Adultery शाजिया की कमसिन ख्वाहिशें

User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2374
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: शाजिया की कमसिन ख्वाहिशें

Post by shaziya »

आधे घंटे की आराम के बाद राज ने शाजिया से पुछा... "शाजिया क्या अब गेम शुरू करे" राज का ऐसे पूछते ही शाजिया चित लेट गयी और अपने टंगे पैलादी। अब वह भी उतावली थी। उसे उसकी सहेली सरोज की बातें यद् आने लगी।

"यार जब मर्द अपना लंड अंदर तक घुसाके मारते है तो वह आनंद अलग ही है। तू नहीं समझेगी यह बात। जब तू भी चुदवायेगी न तब समझ में आएगी।"

शाजिया को वह बात यद् आयी और वह बेसब्रेपन से अंकल की डंडे का इंतजार कर रही थी।

वह चित लेटते ही राज उसके ऊपर चढ़गया। लड़की की जांघों के बीच आकर अपना डंडा शाजिया की चूत पर रख रगड़ने लगा।

राज का मोटा डिक हेड अपनी फांकों पर रगड़ते ही शाजिया का सरा शरीर सिहर उठी। उसमे एक अजीब मदहोशी छाने लगी। आज उसके साथ जो भी हो रहा था। उस पर वह विश्वास ही नहं कर पा रही थी।

इधर राज भी अपना संतोष समां नहीं पा रहा था। 21 -- 22 की होने पर भी उसे एक कुंवरी लड़की मिल रही है यह बात उसे हवा मे उडाने लगी। नहीं तो आज कल की लड़कियां तो 15 -16 होते होते अपने classmates से या अपने बॉय फ्रैंड से चुद जति है।

जैसे ही राज ने अपना लंड फांकों पर चलाकर जोर देने वाला ही था की "अंकल..." कहते शाजिया अपना हाथ अपनी बुर पर रखी।

राज ने शाजिया को देखा...

"अंकल मुझे डर लग रहा है.." शाजिया बोली।

"डर... किस बात का... क्या तुम्हे पसंद नहीं है...?"

"वह बात नहीं अंकल.. आपका बहुत बड़ा है.. कहीं मेरी..." शाजिया रुक गयी।

"आरी पगली.. लंड जितना बड़ा और लम्बा होता है औरत को उतना मजा मिलती है। तम्हारी सहेली... क्या नाम है उसका.. हाँ सरोज .. वह क्या कहती थी.. की उसे अपने पति से उतना मजा नहीं आता .. क्यों की उसका छोटा और पतला है" राज एक क्षण रुका और फिर बोला "लेकिन मैं मानता हूँ पहले पहले कुछ दर्द होता है... तुम देखना बाद में तुम्हे जन्नत दिखयी देगी..." राज शाजिया की छोटो नंगी चूची को टीपते बोला।

लेकिन शाजिया फिर भी असमंजस में थी। यह देख कर राज उसे फिर से अपने गोद में बिठाया और एक हाथ से उसकी छोटी चूचियों से खिलवाड़ करता दूसरे हाथ उसके जांघों में घुसाकर उसकी अनचुदीं बुर को ऊँगली से कुरेदने लगा। साथ ही साथ उसका सारा मुहं को चूमने लगा! शाजिया की होंठ, गाल, आंखे वगैरा।

पांच मिनिट से भी कम समय में शाजिया.."आअह्ह। ... हहहहह... ससससस..." सिसकारियां लेते हुए मछली की तरह तड़पने लगी। "अंकल... अंकल..." वह बड़ बढ़ाने लगी। उसकी बुरसे मदन रस एक नाले की तरह बहने लगी। और उसके बुर के अंदर की खुजली बढ़ गयी।

"आह्ह अंकल.... मममम... कुछ करो.. मेरी सुलग रही है... ऎसा लग रहा है..जैसा अंदर आग लगी है.. आआआआह" कहते राज से लिपटने लगी।

राज ने मौका देख कर उसे फिर से चित लिटाया और उसके जंघों में आ गया और अपना लंड शाजिया की चूत पर रखा। शाजिया इतना गर्म हो चुकी थी की वह खुद अंकल (राज) के लंड को पकड़ कर अपनी चूत के मुहाने पर रख कर बोली अंकल.. अब डाल दीजिये..." और अपनी कमर उछाली।

शाजिया की उतावली देख कर राज एक जोर का शॉट दिया।

"आमम्मा.... ओफ्फोऊ... मैं मरी.... अंकल.. नहीं. निकालो... मुझे नहीं चुदाना .. मममम.. मेरी फटी." शाजिया चिल्लाई और राज को अपने ऊपर से धकेलने की कोशिश की।

शाजिया के आँखों में आंसू आ गये। राज उसे समझा रहा था की कुछ नही होगा लेंकिन वह नहीं मान रही थी और "प्लीज... अंकल.. निकालो.. उफ्फो कितना मोटा है. मेरी तो फट ही गयी.. नहीं.." कहती वह रोने लगी।

"स्नेह.. देखो इधर मेरी ओर.. देखो.." राज उसे अपनी ओर घुमाते बोला। शाजिया की आंखे आंसू से भरे थे। "क्या बहुत दर्द हो रहा है...?" अपने लंड को अंदर ही रख पुछा।

"नहीं तो...! प्लीज अंकल निकालो.." वह रुआंसे स्वर में बोली। अगर राज चाहता तो वाह उसे जबरदस्ती चोद सकता था, लेकिन राज को यह अच्छा नहीं लगा। साली इतनी तंग है... कमसे कम छह महीने तक तो उसके साथ मजे लूट सकते थे... यह अवसर वह खोना नहीं चाहता था। शाजिया के बुर से अपना लंड बाहर खींचा।

लंड पर शाजिया की बुर के रस के साथ कुछ खून दब्बे भी दोखी। खून देखते ही वह और गभरा गयी.. देखो क्या कर दिये आपने मेरे से.. खून..."
User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2374
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: शाजिया की कमसिन ख्वाहिशें

Post by shaziya »

"आरी शाजिया गभरा मत.. मैं सब ठीक कर दूंगा.." कहते वह उठा और व्हिस्की बोतल और रुई ले आया। रुई पर थोड़ा व्हिस्की उंडेलकर उस रुई को शाजिया की चूत की फाँकों के बीच टच किया... "ससस.....मममम जलन हो रही है.." बोली। एक ग्लास में पेग व्हिस्की डाला और उसे शाजिया से पिने को कहा।

"नहीं अंकल.. यह शराब है.. मैं नहीं पीती.." वह अपना मुहं दूसरी ओर फेरली।

पगली.. यह दवा है, पीके तो देख केसा तुम्हारा दर्द कम होता है..." कहते राज ने शाजिया से जबरदस्ती पिलाया।

"याक.. कड़वा है.." वह कहि। राज फिर उसे अपने बाँहों मे लिया और उसे फिरसे गर्माने की कोशिश करने लगा। शाजिया की बुर पर व्हिस्की का रुई का और उसके पेट में एक पेग हिस्की बहुत कारगर सिद्द हुयी।

तीन चार मिनिट में स्नेह का सरा दर्द हांफट हो गया पेट में व्हिस्की उसमे फिर से गर्मी भरने लगी। देखते देखते वह फिर रोमांस में आगयी और राज की हरकतों का एन्जॉय करने लगी। उसके चूमने और चाटने का जवाब वह वैसे ही देने लगी।
--
राज उसे पीट के बल लिटाकर उसकी चूत में ऊँगली करने लगा।

"आअह्ह " वह एक बार कसमसाई। राज उसकी सिसकारों का कोई परवाह न करते उसकी बुर को कुरेदने लगा। अब शाजिया में भी गर्मी बढ़ने लगी और वह राज के हरकतों से चटपटाने लगी। देखते ही देखते अब उस लड़की की बुर खूब सारा मदन रस छोड़ने लगी। राज उसकी चूची को पूरा का पूरा अपने मुहं में भर लिए और चूसने लगा तो दूसरे हाथ से उसकी दुसरी चूची को जोर जोरसे मसलने लगा।

अब शाजिया से रहा नहीं जा रहा था। वह अपनी नितम्ब उठाते "अंकल.. अब चोदिये न.. प्लीज...." कहते राज के लण्ड को मुट्ठी में दबाकर अपनी ओर खींचने लगी।

"नहीं शाजिया... नहीं... मैं चोदने लगूंगा तो तुम फिर से रोने लगोगी ... फिरसे निकालो.. निकालो.. चिल्लाने लगोगी..." वह बोलता रहा और अपना काम करता रहा।

"नहीं अंकल अब मैं कुछ नहीं कहूँगी... आपकी इस लंड की कसम ... जल्दी डालिये.. मेरी सुलग रही है.."

राज उसे इसि हालत में देखना चाहता था... "पक्की बात..." उसकी बुरमें ऊँगली चलते पपूछा।

"हाँ अंकल...पक्की बात... जल्दी चोदो मुझे.." वह मिन्नते मांगने लगी।

"ठीक है फिर.. मैं आ रहा हूँ..." कहा और वह शाजिया की जांघों के बीच आ गया। शाजिया झट अपनी फांके उसके मुस्सल के लिए खोली। चूत के अंदर लालिमा लिए नमी को देखते ही राज आव देखा न ताव ... योनि के मुहाने पर लंड ठिकाया और एक जोर का धक्का दिया...

"aammmmmaaaaaa..... mei... mareeeeee ह..अहा.." कही।

उसका आधा लंड शाजिया की अन चुदी बुर में बोतल की कॉर्क की तरह फंस गयी। अब की बार राज उसी एक न सुनी.. उसे मालूम है... उसके लिंग बहुत मोटा और लम्बा है... फिर भी आधा लंड बाहर खींच कर उसके मुहं को बंद कर एक और धक्का दिया... आआह्ह्ह... उसका पूरा मुस्सल जड़ तक लड़की की बुर में।

ह्ह्ह्हआआ...आमम्मामआएमाआ..." शाजिया के मुहं से एक न सुन ने वाली आवाज निकली। राज की हाथ अब भी उसके मुहं को दबाये थी।

लड़की साँस लेने चटपटाते रह गयी।

बहुत देर तक राज कोई हरकत नहीं की... सिर्फ स्नेह पर पड़ा रहा... बहुत देर बाद लड़की में फिर हरकत शुरू हुई। उसकी बुर पानी छोड़ने लगी। एक अजीब सी सुर सूरी भी होने लगी। शाजिया अपनी कमर इधर उधर हिलाते रही और कुछ देर बाद अपनी कमर उठाने लगी।

राज उसकी कमर उठाने का नजरअंदाज कर बस वैसे ही पड़ा रहा। उसे मालूम है... अब लड़की अपने आप जोश में आएगी।

उसने जैसे सोचा वैसे ही हुआ... "शाजिया कमर उछलते बोली... अब चोदिये भी अंकल..." कहकर अपनि कूल्हे उछालने लगी। अब राज शुरू हो गया... वह भी अपनी कमर उठा उठाके उसे चोदने लगा..

जैसे जैसे अंकल की लंड उसके अंदर बाहर होरही है... वैसे ही वह भी अपनी गांड उछालते चुदाने लगी।

राज का लण्ड.. उसकी तंग चूत की दीवारों को रगड़ते अंदर बाहर होने लगी।

"हहह... शाजिया.. माय लव.. कितना तंग है तुम्हारी चूत..मममम..तुम्हे मजा मिला रहा है न...." राज अपनी चुदाई जारी रखते पुछा।

"हाँ अंकल.. अब सच मे मजा आ रहा ही.. चोदिये और अंदर तक डालकर पेलिए..मममम... इस चुदाई के लिए कितनो दिनोंसे तड़प रहीथी.. चोदो और अंदर तक डालिये..." शाजिया बड बड़ा रहीथी।

ले मेरी रानी मौज कर अंकल के चुदाई से.. अब तुम जब चाहो तब एक बार फ़ोन कर देना और यहाँ आजाना.. तिम्हे स्वर्ग दिखा दूंगा... ममम.. स्नेह.. अब रहा नहीं जाता.. छोड़ रहा हूँ.. बोलो कहाँ छोडूं.. अंदर या बाहर" वह पुछा।
User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2374
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: शाजिया की कमसिन ख्वाहिशें

Post by shaziya »

ले मेरी रानी मौज कर अंकल के चुदाई से.. अब तुम जब चाहो तब एक बार फ़ोन कर देना और यहाँ आजाना.. तिम्हे स्वर्ग दिखा दूंगा... ममम.. स्नेह.. अब रहा नहीं जाता.. छोड़ रहा हूँ.. बोलो कहाँ छोडूं.. अंदर या बाहर" वह पुछा।

"अब मैं सेफ पीरियड में हूँ अंकल.. मैं सुरक्षित हू.. अंदर ही छोड़िये... मेरी सहेली सरोज कहती है की मर्द का गर्म वीर्य अंदर लेने से राहत मिलती है.. वह आनंद मैं चाहती हूँ.. डालिये अंदर ही..आआह्ह्ह्हह्ह.. मेरा भी होगया अंकल.. मैं झड़ रही हूँ..." कहते वह भी झड़ गयी.. साथ ही साथ वह अंकल का गर्म लस लसे का आनंद भी ले रही थी।

उसके बाद उस दिन राज से उसने एक बार फिर से चुदवायी। संतृप्त होकर शाम को वह अपने घर के लिए निकली।

"शाजिया... सच कहना मजा आया...?" राज पुछा।

"हाँ अंकल बहुत मजा आया..पहले दर्द बहुत हई थी पर बादमें बहुत आनंद आया.. बादमें तो मैं स्वर्ग में विचर रही थी। थैंक्स अंकल..." शाजिया बोली।

"थैंक्स तो मुझे बोलना चाहिए...वैसे फिर कब मिलोगी...?"

"जल्दी ही मुलाकत होगी अंकल बाई.. बाई... वह बोलकर बाहर को निकली।
User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2374
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: शाजिया की कमसिन ख्वाहिशें

Post by shaziya »

उस दिन संडे था। सुबह के दस बजकर पंद्रह मिनिट हुए हैं। शाजिया किचन में खाना बना रही थी और उसकी अम्मी कुछ कपडे सिलवाई कर रही थी। शाजिया ने दिल में सोचि थी की वह आज कहीं नहीं जाएगी, और घर में आराम करेगी। इतने में उसकी मोबाइल बजती है। शाजिया ने देखा कि वह कॉल राज का था।वह एक क्षण हीच किचाई और फ़ोन उठाकर बोली "हेलो... कौन...?"

"अच्छा अब मैं कौन होगया...?" उधर से राज की आवाज शिकायत भरे स्वर में आयी।

"ओह, अंकल.. आप... सॉरी.. में खाना बनारहि थी तो आपकी फ़ोन बजी जल्दबाजी में मैं आपका नाम नहीं देखि... सॉरी" वह मृदु स्वर में बोली। वह राज को कुपित नहीं करना चाहती थी।

"डार्लिंग.. कितने दिन होगये तुम मुझसे मिलकर.. आज मिलोगी...?"

'सच में ही एक महिने के ऊपर होगये राज अंकल से मिलकर' शाजिया सोची और बोली "बोलिये अंकल..."

"डार्लिंग... बोलना क्या है.. कोई तुमसे मिलने तड़प रहा है...?"

स्नेह को मालूम है की कौन तड़प रहा है.. मुस्कुराते पूछी.. "कौन तड़प रहा है अंकल...?"

"डार्लिंग आजाओ तो उस से मिलवा देता हु... बेचारा बहुत एक्ससिटेड है तुमसे मिलने के लिए..."

"अंकल फ़ोन पर डार्लिंग या डियर मत बोलो... मेरे साइड में ही अम्मी ठहरी है... हाँ आज मिलते है.. कहाँ मिलना है...?" फिर फ़ोन पे बोली... "कोई नहीं अम्मी.. मेरी सहेली है.. पिक्चर देखने चलने को कह रही है..." उधर से राज समझ गया की वह अम्मी से बहाना बनारही है.. और "घर आजाओ..." वह फूस फुसाया।

"ठीक है.. एक घंटे में आती हूँ..." कही और अम्मी की ओर घूम कर बोली... "अम्मी... मेरी सहेली पिक्चर के लिए बुला रही है.. मै चलती हूँ.. सब खाना बन गया है..."

अरे बेटी खाना तो खाके जाओ..." उसकी अम्मी बोली।

"नहीं अम्मी.. मेरी सहेली के साथ खालूंगी..."

फिर वह तैयार होकर पहले वह लेग्गिंग्स और कुर्ती पहन ने को सोची, लेकिन कुछ सोचकर उसने सलवार सूट पहनी और अम्मी की bye .. bye.. कहकर निकल पड़ी।
///////---------\\\\\\\
Post Reply