Incest मम्मी मेरी जान

Post Reply
User avatar
SATISH
Super member
Posts: 9435
Joined: 17 Jun 2018 16:09

Incest मम्मी मेरी जान

Post by SATISH »

दोस्तो मैं आपका अपना सतीश एक और नई कहानी शरू कर रहा हु यह एक इनसेस्ट कहानी है एक ऐसे बेटे की जो अपनी बेहद हसीन माँ और खूबसूरत बहन का दीवाना है पर अब उसकी बहन शादी करके चली गई है मैं भी क्या आपको बोर करने लगा मैं अपनी बकवाणी बंद करता हु और कहानी शुरू करता हु जो आपको जरूर पसंद आयेगी ……सतीश
----------------------------------------
सतीश" 19 साल का हैंडसम स्मार्ट और मस्क्युलर लड़का है. उसका लंड नौ इंच का है. जवानी का जोश उसके ऊपर हर वक़्त सवार रहता है. ये उन दिनों की बात है... जब छुट्टी चल रही थी और सतीश अपनी बेहद सेक्सी और हसीन मा"सानिया" के साथ घर पे अपनी छुट्टियाँ गुज़ार रहा है.
"सानिया" अपने पति विशाल की मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में एक एग्जीक्यूटिव है. ३७ साल की उम्र में भी उसका जिस्म एक २० साल की कुंवारी लड़की की तरहा बेहद सेक्सी और वेल शेप्ड है. वो ज़्यादा तर बॉडीफिट वाइट ब्लाउज और शार्ट स्कर्ट और छोटी सी नायलॉन की पेन्टी और पेन्टी होस पहनती है जिस में उसके बेहद हसीं सेक्सी और गड्ढेदार गोल गोल चुत्तड़ बड़ी मुश्किल से समाते हैं उसकी पावरोटी जैसी फुली हुई चिकनी चुत भी पूरी तरहा से उसमे नहीं समां पाती उसकी रसीली चुत का सेक्सी शेप साफ़ नज़र आता है.
सानिया बेहद खूबसूरत और सेक्सी है. गोरा रंग, काली ज़ुल्फे, बेहद खूबसूरत गुलाबी ठोस चुची... चिकना सपाट पेट.. पतली कमर... २ बड़े बड़े उभरे हुए बेहद हसीन चुतड़... सेक्सी रसीली चुत.. मदमस्त फ़िगर... "३६D-३०-३८"
जो देखे उसका लंड खड़ा हो जाए... सानिया का सबसे बड़ा दीवाना कोई और नहीं उसका अपना बेटा सतीश है.
सतीश के दिमाग में हमेशा एक ही बात घूमति रहती है की... माँ को चोदने में कितना मज़ा आयेगा... माँ के हसीन पैरों को अपने कंधे पे रख के अपना नौ इंच का लंड उनकी रसीली चुत में डालने में कितना मज़ा आयेगा...
मा की चुत को अपने वीर्य से भर के उन्हें माँ बनाने में बड़ा मज़ा आयेगा...
सानिया ये जानती है की उसका बेटा उसे चोदना चाहता है...
ये बाद उस से छुपी नहीं है... उसका बेटा हर वक़्त उसे भूखी नज़रों से देखता है... वो इस बात से बेहद खुश है की ३७ साल की उम्र में भी कोई है जो उसका दीवाना है... ये सोचते ही उसकी चुत वीर्य छोड़ने लगती है.. लेकिन ये और कोई नहीं बल्कि उसका अपना बेटा है.. भले ही वो कितना भी हैंडसम और स्मार्ट है लेकिन है तो उसका अपना सगा बेटा. माँ और बेटे को एक दूसरे के लिए ऐसी सोच रखना गलत है. ये क़ानून और समाज के खिलाफ है. वो ये सोचती है की इस उम्र में हर लड़के के साथ ऐसा ही होता है और वक़्त के साथ साथ उसकी और उसके बेटे की सोच बदल जाएगी..

एक वक़्त था जब सतीश अपनी बेहद हसीन और सेक्सी बहन मोना का दीवाना था मगर मोना की शादी के बाद सतीश अपनी माँ के सेक्सी जिस्म की तरफ आकर्षित हो गया...
सतीश सुबह सो के उठता है और फ्रेश होने के बाद सिर्फ हाफ पैंट पहने घर के बाहर गार्डन में चला जाता है... गार्डन में सानिया रोज़ की तरहा एक छोटी सी नाईट गाउन पहने नंगे पैर घास पे टहल रही है...
ओ वहीँ खड़े खड़े माँ की सेक्सी नंगी मटकती गांड को घुरने लगा.

सानिया ने जैसे ही अपने बेटे को अपने जिस्म को घुरते देखा उसके जिस्म में एक सनसनी दौड़ गयी. उसने प्यारी आवाज़ में अपने बेटे से कहा.
सानिया : "गुड मोर्निंग, बेटा."
सतीश : "मोर्निंग, मा."
ओ आगे बढा और अपनी माँ के पास जाकर उसने अपनी माँ को पीछे से गले लगा लिया.
सतीश : आई लव यु मा...
सानिया ने पलट के अपने बेटे को स्माइल दी और कहा “आई लव यु टू मेरे लाल”.
ओ अपने बेटे के कड़क लंड को अपनी गांड के बीच में चुभते हुए मेहसुस कर रही है. उसे ये एहसास हो गया है की उसके बेटे का लंड उसके पति के लंड से काफी बड़ा है.
सानिया : कल रात कैसी गुज़री...? तुम ठीक से सोये की नही...?
सतीश : हाँ मा... मैं ठीक से सोया... क्या डैड कोलकता चले गये...?
सानिया : हाँ अभी कुछ देर पहले ही गए है...

User avatar
SATISH
Super member
Posts: 9435
Joined: 17 Jun 2018 16:09

Re: मम्मी मेरी जान

Post by SATISH »

सानिया ये जानती है की उसका बेटा ये क्यों पूछ रहा है...? उसके पति के सामने उसके साथ उसके बेटे का बर्ताव कुछ और होता है... और उसके पति के जाते ही उसके बेटे का बर्ताव बदल जाता है... उसका बेटा उसके साथ काफी चिपकने लगता है...
सानिया बुरा नहीं मानति. वो ये जानती है की उसका जवान बेटा इस वक़्त उम्र के बेहद कामुक दौर से गुज़ार रहा है और वो अपनी माँ की मर्ज़ी के बगैर कुछ नहीं करेगा... और.
सतीश अपनी माँ को अपनी बाँहों में कस लेता है. उसका खड़ा लंड उसकी माँ की सेक्सी गांड में घूसने लगता है.
ओ अपना हाथ माँ के पेट् से ऊपर की तरफ सरकाने लगता है जब तक उसके हाथ अपनी माँ के स्तन के नीचले हिस्से तक नहीं पहुँच जाते.
सतीश : ओह्ह मा... "आई लव यु."
सानिया अपना हाथ पीछे ले जा के अपने बेटे के बालों में प्यार से घुमाने लगती है और अपनी गर्दन घुमा के अपने बेटे को देखति है.
सानिया : मुझे पता है मेरे लाल, में भी तुम्हे बहुत प्यार करती हु. तुम्हारी सोच से भी कहीं ज़्यादा.
सतीश : नहीं मा... तुम समझि नही... में.. मैं तुमसे बेहद प्यार करता हु. "आई लव यू मां"
सानिया अपने बेटे की तरफ घूम जाती है और अपने बेटे के हांथों पे अपनी ऊँगली रख देती है.
सानिया : "शश!!! मुझे पता है की तुम मुझे कितना चाहते हो. तुम्हे मुझे ये बात समझाने की कोई ज़रूरत नहीं है.
मुझे पता है की तुम्हारे दिल में इस वक़्त क्या चल रहा है...
सतीश : क्या सच मे...?
सानिया : हा... और ये पर्फेक्ट्ली नेचुरल है... तुम्हारी उम्र के लड़के अपनी माँ को इसी तरहा से चाहते हैं और देखते है. मुझे बताओ की तुम कैसा मेहसुस कर रहे हो...?
सतीश : मेरे ख...या...ल से... जलन.....
सोनिअ : जलन....!!! किस से...?
सतीश : द... द... डैड से...
सोनिअ : तुम्हे अपने डैड से जलन हो रही है... क्यूँ की में उनकी हूं....?
सतीश : हा... और श्... शायद... मैं ये जानता हूँ की वो तुम्हे वो सुख वो प्यार नहीं दे सकते जिसकी तुम हक़दार हो.... मुझे पता तुम्हे उस चीज़ (सेक्स) की कितनी चाहत है... उसके बिना तुम अधुरी हो... और....
सानिया : और....?
सतीश : और न जाने तुम कितने साल से तड़प रही हो उस के लिये... मुझसे तुम्हारी ये तड़प नहीं देखि जाती... तुम्हे इस अधुरी हालत में देख के मेरा दिल रो पडता है... मुझे बड़ी तकलीफ होती है तुम्हारे इस अधुरेपन को देख के... है काश डैड की जगह में होता...
सानिया : तुम होते तो.....?
सतीश : अगर डैड की जगह में होता तो में तुम्हे वो हर सुख देता जिसके लिए तुम न जाने कब से तड़प रही हो... मैं तुम्हारे अधुरेपन को पूरा कर देता... और तुम्हे इतना प्यार करता इतना प्यार करता की अगले ७ जनम के लिए काफी होता...
सतीश की बाते सुन के सानिया की आँखें नम हो गयी और उसने सतीश को अपने सीने से लगा लिया... माँ की आँखों में आँसु देख के सतीश ने कहा...
सतीश : "आई' एम सोर्री, मा... मुझे पता है की मेरा ऐसा सोचना बेवकूफ़ी है..." मगर में तुम्हे यूँ तड़पते हुए भी तो नहीं देख सकता...
सानिया : "नही मेरे लाल... ये बेवकूफ़ी नहीं है, स्वीटी. तुम्हारी फीलिंग्स एक दम रियल है... जब कोई किसी से इतना प्यार करता है... की उसकी हर तकलीफ आपको अपनी लगती है... आप उसके हर दर्द पे तड़प उठ ते हो... वही हाल इस वक़्त तुम्हारा है... तुम मुझसे इतना प्यार करते हो की मेरे बिना कुछ कहे भी तुम्हे ये पता चल गया की में किस तकलीफ में हु...
सतीश : तो माँ जो मैंने अभी कहा क्या वो सच है...?

User avatar
SATISH
Super member
Posts: 9435
Joined: 17 Jun 2018 16:09

Re: मम्मी मेरी जान

Post by SATISH »

सानिया : हा... ये सच है की में और तुम्हारे डैड १४ साल से साथ रह के भी एक दूसरे के साथ नहीं है...
सतीश : "१४ साल" से...? क्या कहा १४ साल से तुम तड़प रही हो...?
सानिया : हा... और में कर ही क्या सकती हु... जब मेरी किस्मत में तडपना ही लिखा है तो में क्या कर सकती हु... और वैसे भी किस्मत के लिखे को कौन बदल सका है...
अपणी माँ की बात सुन के सतीश की आँखें चमक उठि.
सतीश : अगर ऐसी बात है तो... तुम्.... तुम मुझे क्यों नहीं ट्राय करने देती...? मुझे पता है.... नहीं मुझे यकीन है की में तुम्हारे अधुरेपन को दूर कर लुंगा... सही में में तुम्हे शीकायत का कोई मौका नहीं दूँगा... मैं तुम्हे वो हर सुख दूंगा जिसके लिए तुम १४ साल से तड़प रही हो...
अपने बेटे की बात सुन के सानिया हंसने लगी. वो दोनों एक दूसरे के बहुत पास एक दूसरे के चेहरे के सामने खड़े है. सानिया के हाथ अपने बेटे के कंधे पे है...
सानिया : "होल्ड इट, मिस्टर. तुम्हे ये पता है की में और तुम वो नहीं कर सकते... जो तुम कह रहे हो और जो तुम चाह रहे हो वो नहीं हो सकता...
सतीश : क्यों मा...? हम वो क्यों नहीं कर सकते...? और डैड को ये कभी पता नहीं चलेगा... तुम्हे उन से इस बारे में कुछ कहने की ज़रुरत ही क्या है... ये हमारा सीक्रेट रहेगा...
अपने बेटे की बात सुन के सानिया ज़ोर ज़ोर से हंसने लागी....
सानिया : "सतीश, तुम्हे पता भी है की तुम मुझसे क्या करने को कह रहे हो...?
सतीश : "मा में जो कह रहा हूँ उस बात में पॉइंट है... क्यों नहीं है क्या...? मेरी बात सही है... तुम डैड को धोका दिए बिना... फिर से वो सुख पा सकती हो...
सानिया : सतीश... लेकिन इस तरहा भी तो में आपने पति को धोका ही दे रही हू...
सतीश : "हा.... लेकिन फिर भी अगर कुछ गलत करने से आपको सुख मिलता है तो उस में बुराई क्या है... जो सुख तुम्हे डैड नहीं दे सकते वो सुख तुम्हे में दे सकता हु...मैं, मैं प्रॉमिस करता हूँ की हमारे बारे
मे किसी को कुछ भी पता नहीं चलेगा....
प्लीज माँ प्लीज.....
सानिया : "स्वीटी, तुम जो कह रहे हो हम वो नहीं कर सकते..."
सतीश : "क्यूं? माँ हम वो क्यों नहीं कर सकते...? तुम्हे जो सुख चाहिए वो तुम्हे में दे रहा हूँ फिर क्यों नहि...?
सानिया : "सतीश, ये बात मेरे सुख पाने की नहीं है ये बात है मेरी तुम्हारे साथ... अपने बेटे के साथ सेक्स करने की है..
सानिया : अपनी शादी के इन 20 सालों में एक बार भी मैंने उन्हें धोका नहीं दिया है... और अब भी में उनको धोखा दे के उनका विश्वाश नहीं तोडना चाहती...
अपनी माँ की बात सुन के सतीश अपना सर झुका लेता है... लेकिन फिर एक पल के बाद वो अपनी माँ को देखता है..
सतीश समझ जाता है कि थोड़ी ट्राय की तो माँ को चोदा जा सकता है उसके लिए माँ को बहोत सिड्यूस करना होगा ताकि वह खुद चोदने को तैयार हो जाये यही एक रास्ता है बहोत सालो से माँ चुदी नही है उसे सिर्फ सिड्यूस करना है बाकी अपने आप हो जायेगा.
आज जिस तरह दोनो माँ बेटे के बिच खुला पन है कुछ समय पहले नही था इसकी शुरुवात सतीश ने की थी
सतीश पिछले साल में खूब बदल गया था, मगर लम्बाई में नहीं बल्कि सतीश का जिस्म खूब भर गया था. उसकी छाती, कन्धे, जांघे अब वयस्क मर्द की तरह चौड़ी हो गयी थी मगर वह अब भी अपने डैड जैसा लंबा, चौढा मर्द नहीं बन सका था इसीलिए तब उसे जबरदस्त झटका लगा था जब सतिशने देखा था के उनके इतने लम्बे-चौड़े शरीर के बावजूद उनका लंड कितना छोटा सा था. एक बार डैड और उनके दोस्तोँ ने एक पार्टी रखी थी जहा डैड उसे भी साथ लेकर गए थे. डैड उस समय बाथरूम में खड़े पेशाब कर रहे थे जब वह बाथरूम में गया था. वो पेशाब करने के बाद अपना लंड हिलाकर उसे झाढ़ रहे थे और सतीश उनके अगले यूरीनल पर खड़ा हो गया क्योंके बाकि सब पहले से बिजी थे.
जब सतिशने कनखियों से देखा तो वो पेशाब कर अपना लंड हिला रहे थे. सतिशने बचपन के बाद आज पहली बार उनका लंड देखा था. बचपन में सतिशने तब उनका लंड देखा था जब उन्होनो उसे अपना लंड दिखाते हुए समझाया था के कुदरति तौर पर मर्द पेशाब कैसे करते है. उस समय उसे उनका लंड बहुत बढा लगा था. डैड के लंड को देखने पर लगा वो झटका उसके गर्व के एहसास में बदलता जा रहा था और फिर वो गर्व का एहसास अभिमान में बदलने लगा. सतीश अपने लंड को बाहर निकालने वाला था मगर फिर वह डैड को शर्मिंदा नहीं करना चाहता था इस्लिये वापस जिपर बंद करने लगा.
विशाल:-"शरमाओ मत्त"
डैड हंस पढ़े थे.
विशाल:- "मुझे पूरा यकीन हैं तुम्हे इस मामले में शर्मिंदा होने की जरूरत नहीं है" वो सिंक की और मूडते हुये मेरी पीठ थपथपा कर बोले. सतीश अब भी अपनी जिपर से उलझा हुआ था जब वो हाथ सुखाने के बाद हँसते हुए बाहर चले गये. अगर वह उसे भूल जाता तो शायद बात वहीँ ख़तम हो जाती और सबकुच ठीक ठाक हो जाता. मगर वह चाहकार भी उसे भुला न पाया. डैड की हँसी जैसे उसके दिमाग में घर कर गयी थी और बार बार उसे उसके कानो में वो अपमानजनक हँसी गूँजती सुनायी देती. डैड की वो अपमानजनक हँसी बार बार उसके दिल में किसी शूल की तरह चुभती थी. 'मुझे उस समय उन्हें अपना लंड दीखाना चाहिए था' वह सोचता. 'उसके लंड पर नज़र पढते ही उनका मुंह बंद हो जाता. उन्हें मालूम चल जाता के असली मर्द का लंड कैसा होता है, कम से कम उनके मुकाबले में. अगर उनका लंड ऊँगली के समान था तो सतीश का कलायी के समान'

दोस्तो कहानी के बारे में अपनी राय जरूर दे

कहानी जारी रहेगी

User avatar
Withlove
Super
Posts: 71
Joined: 07 Oct 2014 07:28

Re: मम्मी मेरी जान

Post by Withlove »

अति उत्तेजक और कामुक कहानी की शुरुआत है बंधु

(^@@^-1rs2) 😠 😱

😡 😡 😡 😡 😡
दोस्ती नाम नहीं सिर्फ़ दोस्तों के साथ रहने का..
बल्कि दोस्त ही जिन्दगी बन जाते हैं, दोस्ती में..


हिन्दी हमारी राष्ट्रभाषा है

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 14324
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: मम्मी मेरी जान

Post by rajsharma »

बहुत ही शानदार शुरुआत है दोस्त

😠 😱 😘

😡 😡 😡 😡 😡 😡
Read my all running stories

(फरेब running) ......(लव स्टोरी / राजवंश running) ...... (दस जनवरी की रात ) ...... ( गदरायी लड़कियाँ Running)...... (ओह माय फ़किंग गॉड running) ...... (कुमकुम complete)......


साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

Post Reply