Incest जिंदगी के रंग अपनों के संग

Post Reply
User avatar
rangila
Super member
Posts: 5649
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: Incest जिंदगी के रंग अपनों के संग

Post by rangila »

जिया दी-अगर तुझे बुरा ना लगे तो में बकीओ को भी बुला लूँ किसी ने भी तेरे आने के बाद ठीक से खाना नही खाया.

गुड़िया -सॉरी दी में भी ना सिर्फ़ अपने बारे में ही सोचती हूँ कितनी सेलफिश हो गयी थी में .आप रूको में सब से माफी माँग के सब को बुला के लाती हू.

में-देखा दी ये है मेरी गुड़िया .मुझे नाज़ है खुद पे.

जिया दी-हाँ क्यूँ नही हमें भी नाज़ है तेरे गुड़िया पे.

फिर गुड़िया सब को बुलाने चली गयी और कोई 10 मिनट के बाद सब को साथ ले के वापस आ गयी.और हम सब खाने की तैयारी करने लगे पर तभी मेरे सिर में अचानक दर्द होने लगा और मुझे चक्कर आने लगे में बेड का एक कोना पकड़ के एक साइड में बैठ गया और अपनी
आँखे बंद कर लीं कि तभी ली का चेहरा सामने आने लगा.

में-ये क्या है ली.(ये बातें मैने उसे मन में बोली जो उस तक पहुँच गयी कैसे अभी मुझे पता नही पर जैसे ही पास्ट चलेगा सबसे पहले आप
लोगो को ही बताउन्गा)

ली-हूँ तुम्हारा फर्स्ट टाइम है ना इसलिए ऐसा कह रहे हो.पर फर्स्ट टाइम के हिसाब से बुरा नही है नही तो 90%तो बेहोश ही हो जाते है और
वो सब तुम से फ़िजिकल फिटनेस में काफ़ी आगे होते है यार तुम कमाल की चीज़ हो.

में-क्या यही बक्कवास करने के लिए आए हो.

ली-नही दोस्त में ये बताने आया हूँ कि तुम्हारे लिए दो ख़बरे है एक अच्छी और दूसरी बुरी.बताओ कि कौन सी खबर तुम पहले सुनना चाहोगे.

में-अब इससे बुरा क्या हो सकता है ठीक है पहले बुरी खबर ही सुना दो.

ली-हमारे वर्ल्ड में हर पाँच सालो में एक अजीब सा खेल खेला जाता है जिस में हमें अपनी ताक़त और रुतबे को दिखाना पड़ता है जिस में हम
लोग आनोखी प्रतियोगताएँ करते है और जिस में अजीब और खतेरनाक काम किए जाते है.

में-तो उस से मेरा क्या लेना देना है.

ली-लेना देना है क्यूँ कि एन प्रतियोगताओ में आप जितनी ही अनोखी या रॅयर (जो चीज़े आसानी से ना मिले या मिलती ही नही हो फॉर एग्ज़ॅंपल कलेक्टेड आइटम्स)चीज़ो को कलेक्ट करना और सब के सामने उस चीज़ की ख़ासियत को पेश करना होता है इसमें कुछ भी हो
सकता है जानवर'पत्थर'पानी'हथियार'या कोई खास इंसान .

में-एक मिनट क्या कहा तुम ने इंसान .क्या बकवास है ये .

ली-पर ये सच है अगर वो इंसान हमारे वर्ल्ड से बाहर हो तो हम उस का जैसे चाहे यूज़ कर सकते है ये ही नियम है.

में-पर ये तो ग़लत है.और इससे फ़ायदा क्या है.

ली-जिस का आइटम जितना कीमती और ताकतवर होगा उस को उतनी ही पवर दी जाएगी चाहे वो खुद ले या किसी और के ज़रिए.

में-ये पागलपंति है.

ली-नही तुम इसे हमारे नज़रिए से देखो तो ताक़त पाने और दीखाने का एक परफ़ेक्ट प्लॅटफॉर्म है ये.

में-तो इससे मेरा क्या लेना देना है.

User avatar
rangila
Super member
Posts: 5649
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: Incest जिंदगी के रंग अपनों के संग

Post by rangila »

ली-इस बार के खास आइटम तुम और तुम्हारे परिवार के सदस्य है जिंदा या मुर्दा कोई फ़र्क नही पड़ता.

में-में ऐसा कुछ नही होने दूँगा.

ली-तुम कर भी क्या सकते हो तुम्हें तो हमारे यहाँ के वो बच्चे भी हरा देंगे जिन्होने अभी अभी फाइटिंग की ट्रैनिंग स्टार्ट की है.और जो फाइटर आ रहे है वो सारे कम से कम आ+ लेवेल के होंगे.

में-मुझे कोई फ़र्क नही पड़ता वो किसी भी लेवेल के हो या कितने भी ताकतवर हो और अगर में इन से कमजोर हूँ तो तुम मुझे ट्रेन करो जॅक
ट्रेन करे मुझे फ़र्क नही पड़ता बस मुझे इतना ताकतवर बना दो कि में उन से अपनी फॅमिली को सेफ कर सकूँ प्ल्ज़ ली.

ली-सोच लो उसके लिए बहुत मुस्किलो का सामना करना पड़ेगा शायद इतना कि जितना तुम ने कभी सोचा भी ना हो.

में-मुझे कोई फ़र्क नही पड़ता बस तुम मुझे बताओ कि क्या करना है .

ली-ठीक है डिन्नर के बाद
बाद गार्डेन में आ के मिलो मुझसे.

में-और गुड न्यूज़ तो बता दो.

ली-कुछ बाद के लिए भी छोड़ दो वहाँ सब तुम्हें ऐसे देख के परेशान हो रहे है तुम पहले आराम से डिन्नर कर लो पता नही आज के बाद फिर
कभी कर भी पाओ कि नही.

में-तुम्हारे कहने का मतलब क्या है और तुम्हें कैसे पता कि में क्या कर रहा हूँ.
पर कोई फ़ायदा नही ली जा चुका था मुझे ढेर सारे सवालो के साथ छोड़ के मैने अपनी आँखे खोली तो सच में सब मुझे घूर रहे थे.......
दोस्तो ये उस में कुछ छूट गया था ये वो है....

में-तुम सब मुझे ऐसे क्यूँ घूर रहे हो बस कुछ सोच रहा था.

जिया दी-सच में मुझे तो लगा कि तू किसी से बात कर रहा है.

में-हाँ वो क्या है ना कि मैने यहाँ कुछ भूत दोस्त बनाए है उन्ही से हाल चाल पता कर रहा था उन का.क्या दी आप भी में वो रवि के बारे में
सोच रहा था आज उसे इतने दिनो के बाद फिर सोनिया की याद आ गयी और वो भी मेरी वजह से मुझे सच में बहुत बुरा लग रहा है.

गुड़िया -ये सोनिया कौन है.

जिया दी-ये हमारी सबसे छोटी सिस्टर थी जो एक हादसे का शिकार हो गयी और रवि आज भी उसके लिए खुद को ज़िम्मेदार मानता है.

में-सच में मुझे रवि का सोच के बहुत बुरा लग रहा है.

जिया दी-हाँ पता है वो बहुत प्यार करता था उस को बस उसे कभी दिखाता नही था हमेंशा उस से लड़ता रहता था कहता था कि मेरी सोनिया गुस्से में ज़्यादा अच्छी लगती है.

में-हाँ पर आप शायद आप भूल रही है कि वो उस की ख़ुसी के लिए कुछ भी कर सकता था.

जिया दी-मुझे सब पता है.अब तुझे ही उसे इससे बाहर लाना होगा.

में-दी आप बिल्कुल भी टेन्षन ना ले वो मेरा भी भाई है में उसे ज़्यादा देर तक ऐसे अकेले नही रहने दूँगा.

गुड़िया -सच में बहुत बुरा हुआ .में भी माफी माँग लूँगी रवि भाई से.

जिया दी-ऐसा कभी मत करना नही तो उसे बहुत बुरा लगेगा जब तू उस से माफी माँगेगी .और जो हो गया उसे छोड़ के हमें आगे के बारे में सोचना चाहिए चल सबसे पहले अपने इस भाई को खाना खिला इसको भूक लगी होगी.

फिर हम सब ने एक दूसरे के हाथ से खाना खाया खाना खाने के बाद में रवि को ढूँढने के लिए चल पड़ा और बाकी सब यही बैठ के बातें करने लगे.

रवि मुझे उपर छत (रूफ) पे मिला वो एक साइड खड़ा हो के आसमान को देख रहा था.में भी उसके पास जा के खड़ा हो गया.

में-आज सच में आसमान कितना खूबसूरत है ना.

रवि-हर चीज़ की अपनी खूबसूरती है बस देखने का नज़रिया चाहिए.

में-में तू बिल्कुल सही कहता है आज तक कभी मैने ध्यान ही नही दिया और जब आज देख रहा हूँ तो सच में कितना विशाल और कितना खूबसूरत है ये .

रवि-हूँ.

में-तुझे पता है इसकी ख़ासियत क्या है .

रवि-क्या ?

में-यहाँ पे ये आसमान इतना शांत और खूबसूरत है जैसे कि दुनिया की सारी खूबसूरती इसे में समाई हो पर यहाँ से कुछ दूरी पे शायद ये
इतना डरावना और अशांत हो कि देख के किसी की भी रूह कांप जाए.

रवि-तू कहना क्या चाहता है.

में-बस यही कि इसके दोनों रूप ज़रूरी है हमारे लिए पर हमें वो दोनों सही समय पे चाहिए .जैसे की ये अपने दोनों रूप को अपने अंदर बखूबी संभाल के रखा है तुझे भी अपने उस दर्द को ऐसे ही संभाल के रखना चाहिए क्यूँ कि वो तुझे ताक़त और हिम्मत देगा लाइफ में आगे
बढ़ने के लिए.जैसे ये आसमान हमें ये नही पता चलने दे रहा कि ये अशांत और ख़तरनाक हो सकता है तुझे भी अपने आपको ऐसे ही संभालना होगा.

रवि-पर ये इतना आसान नही.

में-मुझे पता है एक अकेले के लिए ये कितना मुस्किल है अगर तू अकेले इसे सॉल्व करने की कोशिश करेगा तो बहुत मुस्किल है पर अगर वो
ही तू अपनी फॅमिली के साथ तो सबसे आसान काम कड़वी यादो को कुछ मीठी यादो से ही बदला जा सकता है.

रवि-तू सच में एक यूनीक है कितने अच्छे से तूने मुझे ये बता दिया कि में क्या भूल रहा था.

में-हूँ.

रवि मेरे गले लगते हुए शायद निशा तुझ से सच में बहुत प्यार करने लगी है मैने कोशिश की पर नाकाम रहा यार मुझे माफ़ कर दे.

में-कोई नही में समझ सकता हूँ ग़लती मेरी ही है मुझे उस से पहले ही ये बात क्लियर कर देनी चाहिए थी कि में किसी और से प्यार करता
हूँ.

रवि-मुझे लगता है कि अभी भी समय है भूल जा प्रिया को.निशा सच में तुझे से बहुत प्यार करती है मैने देखा है उसके आँखों में.

में-दिल से बोल रहा है.

रवि ने इस बात का कोई जबाब नही दिया और नीचे जाने लगा कुछ दूर जा के पीछे मुड़ते हुए.में उसे उपर तेरे पास भेज रहा हूँ तू आज ही
उस से सब क्लियर कर दे में नही चाहता कि जिस प्यार के लिए तू अब तक तड़प रहा है वो भी तडपे तो उसे आज सब सच सच बता दे.

में-ठीक है.

फिर रवि नीचे चला गया और में निशा का इंतज़ार करने लगा सच में आज का दिन मेरे लिए किसी एक जनम के बराबर था सिर्फ़ आज के दिन में ही मेरे साथ वो अब हो गया जो किसी नॉर्मल इंसान के साथ शायद दो से तीन जन्मो में भी ना हो.कोई 15मीं के बाद मुझे मेरे पीछे
कुछ आहट से महसूस हुई मैने पीछे मूड के देखा तो निशा खड़ी थी .


User avatar
rangila
Super member
Posts: 5649
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: Incest जिंदगी के रंग अपनों के संग

Post by rangila »

कोई 15मीं के बाद मुझे मेरे पीछेकुछ आहट से महसूस हुई मैने पीछे मूड के देखा तो निशा खड़ी थी .

में-सॉरी निशा तुम्हें इस टाइम परेशान किया पर क्या करता में भी मजबूर हूँ आज शायद मेरी लाइफ का वो काला दिन है जिस दिन सिर्फ़ मेरे
अपनो को मुझ से सियाए दुख के कुछ नही मिलेगा .

निशा-ऐसा क्यूँ कह रहे हो.ये तुम्हारी ग़लत सोच है तुम चाह के भी किसी को दुख नही दे सकते .

में-निशा मुझे नही पता कि में क्या दे सकता हूँ और क्या नही .पर मुझे ये पता है कि में तुम्हें वो नही दे सकता जो तुम मुझसे चाहती हो.

निशा-मुझे पता है रवि ने मुझे सब बताया है तुम्हारी बीती लाइफ के बारे में.प्रिया के बारे में.

में-पर कैसे रवि मेरे साथ ऐसा नही कर सकता ये मेरा राज है मेरी जिंदगी.ये कोई मुझसे नही ले सकता.

निशा-जानती हूँ पर मेरा विश्वास करो इसमें रवि की कोई ग़लती नही थी.जैसे रामायण में लक्ष्मण की कोई ग़लती ना होते हुए भी श्री राम ने लक्ष्मण को ग़लत समझा था उसी तरह तुम भी रवि को ग़लत समझ रहे हो.

में-मुझे नही पता ये उस ने क्यूँ किया पर ये उस ने ठीक नही किया.तुम्हें अब अपने लिए कोई और ढूँढना चाहिए वैसे भी मैने देखा है कि अच्छे अच्छे लड़के तुम्हारे आगे पीछे घूमते है.

निशा-हाँ पर उन में से अजय कोई नही है ना .और तुम किस को प्यार करो ये तुम्हारी मर्ज़ी है और मुझे किस से प्यार करना है ये मेरी मर्ज़ी है तुम ये डिसाइड नही कर सकते.मुझे पर यकीन रखो में तुम्हारी जिंदगी में कभी कोई इंटर्फियरेन्स नही करूँगी.

में-निशा तुम समझ नही रही हो ये इतना भी आसान नही है.

निशा-तुम्हारे एक छोटे से साथ ने मुझे भी बहुत कुछ सीखा दिया है यकीन मानो ऐसा कुछ नही होगा जैसा तुम सोच रहे हो.

में-तुम से बात करना ही बेकार है.

निशा-अब मुझे नीसे चलना चाहिए काफ़ी टाइम हो गया उपर आए हुए.

में-हूँ ठीक है गुड़िया क्या कर रही है.

निशा-जिया दी ने बड़ी मुस्किल से उसे सुलाया है नही तो वो तुम जानते हो किस चीज़ की ज़िद कर के बैठी थी.

में-ठीक है.मुझे कुछ ज़रूरी काम है तो तुम सब को बोल देना कि में अपने कमरे में सो रहा हूँ.

निशा-झूठ वो भी फ्री में में नही बोलती.

में-अब तुम्हें क्या चाहिए.

निशा -अपना कान इधर लाओ बताती हूँ.

में-नही ऐसे ही बता दो.

निशा-तो ठीक है रहने दो में नीचे जा रही हूँ और गुड़िया को उठा के तुम्हारे पास भेज देती हूँ.

में-कहाँ फस गया यार.ठीक है लो बोलो.

और मैने अपने कान उसकी तरफ कर दिए और वो मेरे पास आ के धीरे से मेरे कान में******

User avatar
rangila
Super member
Posts: 5649
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: Incest जिंदगी के रंग अपनों के संग

Post by rangila »

में-कहाँ फस गया यार.ठीक है लो बोलो.

और मैने अपने कान उसकी तरफ कर दिए और वो मेरे पास आ के धीरे से मेरे कान में******

में तो वैसे भी किसी को नही बताने वाली थी.आज पहली बार तुम ने मुझसे कोई हेल्प माँगी है तो मना करने का तो सवाल ही नही होता.पर अब सोच रही हूँ कि इतना अच्छा मोका मिला है तो फ़ायदा उठना चाहिए.और निशा मेरे गाल पे एक किस कर के भाग गयी और उसकी इस शरारत से ना चाहते हुए भी मेरे होंठो पे मुस्कान आ गयी.में भी ली से मिलने चल दिया ली जॅक के कमरे में था और अजीब भाषा में कुछ लिख रहा था पर वो हवा में लिख रहा था और उसके वर्ड भी हवा में ऐसे तैर रहे थे जैसे कि पानी में कागज की नाव जब भी उस का कोई वर्ड
कंप्लीट होता तो उस वर्ड में से अजीब से रोशनी निकलने लगती जैसे कि खुद के पूरा होने का प्रमाण दे रहा हो.

ली-तुम तो जल्दी आ गये मुझे लगा कि तुम्हें अभी टाइम लगेगा इसे लिए मैने सोचा कि कुछ अपना काम भी कर लूँ.

में-पर ये है क्या .

ली-देखते जाओ बस अभी तुम ने देखा ही क्या है तुम्हें भी इसे सीखना होगा बहुत काम की चीज़ है हम जैसे फाइटर्स के लिए जो अभी स्टूडेंट हो.

में-ओके.

फिर ली ने कुछ और वो र्ड लाइक उसी तरह और फिर वहीं अपने अंदाज में अपने हाथों को मिला के कुछ वर्ड बोले जिस के तुरंत बाद उन वर्ड्स में कुछ हलचल हुई और वो एक फॉर्मॅट में लग गये और आपस में ही चक्कर लगाने लगे फिर धीरे धीरे उन की स्पीड बढ़ने लगी और कोई 2मिनट में ही वो इतनी तेज़ हो गयी कि उन वर्ड को देख पाना भी संभाब नही था.तभी ली ने एक कार्ड जैसा कुछ निकाला और उसे हवा
में उपर उछालते हुए फिर अपने हाथों को जोड़ते हुए कुछ वर्ड बोले और वो सारे वर्ड उस कार्ड में गोली से भी तेज़ रफ़्तार में घुस गये जो कार्ड कुछ समझ पहले ब्लॅंक जैसा लग रहा था अब उस में एक पिक क्लियर देखी जा सकती थी जो किसी जानवर की थी किस की वो मुझे नही पता.

में-ये सब क्या है और इससे तुम्हें क्या फ़ायदा.

ली-सब बताता हूँ चलो बाहर चलते है मुझे यहाँ घुटन हो रही है इस प्रोसेस में मेरी सारी शक्ति लग गयी है अब सबसे पहले मुझे उसे रिकवर करना है.

फिर हम गार्डन में आ गये और वही पे लगी कुर्सियो पे बैठ गये.सच में ली की साँसे ऐसे चल रही थी जैसे कि वो मीलो भाग के आया हो.

ली-तुम्हें क्या लगा ये सब देख के.

में-सच बोलू या झूट.

ली-सच ही बोल दो.

में-मुझे लगा कि तुम पागल हो गये हो बस.

ली-नही ऐसा नही है ये जो कार्ड देख रहे हो ये कोई मामूली कार्ड नही है ये मेरी जीवन शक्ति से बना है.

में-में समझा नही.ये जीवन शक्ति क्या है.

ली-इंसानी शरीर तुम्हें पता होगा कि पाँच तत्वो से बना है.

में-हवा पानी आग मिट्टी और **

ली-लाइटिंग.बिल्कुल सही हम जब पैदा होते है तो हम किसी एक तत्व के प्रभाव में होते है जैसे कि मेरी ताक़त का ज़रिया ज़मीन यानी की
मिट्टी है जहाँ भी मिट्टी होगी मेरी ताक़त बढ़ जाती है.

में-इंटरेस्टिंग मुझे ऐसा लग रहा है कि आरएसएस पे कोई स्टोरी पढ़ रहा हूँ.

ली-अब वहाँ ढंग की स्टोरी बच्ची ही कहाँ है सारी तो तुम ने पढ़ ली.

में-तुम्हें कैसे पता.

ली-लगता है यादास्त कमज़ोर है तुम्हारी.छोड़ो इस टॉपिक को तो में कहाँ था.

में-तुम मुझे अपनी शक्तियों के बारे में बता रहे थे.

Post Reply