Incest परिवार मे प्यार बेशुमार

Post Reply
User avatar
Dolly sharma
Pro Member
Posts: 2787
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: Incest परिवार मे प्यार बेशुमार

Post by Dolly sharma »

दो दिन ऐसे ही गुजर जाते है..
मगर कोई रास्ता डॉली को नज़र नही आ रहा था .. ..

आज पड़ोस में भजन कीर्तन होने की वजह से सुषमा सुबह सुबह भजन सुनने चली गई थी ...

डॉली किचिन में लगी सबके लिए नाश्ता बनाती है..

ज्योति नाश्ता करके कॉलेज जा चुकी थी..

राज भी नाश्ता करके किचिन में पहुचता है और अपनी दीदी को
पीछे से बाँहो में भर लेता है ...


और फिर डॉली को पलटते हुए उसके होंटो को किस करने लगता है ..

डॉली.. क्या कर रहे हो भाई पापा ने देख लिया तो गजब हो जायेगा ..

राज ... क्या हो जायेगा अपनी बीवी को प्यार कर रहा हूँ ..

डॉली.. भाई दो दिन यू ही गुजर गये मुझे तो बहुत डर लग रहा है ...

राज .. दीदी क्यूँ बेकार में डर रही हो ..में हूँ ना ..कुछ नही होगा

और राज अपनी दीदी के होंटो को किस करते हुए कंपनी चला जाता है ..


घर में सिर्फ़ डॉली और उसके पापा रह जाते है..

डॉली सोचती है क्यूँ ना अपने पापा से राज के बारे में बात की जाय..
ये सोचकर डॉली किचिन से निकल कर अपने रूम में पहुचती है ..
और अपनी माँग में सिंदूर भरकर गले का मंगल सूत्र बाहर निकालते हुए..

अब डॉली बिल्कुल सुहागन के रूप में आ चुकी थी.. डॉली हिम्मत करके अपने
पापा के सामने पहुच जाती है ...

पंकज कंपनी जाने के लिए बिल्कुल रेडी था ...

डॉली.. पापा

डॉली की आवाज़ सुनकर पंकज की नज़र जेसे ही डॉली पर पड़ती है..
माँग में सिंदूर गले में मंगल सूत्र पंकज के पैरों तले ज़मीन खिसक जाती है...

पंकज.... ये सब क्या है डॉली..

डॉली... पापा मेंने शादी कर ली

पंकज...क्या कह रही है तू. कब किससे मुझे पहले क्यूँ नही बताया ...

पंकज को तो बहुत बड़ा शॉक्ड लग गया था ...
User avatar
Dolly sharma
Pro Member
Posts: 2787
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: Incest परिवार मे प्यार बेशुमार

Post by Dolly sharma »

डॉली अपनी नज़रे झुके खामोश खड़ी थी ...

पंकज.. डॉली बेटा अगर तुझे अपनी पसंद से शादी करनी है थी तो कम से कम एक बार मुझे कहा तो होता..में तेरी शादी धूम धाम से करता...

खड़े खड़े डॉली की आँखो से आँसू की धारा बहने लगती है ..जिसे देखकर पंकज का दिल पिघल जाता है ...

पंकज.. अच्छा अब ये तो बता कौन है वो जिससे तूने शादी की है ...

डॉली... पापा राज

पंकज...क्याआआआआआआअ

काफ़ी देर कमरे में खामोशी छा जाती है ...
पंकज... ऊओ माइ गॉड ये तुम लोगो ने क्या कर लिया..

डॉली के आँसू रुक नही रहे थे
रोते रोते डॉली अपने पापा से कहती है ..
डॉली... पापा में राज से बहुत प्यार करती हूँ..और अगर मुझे मेरा प्यार नही मिला तो में अपनी जान दे दूँगी...
ये कहकर रोते हुए डॉली अपने रूम में चली जाती है ...

पंकज शटेचु बना शॉक्ड सा खड़ा रह जाता है ..
उसे भी अपना प्यार याद आ जाता है
मगर समाज की वजह से उसका प्यार अधूरा रह जाता है ...

मगर डॉली के मूह से मरने की बाते सुनकर पंकज को बड़ा डर लगने लगता है... पंकज अपने बच्चो को जान से भी ज़्यादा प्यार करता था ...

अब क्या करे पंकज की कुछ समझ में नही आ रहा था..दुनिया वाले कभी भी इस रिस्ते को कबूल नही करेंगे..
और डॉली का प्यार देखकर पंकज को लगता है ये लड़की ज़रूर राज के लिए अपनी जान दे देगी ...


काफ़ी देर खड़े खड़े सोचता रहता है ... कुछ सोचकर पंकज डॉली के पास उसके रूम में पहुचता है...
डॉली तकिये में अपना मूह छुपाए रोये जा रही थी.



पंकज बिल्कुल डॉली के करीब बैठे हुए..डॉली को दिलासा देता है ..
पंकज...डॉली में जानता हूँ प्यार किसी से भी हो सकता है..में भी इस प्यार से गुजर चुका हूँ जानता हूँ बिछड़ने पर कितनी तकलीफ़ होती है...
मगर बेटा ये दुनिया वाले यहाँ रहकर इस प्यार को कभी नही समझ नही पाएँगे..
जीने नही देंगे ताने मार मार कर बदनाम कर देंगे ...

डॉली.. पापा मुझे अब राज के बिना जीना भी नही है ..


पंकज.. एक रास्ता है डॉली लेकिन बहुत ही कठिन ...

डॉली.. बताइए पापा में राज के लिए कुछ भी कर जाउन्गी...

पंकज .. तुम दोनो को ये शहर छोड़कर हमेशा के कहीं दूर अपनी नयी दुनिया बसानी होगी.. क्या तुम ये कर पाओगी ...

डॉली के लिए ये डगर बहुत कठिन थी मगर फिर भी डॉली इस डगर पर चलने को तैयार हो जाती है ...
डॉली.. हा में राज को पाने के लिए कुछ भी कर जाउन्गी....


पंकज... फिर ठीक में तुम्हे एक अड्रेस देता हूँ तुम राज को लेकर वहाँ चली जाना ..

डॉली... मगर पापा जब यहाँ सब हमारे बारे में पूछेंगे तो क्या कहोगे ..

पंकज ...में दिल पर पत्थर रखकर कह दूँगा तुम दोनो नहर में डुब कर मर गए...
तभी दुनिया वालो की ज़ुबान बंद हो सकती है ..
----
User avatar
Dolly sharma
Pro Member
Posts: 2787
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: Incest परिवार मे प्यार बेशुमार

Post by Dolly sharma »

डॉली... पापा दुनिया वालो की ज़ुबान तो बंद हो जाइयगी..मगर ज्योति और मम्मी को क्या बताओगे ...

पंकज.. डॉली बेटा में वक़्त आने पर सुषमा और ज्योति को सब कुछ बता दूँगा...
मगर तुम इस बारे में किसी से कुछ नही कहोगी ....

डॉली ... ठीक है पापा ....

पंकज....तुम्हारा ये प्यार इतना आसान नही है तुम्हे इस प्यार को पाने के लिए ना जाने कितने इम्तहनो से गुआरना पड़ेगा...
"यह इश्क़ नही आसान, बस इतना समझ लो... एक आग का दरिया है, और डूब कर जाना है!"
पंकज डॉली को बड़े प्यार से समझा रहा था .. आगे कैसे उनको अपनी ज़िंदगी
अकेले रहकर गुजारनी है..



---------
शाम को किचिन में डॉली अपने हाथो से खीर पूरी हलवा बनाती है..
सब मिलकर खाना खाते है...

ज्योति ... अर्रे वा आज तो खाने में बड़ी प्यारी खुश्बू आ रही है ...

सुषमा... आज सारा खाना डॉली ने अपने हाथो से बनाया है ...

पंकज सोचता है शायद आखरी बार डॉली के हाथो का बना खाना खा रहे है ..ये सोचकर पंकज की आँखे भर आती है ...

डॉली अपने हाथो से सबको खाना पैरोंस रही थी और प्याली में हलवा करके दे रही थी....

खाना खाकर डॉली किचिन का सारा काम
निपटा ती है और फिर अपने रूम में आकर
ज्योति के पास लेट जाती है ...

ज्योति .. दीदी तुम्हारे हाथो में तो जादू है.. कितना स्वादिष्ट खाना बनाया मज़ा आ गया ...

डॉली...बस बस रहने दे अब इतना भी अच्छा नही था ...
डॉली और ज्योति काफ़ी देर तक बाते करती रहती है .....
----------
Post Reply