Incest मैं अपने परिवार का दीवाना

Post Reply
User avatar
rangila
Super member
Posts: 5608
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Incest मैं अपने परिवार का दीवाना

Post by rangila »

मैं अपने परिवार का दीवाना

मैं दिलीप मैं अपनी बड़ी नानी के साथ उनके घर में रहता हूँ
हमारे घर में हम और नानी ही रहते है
हमारा घर बहुत बड़ा है
मेरे चाचा और मेरे मामा मेरे ही गाओं में रहते हैं
मेरा उनसे कोई रिश्ता नही है
मेरी बड़ी नानी कहती है कि मेरे माँ पापा ने भाग के शादी की थी
इसी लिए उनसे मेरा कोई रिश्ता नही है
आज मेरा 18थ बर्तडे है
पिच्छले 17 साल की तरह आज भी मुझे बर्तडे विश करने मेरी नानी के अलावा कोई नही आया
मैं जब सुबह उठा तो
हमारा घर फूलों की खुश्बू की तरह महेक रहा था
सुबह के 6 बजे मैं उठा
नहा कर तय्यार होके अपने बड़ी नानी से आशीर्वाद लिया
दिलीप- बड़ी नानी मुझे आशीर्वाद दीजिए मैं कभी भी ग़लत रास्ते पे ना भटकु
बड़ी नानी- मेरा बेटा कभी कुछ ग़लत नही कर सकता तू बैठ मैं नाश्ता लगाती हूँ
दिलीप- हां जल्दी नाश्ता दो आज स्कूल जल्दी जाना है
बड़ी नानी- क्यूँ आज क्या स्पेशल है
दिलीप- पता नही होगा कुछ
फिर मैने नाश्ता किया और चल दिया अपनी साइकल लेके स्कूल
जब मैं स्कूल पहुँचा
तो ऐसा लगा कोई मर गया हो
पूरा स्कूल खाली था
तभी प्रिन्सिपल ऑफीस से कुछ आवाज़ें आने लगी
मैं देखा दरवाज़ा भी बंद है
आवाज़ और ज़्यादा तेज़ हो गयी
मैं टेबल पे चढ़ गया
और क्या देखा
इंग्लीश टीचर रीना मैडम डेस्क पे लेटी हुई है
प्रिन्सिपल उनके होंठ चूस रहे थे और दूध दबा रहे थे
इसी बीच रीना मैडम प्रिन्सिपल के लंड को पकड़ के आगे पीछे करने लगी
प्रिन्सिपल अब मैडम का दूध चूसने लगे
अब प्रिन्सिपल एक हाथ से मैडम की चूत सहला रहे थे
प्रिन्सिपल ने मैडम की चूत पे अपना लंड सेट किया और ज़ोर से धक्का मार दिया
मैडम की चीख निकल गयी और प्रिन्सिपल ज़ोर से धक्के मारने लगे
करीब दस मिनिट बाद
दोनो एक साथ झड गये
मैडम- सर आज तीन महीने हो गये आप जहाँ बुलाते है मैं आती हूँ प्लीज़ अब तो मुझे वो फोटो दे दीजिए
मेरे पति को अगर पता चल गया तो मैं बर्बाद हो जाउन्गी
प्रिन्सिपल- अरे जानेमन तुम्हें अगर फोटो दे दूँगा तो मुझे मज़ा कौन देगा
वैसे भी तुम्हारा पति 6 महीने के लिए शहर गया है अभी तो तीन महीने ही हुए हैं
मेरा तो दिमाग़ घूम गया मैने सोचा यह क्या हो रहा है
उपर से आज पहली बार लंड में अजीब सा दर्द हो रहा था
गाओं में लंड चूत चुदाई यह सब बोलना आम बात थी
पर मुझे आज तक नही पता चला कि दो लोगों में जब झगड़ा होता है तो वो मदर्चोद बेहेन्चोद क्यूँ कहते हैं
मेरी बड़ी नानी ने कहा था कि घर से सीधा स्कूल जाना
और स्कूल से सीधा घर आना
इसी लिए आज तक मुझे पता नही चला कि चुदाई क्या होती है
तभी टेलिफोन की घंटी बजी
मैं होश में आया और अपनी साइकल लेके भागा
उधर से स्टूडेंट आ रहे थे और मैं इधर से जा रहा था
तभी कोई मेरी साइकल से टकरा गया यह वान्या थी
वान्या- देख के साइकल क्यूँ नही चलाते अंधे हो क्या
दिलीप- वो मैं जल्दी में था यह सब वो मुझे बिना देखे बोल रही थी जब वो मेरी तरफ देखी
वान्या- दिलीप तुम अब मुझे सब समझ में आया तुमने यह जान बुझ के किया है
दिलीप- नही वान्या ऐसा नहीं है सच में मैं जल्दी में था
वो उठी और जाने लगी
वान्या- हॅपी बर्तडे और वो चली गयी
दिलीप- मैं उसे देखता रह गया
आज पहली बार वान्या ने मुझे बर्तडे विश किया
आज मैं उसे ही देखने स्कूल जल्दी आया था
मैं अपनी साइकल उठाई और चल दिया घर
बड़ी नानी- अरे बेटा यह क्या हुवा तेरे कपड़े गंदे है तूने किसी से झगड़ा किया है
दिलीप- नही बड़ी नानी साइकल से गिर गया
बड़ी नानी- ठीक है बेटा आज स्कूल रहने दे जा अपने रूम में
दिलीप- जी बड़ी नानी यह कह के मैं अपने रूम में गया
कपड़े चेंज किया और बेड पे लेट गया
प्रिन्सिपल ऑफीस का दृश्य मेरी आँखों के सामने आ गया
मैं बाथरूम गया और नहा के बाहर आया अब थोड़ा अच्छा लग रहा था
मैडम क्या बोल रही थी
क्या प्रिन्सिपल मैडम का फ़ायदा उठा रहे हैं
कल जाके रीना मैडम से बात करूँगा
सोचते सोचते मेरी आँख लग गयी
2 घंटे बाद मेरी नींद खुली मैं नीचे गया बड़ी नानी के पास
मैं उनके पिछे गले लगते हुए मेरी प्यारी बड़ी नानी कितना काम करती हैं आप
बड़ी नानी- क्या बात है बेटा आज मुझ पे बड़ा प्यार आरहा है
दिलीप- वो तो आएगा ना आपके अलावा मेरा इस दुनिया में कौन है
बड़ी नानी- ऐसा नही कहते बेटा तू कितना खुशनसीब है तेरे चाचा और मामा इसी गाओं रहते हैं
दिलीप- सिर्फ़ नाम के है चाचा मामा मासी
आपको याद है ना एक दिन जब मैं बड़े मामा से मिलने गया तो दरबान ने मुझे अंदर नही जाने दिया
और जब बड़े मामा ने मुझे देखा तो दरबान से कहा इसे कभी भी अंदर मत आने देना
और मैं वहाँ से रोते हुए घर आया
बड़ी नानी- आज तेरा जनमदिन है और तू रो रहा है तुझे अपना गिफ्ट नही चाहिए
दिलीप- हाँ चाहिए ना कहाँ है मेरा गिफ्ट
बड़ी नानी- पर तू तो रो रहा है
दिलीप- मैं कहाँ रो रहा हूँ एक बड़ी सी मुस्कान मेरे चेहरे पर थी
बड़ी नानी- अच्छा पहले अपनी आँखें बंद कर
दिलीप- मैने अपनी आँखें बंद की
बड़ी नानी मेरा हाथ पकड़ के ले जाने लगी
बड़ी नानी- अब अपनी आँखें खोल
दिलीप- मैं अपनी आँखें खोली तो देखा एक नयी चमचमाती बाइक
मैने नानी को गले लगा लिया थॅंक यू नानी कल मैं स्कूल इसी बाइक पे जाउन्गा
बड़ी नानी- ठीक है बेटा चले जाना अब खाना खा ले
दिलीप- ठीक है नानी
मैने खाना खाया और सो गया...

User avatar
rangila
Super member
Posts: 5608
Joined: 17 Aug 2015 16:50

मैं अपने परिवार का दीवाना-2

Post by rangila »

कल मैं स्कूल इसी बाइक पे जाउन्गा
बड़ी नानी- ठीक है बेटा चले जाना अब खाना खा ले
दिलीप- ठीक है नानी
मैने खाना खाया और सो गया

नेक्स्ट डे
आज मैं जल्दी उठा क्यूंकी मुझे रीना मेडम से मिलना था
नहा धो कर तैयार होके नीचे गया बड़ी नानी से आशीर्वाद लिया
नाश्ता किया और चल पड़ा अपनी बाइक लेके
जब मैं बाइक पे निकला तो गाओं के सारे लोग मुझे नही मेरी बाइक को देख रहे थे
मैं सीधा मेडम के घर गया
डोर बेल बजाई
मेडम- अरे दिलीप तुम यहाँ कोई काम था क्या
दिलीप- हां मेडम कुछ पर्सनल काम था
पर्सनल नाम सुन के मेडम मुझे घूर्ने लगी
दिलीप- मैने मेडम को हिलाया
मेडम- अंदर आओ तुम बैठो मैं पानी लाती हूँ
दिलीप- मेडम ने मुझे पानी दिया
मैने पानी पीके ग्लास टेबल पे रखा
मेडम कल मैं सुबह स्कूल जल्दी आया था तो मैने देखा आप और प्रिन्सिपल कुछ कर रहे थे
और आप रो भी रही थी
मेडम- यह क्या बकवास है निकल जाओ मेरे घर से अगर आज के बाद मुझसे बात की तो प्रिन्सिपल से कह के स्कूल से निकलवा दूँगी
दिलीप- इस बात पे मैं मुस्कुरा दिया मेडम आपको यहाँ आए सिर्फ़ 6 महीने हुए हैं
ठीक है अब यह बात आपसे मेरी बड़ी नानी ही पूछेगी

मेडम- हँसते हुए तुम्हारी बड़ी नानी कोई महारानी है क्या मैं कहती हूँ निकल जाओ
दिलीप- पूछेंगी नही मेरी बड़ी नानी का क्या नाम है
मेडम- नही जानना है तुम्हारी बड़ी नानी का नाम
दिलीप- पर मुझे तो बताना है मेरी बड़ी नानी का नाम है आशा देवी
मेडम- क्या नाम बताया तुमने
दिलीप- आशा देवी
मेडम- तुम्हारा मतलब है आशा देवी जो हमारे स्कूल की मालकिन और इस गाओं की बड़ी ठकुराइन है
दिलीप- हाँ और मैं वहाँ से जाने लगा
तभी मेडम ने मेरे पैर पकड़ लिए
मेडम- प्लीज़ दिलीप तुम यह बात आशा देवी को नही बतलाओगे अगर उन्हे पता चल गया दो तो गाओं वाले मुझे जान से मार देंगे
दिलीप- मेडम पैर छोड़िए आप मेरी टीचर हैं आपको यह शोभा नही देता
मेडम- नही पहले तुम वादा करो कि आशा देवी से कुछ नही कहोगे रोते हुए
दिलीप- ठीक है
मेडम ने मेरे पैर छोड़ दिए मैने उनको पानी का ग्लास दिया
और कहा अब आप पूरी बात बताएँगी
मेडम- बताती हूँ
कल मैं प्रिन्सिपल के साथ सेक्स कर रही थी
दिलीप- सेक्स यह क्या होता है
मेडम- [इसे तो कुछ नही पता इसे बेवलूफ बना के भगा देती हूँ] सेक्स मतलब हम खेल खेल रहे थे
दिलीप- मेडम आप मुझे बेकवूफ समझती हैं आप सच बता रही हैं या मैं जाके अपनी बड़ी नानी को लेके आऊ
मेडम- रूको मैं बताती हूँ
कल मैं और प्रिन्सिपल चुदाई कर रहे थे
दिलीप- क्या...

User avatar
rangila
Super member
Posts: 5608
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: मैं अपने परिवार का दीवाना-3

Post by rangila »

3
मेडम- रूको मैं बताती हूँ कल मैं और प्रिन्सिपल चुदाई कर रहे थे
दिलीप- क्या ................. आप एक टीचर होके ऐसा कैसे कर सकती हैं
मेडम- बताती हूँ यह बात आज से 8 महीने पहले की है
मेरे पति का इसी स्कूल में ट्रान्स्फर हुआ 2 महीने बाद उनका आक्सिडेंट हो गया
उनके कमर में भारी चोट आई थी डॉक्टर ने कहा कि इनको 6 महीना आराम करना होगा
मेरे पति चिंतित हो गये उनका इलाज तो आशा देवी करवा रही थी
मैं भी शहेर के स्कूल में पढ़ाती थी वहाँ हम ने घर किश्त पे लिया था
मेरे पति की कमाई मुझ से तीन गुना ज़्यादा थी
हम दोनो की आधी कमाई वहाँ के घर की किश्त [एमी] में जाती थी
कहते हैं ना जब मुसीबत आती है तो आती ही जाती है
मेरी नौकरी चली गयी मेरी पति का इलाज तो हो रहा था पर हमारे घर की किश्त पूरी नही हो रही थी
बॅंक वाले भी वॉर्निंग दे गये थे
मेरे पति ने इस बारे में यहाँ के प्रिन्सिपल से बात की कि वो उनकी जगह मेरी पत्नी को रख लें
प्रिन्सिपल ने सॉफ इनकार कर दिया
मेरे पति ने कहा ठीक है मैं आशा देवी से बात करूँगा
प्रिन्सिपल बोले कि आशा देवी से बात करने की कोई ज़रूरत नही है
तुम अपनी पत्नी को बुला लो हम उन्हे एक महीना रखेंगे
अगर वो हमारे यहाँ पढ़ाने में सफल रही तो तुम्हारी जगह उनको रखा जाएगा
मैं दूसरे दिन ही स्कूल आ गयी
जब मैं प्रिन्सिपल ऑफीस पहुँची तो प्रिन्सिपल मुझे घूर्ने लगा
मैने अपना परिचय दिया
मैं इंग्लीश टीचर की वाइफ रीना हूँ


अब कहानी रीना की ज़ुबानी
प्रिन्सिपल- आइए बैठिए
रीना मैडम- मैने उनको अपनी क्वालिफिकेशन बताई
उन्होने मुझे अपायंट कर लिया
सब कुछ अच्छा चल रहा था
आज मुझे स्कूल में पढ़ाते हुए 1 महीना हो गया था
1 स्टूडेंट ने मुझे आके बताया कि प्रिन्सिपल ने मुझे ऑफीस में बुलाया है
मैं प्रिन्सिपल ऑफीस गयी
प्रिन्सिपल- मिस रीना आज आपका 1 महीना पूरा हो गया इस स्कूल में
स्कूल ऑफ होने के बाद आप मेरे घर आ सकती हैं मुझे आपके पढ़ाने की रिपोर्ट बनानी है
रीना मेडम- घर बुलाने की बात मुझे थोड़ी खाटकी पर ज़रूरत तो मेरी थी इस लिए मैने हाँ कह दी
स्कूल ऑफ होने पे मैं पहुँची प्रिन्सिपल के घर
मैने डोर बेल बजाई
प्रिन्सिपल- मिस रीना अंदर आइए प्लीज़ ,,,,,,,,,क्या लेंगी आप चाइ या कॉफी
रीना मेडम- कुछ नही सर पहले आप मुझे मेरी रिपोर्ट सुना दीजिए
प्रिन्सिपल- कंग्रॅजुलेशन मिस रीना आपके रिपोर्ट्स सौ फीसद सही हैं
रीना मेडम- यह बात सुनके मैं बहुत खुश हुई थॅंक यू सर प्रिन्सिपल से ओके सर मैं चलती हूँ
प्रिन्सिपल- 1 मिनिट मिस रीना जाने से पहले आपको मेरा एक काम करना होगा
रीना मेडम- क्या सर
प्रिन्सिपल- आपको मेरी आज की रात रंगीन बनानी होगी
रीना मेडम- मुझे पता था अभी प्रिन्सिपल ने क्या बोला
फिर भी मैने अपनी लाज बचाने के लिए एक आख़िरी कोशिश की
सर मैं कुछ समझी नही
प्रिन्सिपल- मिस रीना आप समझी नही या नासमझ बनने का नाटक कर रही हैं
ठीक है अब मैं आपको सॉफ शब्दो में कहता हूँ आपको आज की रात मेरे साथ सोना होगा
रीना मेडम- सर आपको लगता है मैं आप की यह घटिया बात मानूँगी
प्रिन्सिपल- मत मानिए कल के लिए आप अपना बोरिया बिस्तर बाँध लीजिए
रीना मेडम- सर प्लीज़ आपको क्या मिलेगा मेरी मजबूरी का मत उठाइए
प्रिन्सिपल- मिस रीना प्लीज़ अगर आप नही चाहती है तो लीव
रीना मेडम- ठीक है सर मैं करूँगी
प्रिन्सिपल- अभी आप घर जाइए मैं आउन्गा रात को आपके घर
रीना मेडम- मैं वहाँ से चली गयी और खुद को समझाया सिर्फ़ एक रात की तो बात है
मैं उस्दिन खून के आँसू रोई
रात 8 बजे डोर बेल बजी
मैने गेट खोला तो प्रिन्सिपल ही था
अपनी कमिनि मुस्कुराहट के साथ वो अंदर आयाऔर घर चेक करने लगा
रीना मेडम- क्या देख रहे हैं
प्रिन्सिपल- देख रहा हूँ कहीं कोई कॅमरा या फिर कोई आदमी तो नही है
रीना मेडम- कोई नही है सब आप जैसे कमीने नही होते
प्रिन्सिपल- वो तो मैं हूँ ...अब हम शुरू करें...

User avatar
rangila
Super member
Posts: 5608
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: मैं अपने परिवार का दीवाना

Post by rangila »

अपडेट 4
रीना मेडम- क्या देख रहे हैं
प्रिन्सिपल- देख रहा हूँ कहीं कोई कॅमरा या फिर कोई आदमी तो नही है
रीना मेडम- कोई नही है सब आप जैसे कमीने नही होते
प्रिन्सिपल- वो तो मैं हूँ अब हम शुरू करे

अब आगे.....................................
रीना मेडम- अब मेरी तरफ प्रिन्सिपल बढ़ने लगा
प्रिन्सिपल ने मेरे होंठो पे किस करना शुरू कर दिया
वो कभी उपरवाले होंठ कभी नीचे वाले होंठ को चूस्ता
5 मिनिट बाद उसने किस तोड़ दिया
प्रिन्सिपल- देखिए मिस रीना आप तो ऐसे कर रही हैं जैसे मैं आपका रेप कर रहा हूँ
आप भी साथ दीजिए हां या ना ज़ोर से

रीना मेडम- हाँ
अब प्रिन्सिपल फिर मुझे किस करने लगा
मैं भी उसे किस करने लगी
वो मेरे उपर वाले होंठ को चूसने लगा
मैं उसके निचले होंठ को चूसने लगी
अब हमे किस करते हुए 10 मिनिट हो चुके थे
हम ने किस तोड़ा और साँस लेने लगे
फिर उसने मुझे किस करना चालू किया
अब वो मेरी ज़ुबान अपने मुँह में लेके चूस रहा था
उसने अपनी ज़ुबान मेरे मुँह में देदि
मैं भी उसकी ज़ुबान चूसने लगी
10 मिनिट तक हम ने किस किया
अब वो मेरे दूध को घूर्ने लगा
वो मेरे पीछे आया और दोनो हाथ से मेरे दूध दबाने लगा
उसका लंड मेरी गान्ड को टच कर रहा था
अब वो मेरी गर्दन पे किस करने लगा
नतीजा यह हुआ मैं अपने आप को कंट्रोल ना कर पाई और मोन करने लगी
प्रिन्सिपल ने मुझे अपनी तरफ घुमाया और मेरी साड़ी निकालने लगा
अब प्रिन्सिपल ने मेरी ब्लाउस भी उतार दी
मैने वाइट कलर की ब्रा पहनी थी
प्रिन्सिपल अपना हाथ मेरी पीठ पे ले गया और ब्रा की हुक खोल दी
अब मेरे दूध नंगे थे
प्रिन्सिपल ने मुझे बेड पे लिटाया
एक हाथ से मेरे दूध दबाने लगा
दूसरे हाथ से मेरी चूत सहलाने लगा
अब प्रिन्सिपल मेरे दूध को चूसने लगा
कभी वो मेरे राइट दूध को चूस्ता कभी लेफ्ट दूध को
प्रिन्सिपल ने अपना हाथ नीचे ले जाके
मेरे पेटिकोट का नाडा खोल दिया अभी भी वो मेरे दूध चूस रहा था
मैं पागल हुए जा रही थी
उसने मेरा पेटिकोट उतार दिया
अब मेरी चूत पे पिंक पैंटी थी उसने पैंटी भी उतार दी
अब वो मेरी चूत को देखने लगा
उसने अपने दोनो हाथों से मेरी चूत के मुँह को फैलाक़े देखा
वो मेरी चूत पे अपनी नाक ले जाके सूंघने लगा
वो अब मेरी चूत को अपने मुँह में भर के चूसने लगा और एक हाथ से मेरी दूध दबाने लगा
अब वो अपनी दो उंगली मेरी चूत में डालके अंदर बाहर करने लगा
अब उसका एक हाथ मेरे दूध पे था
वो मेरी चूत में उंगली करते हुए
मेरी चूत चूस रहा था
3 हमले मैं एक साथ ना सह पाई और दोनो हाथों से उसके सर को अपनी चूत पे दबाने लगी
वो और ज़ोर से मेरी चूत चूसने लगा
मैं अपनी गान्ड उठाके अपनी चूत चुस्वा रही थी
मैं अपने दोनो हाथों से चादर पकड़ के झड़ने लगी
ऐसा लग रहा था कि जान ही नही बची हो
मैं अपनी आँखें बंद कर के अपनी साँसे कंट्रोल कर रही थी
तभी मेरे होंटो पे कुछ महसूस हुआ...

User avatar
rangila
Super member
Posts: 5608
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: मैं अपने परिवार का दीवाना

Post by rangila »

अपडेट 5
मैं अपनी आँखें बंद कर के अपनी साँसे कंट्रोल कर रही थी
तभी मेरे होंटो पे कुछ महसूस हुआ
अब आगे...........
रीना मेडम- मैने अपनी आँखें खोली तो
प्रिन्सिपल अपना 6 इंच का लंड मेरे होंटो पे रगड़ रहा था
मैं ना में अपनी गर्दन हिलाई
[आज तक मैने अपने पति का लंड नही चूसा था]
उसने मुझे आँख दिखाई
मैने फिर ना में गर्दन हिलाई
उसने मेरी नाक बंद करदी
मेरा मुँह खुल गया उसने अपना लंड तुरंत मेरे मुँह में डाल के अंदर बाहर करने लगा
मुझे उल्टी आने लगी इतना गंदा लग रहा था
मन कर रहा था लंड को दांतो से काट लूँ
अब वो मेरा सिर अपने दोनो हाथ से पकड़ के
मेरे मुँह में अपना लंड पेल रहा था
मेरी आँखों से आँसू बहने लगे
10 मिनिट तक वो मेरे मुँह को चोदता रहा
जब उसने अपना लंड मेरे मुँह से निकाला तब मैने चैन की साँस ली
एक बार और उसने अपना लंड मेरे मुँह में डाल के गीला किया
और मेरी चूत पे अपना लंड सेट किया और एक ज़ोरदार धक्का मारा
[मेरे पति का लंड भी 6 इंच का है
लेकिन मुझे 6 महीने हो गये चुदवाये हुए]
मैं दर्द से चिल्लाने लगी
उसने अपना लंड मेरी चूत के मुँह तक निकाला और इस बार पहले से भी ज़ोरदार झटके के साथ पेल दिया
और तेज़ तेज़ धक्के मारने 10 मिनिट तक प्रिन्सिपल मुझे बेरेहमी से चोदता रहा
जब मुझे लगा कि मैं झड़ने वाली हूँ
तो उसने अपना लंड निकाल लिया
मुझे ऐसा लगा कि उसने मेरी जान ले ली हो
मैं उसे आँखों से मिन्नत करने लगी
प्रिन्सिपल- ऐसे नही मेरी जान मैं तुम्हे 10 मिनिट से चोद रहा हूँ
और तुम कोई रेस्पोन्स नही दे रही हो
आज तुम मेरी रांड़ हो
अब तुम एक रांड़ की तरह
मुझे से चुदते वक़्त रेस्पोन्स दोगि
रीना मैडम- मैं हां में सर हिलाया
उसने अपना लंड मेरी चूत पे सेट किया
प्रिन्सिपल- तो शुरू हो जाओ
रीना मेडम- हां मेरे राजा आज मैं तुम्हारी रखैल हूँ
आज तुम्हारी रांड़ तुमसे चुदना चाहती हूँ
बोलो ना राजा तुम मुझे अपनी रांड़ को बुरी तरह से चोदोगे ना
प्रिन्सिपल- हां मेरी रांड़ आज मैं तुझे बेरेहमी से पेलुँगा
रीना मेडम- और वो मुझे बेरेहमी से चोदने
लगा और ज़ोर से मेरे राजा आज अपनी रांड़ की चूत का भोसड़ा बना दो
बोलो बनाओगे ना भोसड़ा मेरी चूत का
प्रिन्सिपल- हां मेरी रानी आज मैं तेरी चूत का भोसड़ा बनाउन्गा
यह ले और ले
रीना मेडम- और ज़ोर से पेलो मेरे राजा अया अया अया अयाया
हाआँ ऐसे ही मेरा राजा
हाआाआअँ मेरे राजा मैं तो गयी और मैं झड गयी
आज तक मुझे इतना मज़ा कभी नही आया था
वो अभी भी मुझे चोद रहा था
अब मेरी चूत में जलन हो रही थी मैं रोने लगी
मुझे रोता देख वो रुक गया
उसने अपना लंड मेरी चूत से निकाला
मैं लेटी हुई थी
वो मेरे मुँह के पास आया मैं समझ गयी
मैं उसके लंड को अपने मुँह मे ले के आइस्क्रीम जैसे खाते है उसी तरह मैं उसके लंड को चूसने लगी
5 मिनिट चूसने के बाद उसने मेरा सर पकड़ा और मेरे मुँह को बेरेमी से चोदने लगा
मेरी आँखें बाहर को आने लगी मेरी आँखों से आँसू अभी भी बह रहे थे उसकी गति और तेज़ हो गयी और वो मेरे मुँह मे ही झड़ने लगा उसने अपना लंड मेरे मुँह से निकाल लिया
मैं उसका कम थूकने ही वाली थी उसने मेरा मुँह और नाक दोनो बंद कर दिया
मजबूरी में मैं उसका सारा कम पी गयी....

Post Reply