहा ने अक्की को छेड़ दिया ,मानो उसे अभी होश आया हो वो बुरी तरह से झेप गया था ..


“क्या बोल रही है तू ??”


मैने उसके कंधे पर हाथ रखा


“अरे यार हम तेरे दोस्त है अपनी फिल्लिंग्स हमसे छिपाएगा तो बताएगा किसको..”


मैने बड़े ही प्यार भरे लहजे मे उससे कहा


“नही यार ऐसी कोई बात नही है “


“देख यार अक्की तेरा और मेडम का तो कुछ हो नही सकता लेकिन अगर अपने दिल की बात हमसे भी छिपा कर रखेगा तो तुझे खुद ही प्राब्लम होगी, और मुझे तो हमेशा से लगता था की तू नेहा को पसंद करता है लेकिन तू तो मेडम को देखते ही लट्तू हो गया …”


मोनिका ने उसकी खिचाई कर दी, जहाँ हम सभी हंस पड़े वही नेहा और अक्की बुरी तरह से चौक गये..


“ये तू पागल है क्या नेहा मेरी बेस्ट फ्रेंड है तब से जब से हमने स्कूल जाना शुरू भी नही किया था ..”


“हाँ तो अक्सर यही होता है ना कि बेस्ट फ्रेंड्स से प्यार हो जाता है, जैसे मुझे अजजु से है , ऐसे भी तुम दोनो एक दूसरे को कभी छोड़ते नही हो “


इस बात चौकने की बारी मेरी थी


“व्हाट ?? तुम दोनो..”


मैने चौकते हुए कहा


“क्यो तुझे अभी तक पता नही चला “


मोनिका ने मुझे आँख दिखाया


“यार लेकिन अजजु तो सुस के साथ ..”


“अरे भाई क्या करे वो तो घर वालो का फ़ैसला है ना, मेरा नही , ऐसे सूस को भी ये बात पता है कि मैं मोनिका से प्यार करता हूँ , इसलिए तो वो भी इस रिश्ते को लेकर कंफर्टबल नही है “


“तो ये बात तुम लोगो ने अपने घर मे क्यो नही बताई “


मेरी बात सुनकर अजजु जोरो से हंस पड़ा था , लेकिन उसकी हँसी मे एक दर्द मुझे साफ साफ दिखाई दे रहा था
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)

Masoom
Pro Member
Posts: 2519
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Meri Bhabhi Ma मेरी भाभी माँ

Post by Masoom »

“मेरे और सूस के परिवार वालो के लिए प्यार के कोई मायने ही नही है दोस्त, हम दोनो ने ही ये बात अपने अपने परिवार के लोगो को बताई लेकिन … उनका कहना है कि जब तक शादी नही हो जाती तब तक किसी के साथ भी रहो उन्हे कोई मतलब नही है , और शादी के बाद भी किसी के साथ भी रहो उससे भी उन्हे कोई मतलब नही है लेकिन हमारी शादी से उन्हे जो प्रॉफिट होने वाला है उन्हे बस वही सब दिखता है , उनके ख्याल से जवानी मे ये सब होता है ..साला मैने जब अपने बाप को ये बताया तो वो तो अपनी गर्लफ्रेंड और फक बॉडीस की लिस्ट
गिनने लगा था बोलता है की उसके आज भी कई लड़कियो के साथ संबंध है और मॉम के भी और मर्दो के साथ संबंध थे दोनो को ही एक दूसरे के बारे मे पता है लेकिन फिर भी शादी को मेनटेन किए हुए थे ना ,अब मोम तो रही नही लेकिन बाप वैसे का वैसा है :: अब ऐसे लोगो के सामने प्यार की मैं क्या बात करू “


उसकी बात सुनकर मेरा मूह तो खुला का खुला ही रह गया था, ये कैसे लोग है जिन्हे प्यार से कोई फ़र्क नही पड़ता ना ही अपने बच्चो की खुशी से उनके लिए बस पैसा ही सब कुछ है, यहाँ बात सिर्फ़ पैसे की ही नही थी पैसा और पवर ये दोनो चीज़ो का मोह इंसान को अँधा बना देता है लेकिन इतना अँधा बना देता है ये तो मैने भी नही सोचा था …


ये हँसी खुशी का महॉल अचानक से ही गमगीन हो गया था..


“तू फिकर मत कर मेरे भाई तेरी शादी होगी तो बस मोनिका से ही होगी “


मैने कॉन्फिडेन्स से कहा , जिसे देखकर अजजु हंस पड़ा


“वाह रे तेरा कॉन्फिडेन्स सला हम तो उम्मीद ही छोड़ चुके है और तुझे अभी भी लगता है कि ये सब हो सकता है, या तुझे ये लगता है कि हमने कोई कोशिस नही की है, सब कर लिया लेकिन हाथ कुछ भी नही लगा, हम तो भाग भी नही सकते वरना दोनो के बाप मिलकर हमे ढूँढ कर मार देंगे साले इतने पवरफुल है ..”


अजजु की आवाज़ मे उदासी साफ साफ दिख रही थी जो मुझे बेहद ही बुरा लग रहा था


“तुम लोगो ने अभी तक जो भी किया लेकिन अभी मैं नही आया था ना दोस्तो, एक गाँव वाले का दिमाग़ और हिम्मत तुमने अभी देखा नही है तू फिकर मत कर मैं कोई ना कोई जुगाड़ ज़रूर लगाउन्गा ,ऐसे भी मेरी तो पूरी जिंदगी ही जुगाड़ के सहारे मे चल रही है , तेरे लिए भी लगा लूँगा और अपने अक्की के लिए भी “


सभी का ध्यान अचानक से फिर से अक्की की ओर चला गया, वो मुझे अजीब निगाहो से देख रहा था


“भाई क्या तू सच मे मेरी सेट्टिंग मेडम से करवा देगा “


अक्की की मासूमियत उसकी बातों और चेहरे से टपक रही थी ,


“बिल्कुल कोशिस करने मे क्या जाता है “


“तो क्या किया जाए ..?”


“सोचना पड़ेगा बस तू मेडम को देखकर घबराना बंद कर “


मेरी बात सुनकर उसने हा मे सर हिलाया वही अजजु मुझे अजीब सी निगाहो से देख रहा था


“ऐसे क्या देख रहा है ??”


“यार तू बड़ा ही अजीब सा इंसान है तेरे साथ ऐसा लगता है की सब कुछ हो सकता है चाहे वो कितना भी इंपॉसिबल क्यो ना लगे, तुझसे एक पॉज़िटिव वेव आती है पता नही हम जो चाहते है वो हो सकता है या फिर नही लेकिन सच मे तूने हमे फिर से हिम्मत दे दी “


आजू ने मेरे हाथ मे अपना हाथ रखा और मुस्कुराया


“ अरे तुम लोगो का अगर हो चुका हो तो कोई मेरे बारे मे तो सोच लो यार “


अक्की फिर से बोला, लेकिन इस बार वो कुछ छिपाने के मूड मे नही लग रहा था


“ये कोई प्यार व्यार नही है बस अट्रॅक्षन है, जहाँ सुन्दर लड़की देखी नही वही बस तुम लोगो को प्यार हो जाता है “
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)

Masoom
Pro Member
Posts: 2519
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Meri Bhabhi Ma मेरी भाभी माँ

Post by Masoom »

नेहा ने नाक सिकोडा


“नही यार नेहा, तू मुझे बचपन से जानती है ना, कभी तुझे लगा की मैं किसी लड़की पर लट्तू हो गया हू, या किसी के पीछे पड़ा नही ना .. ये अलग है यार पता नही की ये प्यार है या फिर महज एक अट्रॅक्षन लेकिन जब से उन्हे देखा हू साला बस उनका ही चेहरा मेरे दिमाग़ मे छाया
हुआ है, बस उनकी ही याद आ रही है कितनी सुंदर है यार वो …”


अक्की ने एक गहरी सांस ली और वो फिर से किसी ख्वाबो की दुनिया मे खो गया था, वही हम एक दूसरे को देखने लगे, असल मे मुझे भी अभी तक लगा था की ये महज एक अट्रॅक्षन होगा लेकिन अक्की को देखकर लगा की बात थोड़ी सीरीयस ज़रूर है .. अक्की ने बोलना शुरू रखा


“यार उनकी वो बड़ी बड़ी आँखे, घने बाल, मुस्कुराता हुआ चेहरा, नर्म गुलाबी होठ …”


“और पतली कमर..”


मोनिका बोली और हमे देखकर हसने लगी लेकिन हमारा अक्की तो खोया हुआ था


“हाँ वो भी … क्या पतली कमर , तुम मेरा मज़ाक उड़ा रहे हो जाओ यार मैं नही बताता तुम लोगो को कुछ ..”


वो नाराज़गी मे अपना मूह फूला कर बैठ गया उसे ऐसा करते हुए देखकर एक बार तो सभी हंस पड़े लेकिन फिर जब हमने देखा कि वो नाराज़ है तो फिर उसे मनाने भी लगे, हम सब ने मिलकर फ़ैसला किया कि हमसे जो भी बन पड़ेगा वो करेंगे, और हमारा अक्की खुश भी हो गया , वो तो मानो मेडम के साथ एक ख्वाब भी बुनने लगा था …..




अक्की के जज्बातों की हमे कद्र थी लेकिन हमे ये भी अंदेशा था कि हो ना हो इससे उसका दिल भी टूट सकता है.. खैर जो भी अभी उसे भी इस आहसास के मज़े लेने दो ..




हवेली आने पर मुझे संपत मामा मिल गये,


“क्यो शिवा तिवारी की लड़की का कुछ हुआ “


“हाँ शायद दोस्ती हो जाए उससे :अप्रूव:“


उनके होठों मे एक मुस्कान आ गयी


“बेटा नागिन से दोस्ती नही करते, या तो उसका ईस्तमाल करते है या फिर उसका सर कुचल देते है वरना वो खुद को ही डस लेती है “


उनकी बात सुनकर मैं अवाक रह गया था


“वो अच्छी लड़की है मामा जी, और कमीना तो तिवारी है “


मेरी बात सुनकर उन्होने बस एक गहरी सांस छोड़ी


“बेटा उस कमिने का ही तो खून है ना वो लड़की भी, कोई भरोशा नही है की कम पीठ मे चाकू मार दे “


उनकी आवाज़ मे दर्द था, ऐसा दर्द जो मुझे अहसास दिला रहा था कि कही ना कही मामा ने भी तिवारी से धोखा खाया होगा ..


“क्या बात हुई थी आपकी और दया संकर के बीच “


उन्होने फिर से गहरी सांस छोड़ी


“जब तू तैयारी हो जाएगा तब तुझे बता दूँगा , बस ये समझ ले की उस कमिने ने हमे बहुत बड़ा धोखा दिया था , उसे भी हमने अपना दोस्त माना था लेकिन वो ….. छोड़ ये सब बाते जब समय आएगा तुझे पता चल जाएगा ..”


उन्होने मेरे कंधे मे हाथ रखा और वहाँ से चल दिए , जैसा मुझे पहले लगता था कि ये लोग गुंडे टाइप के लोग है और बहुत ही खतेरनाक लोग है ऐसा कुछ भी नही था, ये तो बड़े ही सामान्य से लोग थे जो प्रेम की भाषा बोलते थे …लेकिन शयड दिल मे कुछ गहरे दर्द दबाए हुए थे जो
दर्द ही इन्हे ग़लत काम करने को मजबूर किया था
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)

Masoom
Pro Member
Posts: 2519
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Meri Bhabhi Ma मेरी भाभी माँ

Post by Masoom »

Update 16

Abhi ham sabhi canteen me bhi baithe the, abhi tak kisi ne Akki se kuch pucha nahi tha lekin uski halat dekh kar sabhi bas mand mand muskura jarur rahe the ..


“kyo hero abhi bhi madam ka chehra najro me ghum raha hai kya ??”


Neha ne Akki ko ched diya ,mano use abhi hosh aaya ho wo buri tarah se jhep gaya tha ..


“kya bol rahi hai tu ??”


Maine uske kandhe par hath rakha


“are yaar ham tere dost hai apni fillings hamshe chipayega to batayega kisko..”


Maine bade hi pyar bhare lahje me usse kaha


“nahi yaar aisi koi bat nahi hai “


“dekh yaar Akki tera aur madam ka to kuch ho nahi sakta lekin agar apne dil ki bat hamse bhi chipa kar rakhega to tujhe khud hi problem hogi, aur mujhe to hamesha se lagta tha ki tu Neha ko pasand karta hai lekin tu to madam ko dekhte hi lattu ho gaya …”


Monika ne uski khichai kar di, janha ham sabhi hans pade wahi Neha aur Akki buri tarah se chouk gaye..


“ye tu pagal hai kya Neha meri best friend hai tab se jab se hamne school jana shuru bhi nahi kiya tha ..”


“ha to aksar yahi hota hai na ki best friends se pyar ho jaata hai, jaise mujhe Ajju es hai , aise bhi tum dono ek dusare ko kabhi chodte nahi ho “


Is bat choukane ki bari meri thi


“what ?? tum dono..”


Maine choukate hue kaha


“kyo tujhe abhi tak pata nahi chala “


Monika ne mujhe ankh dikhaya


“yaar lekin Ajju to sus ke sath ..”


“are bhai kya kare wo to ghar walo ka faisala hai na, mera nahi , aise sus ko bhi ye bat pata hai ki main Monika se pyar karta hu , isliye to wo bhi is rishte ko lekar comfortable nahi hai “


“to ye bat tum logo ne apne ghar me kyo nahi batai “


Meri bat sunkar Ajju joro se hans pada tha , lekin uski hansi me ek dard mujhe saf saf dikhai de raha tha


“mere aur sus ke pariwar walo ke liye pyar ke koi mayane hi nahi hai dost, ham dono ne hi ye bat apne apne pariwar ke logo ko batai lekin … unka kahna hai ki jab tak shadi nahi ho jati tab tak kisi ke sath bhi raho unhe koi matlab nahi hai , aur shadi ke bad bhi kisi ke sath bhi raho uses bhi unhe koi matlab nahi hai lekin hamari shadi se unhe jo profit hone wala hai unhe bas wahi sab dikhta hai , unke khyal se jawani me ye sab hota hai ..sala maine jab apne baap ko ye bataya to wo to apne gf aur fuck bodies ki list ginane laga tha bolta hai ki uske aaj bhi kai ladkiyo ke sath sambandh hai aur mom ke bhi aur mardo ke sath sambandh the dono ko hi ek dusare ke bare me pata hai lekin fir bhi shadi ko maintain kiye hue the na ,ab mom to rahi nahi lekin baap waise ka waisa hai :noo: ab aise logo ke samne pyar ki main kya bat karu “


Uski bat sunkar mera muh to khula ka khula hi rah gaya tha, ye kaise log hai jinhe pyar se koi fark nahi padta na hi apne bachcho ki khushi se unke liye bas paisa hi sab kuch hai, yahan bat sirf paise ki hi nahi thi paisa aur power ye dono chijo ka moh insan ko andha bana deta hai lekin itana andha bana deta hai ye to maine bhi nahi socha tha …


ye hansi khushi ka mahol achaanak se hi gamgin ho gaya tha..


“tu fikar mar kar mere bhai teri shadi hogi to bas Monika se hi hogi “


Maine confidence se kaha , jise dekhkar Ajju hans pada


“wah re tera confidence sala ham to ummid hi chod chuke hai aur tujhe abhi bhi lagta hai ki ye sab ho sakta hai, ya tujhe ye lagta hai ki hamne koi koshis nahi ki hai, sab kar liya lekin hath kuch bhi nahi laga, ham to bhaag bhi nahi sakte warna dono ke bap milkar hame dhundh kar maar denge sale itane powerful hai ..”


Ajju ki awaj me udasi saf saf dikh rahi thi jo mujhe behad hi bura lag raha tha


“tum logo ne abhi tak jo bhi kiya lekin abhi main nahi aaya tha na dosto, ek ganw wale ka dimag aur himmat tumne abhi dekha nahi hai tu fikar mat kar main koi na koi jugad jarur lagaunga ,aise bhi meri to puri jindagi hi jugad ke sahare me chal rahi hai , tere liye bhi laga lunga aur apne Akki ke liye bhi “


Sabhi ka dhyan achaanak se fir se Akki ki or chala gaya, wo mujhe ajib nigaho se dekh raha tha


“bhai kya tu sach me meri setting madam se karwa dega “


Akki ki masoomiyat uske bato aur chehre se tapak rahi thi ,


“bilkul koshis karane me kya jata hai “


“to kya kiya jaye ..?”


“sochna padega bas tu madam ko dekhkar ghabrana band kar “


Meri bat sunkar usne ha me sar hilaya wahi Ajju mujhe ajib si nigaho se dekh raha tha


“aise kya dekh raha hai ??”


“yaar tu bada hi ajib sa insan hai tere sath aisa lagta hai ki sab kuch ho sakta hai chahe wo kitana bhi impossible kyo na lage, tujhse ek positive wave aati hai pata nahi ham jo chahte hai wo ho sakta hai ya fir nahi lekin sach me tune hame fir se himmat de di “


Aaju ne mere hath me apna hath rakha aur muskuraya


“ are tum logo ka agar ho chuka ho to koi mere bare me to soch lo yaar “


Akki fir se bola, lekin is bar wo kuch chipane ke mood me nahi lag raha tha


“ye koi pyar wyar nahi hai bas attraction hai, janha sunder ladki dekhi nahi wahi bas tum logo ko pyar ho jata hai “


Neha ne naak sikoda


“nahi yaar Neha, tu mujhe bachpan se janti hai na, kabhi tujhe laga ki main kisi ladki par lattu ho gaya hu, ya kisi ke piche pada nahi na .. ye alag hai yaar pata nahi ki ye pyar hai ya fir mahaj ek attraction lekin jab se unhe dekha hu sala bas unka hi chehra mere dimag me chaya hua hai, bas unki hi yad aa rahi hai kitani sunder hai yaar wo …”


Akki ne ek gahri sans li aur wo fir se kisi khwabo ki duniya me kho gaya tha, wahi ham ek dusare ko dekhne lage, asal me mujhe bhi abhi tak laga tha ki ye mahaj ek attraction hoga lekin Akki ko dekhkar laga ki bat thodi serious jarur hai .. Akki ne bolna shuru rakha


“yaar unki wo badi badi ankhe, ghane baal, muskurata hua chehra, narm gulabi hoth …”


“aur patali kamar..”


Monika boli aur hame dekhkar hasane lagi lekin hamara Akki to khoya hua tha


“ha wo bhi … kya patali kamar , tum mera majaak uda rahe ho jao yaar main nahi batata tum logo ko kuch ..”


Wo narajgi me apna muh fula kar baith gaya use aisa karte hue dekhkar ek bar to sabhi hans pade lekin fir jab hamne dekha ki wo naraj hai to fir use manane bhi lage, ham sab ne milkar faisala kiya ki hamse jo bhi ban padega wo karenge, aur hamara Akki khush bhi ho gaya , wo to mano madam ke sath ek khwab bhi bunane laga tha …..




Akki ke jasbato ki hame kadra thi lekin hame ye bhi andesha tha ki ho na ho isse uska dil bhi tut sakta hai.. khair jo bhi abhi use bhi is aahsas ke maje lene do ..




Haweli aane par mujhe sampat mama mil gaye,


“kyo Shiva Tiwari ki ladki ka kuch hua “


“ha shayd dosti ho jaaye usse :approve:“


Unke hothon me ek muskan aa gayi


“beta nagin se dosti nahi karte, ya to uska istmaal karte hai ya fir uska sar kuchal dete hai warna wo khud ko hi dash leti hai “


Unki bat sunkar main awaak rah gaya tha


“wo achchi ladki hai mama ji, aur kamina to Tiwari hai “


Meri bat sunkar unhone bas ek gahri sans chodi


“beta us kamine ka hi to khoon hai na wo ladki bhi, koi bharosha nahi hai ki kam pith me chaku maar de “


Unki awaj me dard tha, aisa dard jo mujhe ahsaas dila raha tha ki kahi na kahi mama ne bhi Tiwari se dhokha khaya hoga ..


“kya bat hui thi aapki aur daya sankar ke bich “


Unhone fir se gahri sans chodi


“jab tu taiyari ho jayega tab tujhe bata dunga , bas ye samajh le ki us kamine ne hame bahut bada dhokha diya tha , use bhi hamne apna dost mana tha lekin wo ….. chod ye sab bate jab samay aayega tujhe pata chal jayega ..”


Unhone mere kandhe me hath rakha aur vahan se chal diye , jaisa mujhe pahle lagta tha ki ye log gunde type ke log hai aur bahut hi khaternak log hai aisa kuch bhi nahi tha, ye to bade hi samany se log the jo prem ki bhasha bolte the …lekin shayd dil me kuch gahre dard dabaye hue the jo dard hi inhe galt kaam karane ko majboor kiya tha
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)

Masoom
Pro Member
Posts: 2519
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Meri Bhabhi Ma मेरी भाभी माँ

Post by Masoom »

(^%$^-1rs((7)
सुराग Running......मेरी भाभी माँ Running......घरेलू चुते और मोटे लंड Running......बारूद का ढेर Running......Najayaz complete......Shikari Ki Bimari complete......दो कतरे आंसू complete......अभिशाप (लांछन )......क्रेजी ज़िंदगी(थ्रिलर)......गंदी गंदी कहानियाँ......हादसे की एक रात(थ्रिलर)......कौन जीता कौन हारा(थ्रिलर)......सीक्रेट एजेंट (थ्रिलर).....वारिस (थ्रिलर).....कत्ल की पहेली (थ्रिलर).....अलफांसे की शादी (थ्रिलर)........विश्‍वासघात (थ्रिलर)...... मेरे हाथ मेरे हथियार (थ्रिलर)......नाइट क्लब (थ्रिलर)......एक खून और (थ्रिलर)......नज़मा का कामुक सफर......यादगार यात्रा बहन के साथ......नक़ली नाक (थ्रिलर) ......जहन्नुम की अप्सरा (थ्रिलर) ......फरीदी और लियोनार्ड (थ्रिलर) ......औरत फ़रोश का हत्यारा (थ्रिलर) ......दिलेर मुजरिम (थ्रिलर) ......विक्षिप्त हत्यारा (थ्रिलर) ......माँ का मायका ......नसीब मेरा दुश्मन (थ्रिलर)......विधवा का पति (थ्रिलर) ..........नीला स्कार्फ़ (रोमांस)

Post Reply