Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post Reply
User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2374
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

Me: love u jaan
Raj: love u to
Chalo Apne kaam pe lag jao
Me: Jo hukam mere pati Dev
Aur me Raj ke tango ke beach aa kar uske Lund ko chusne lagi

Raj: that's my girl suck it jaan
Aur me Raj ki baatain sun kar aur tez tez chusne lagi
Tabhi Raj aage jhuka aur mere boobs pakad liye
Me: uski taraf dekhte hu jaise puch rahi thi ki blouse utar du
Raj: ha me sir hilata hai
Aur maim Lund chuste hue apna blouse utar deti hu
Baki ka kaam Raj kar deta hai meri peath par hath pherti hue meri bra ka strap khol kar bra utar deta hai aur meri boobs ko halke halke dabane lagta hai
Aur meri ankhon me dekhne lagta hai
Jaise puch Raha ho itne halke theek hai ha aur tez maslu
Me : ankhon ke isare se aur tez jaan halke me maza nahi Aata
Aur Raj Apne hath Ka aur dabab mere boobs par banata hai ki meri siskari nikal jati hai par muh me Lund home ki vajah se siskari mere gale me dab jati hai.
Par me Lund to chusna jari rakhti hu
pata nahi aj kafi Der chusne ke baad bhi Raj nahi jhad raha tha.
Raj ki ankhon me dekhte hue jaise Raj samajh gaya ho
Raj: kya hua jaan thak gai
Me: ha me sir hilate hue
Aur Raj mere kandhe pakad kar utha leta hai aur apne pass seat par bitha deta hai
RajV kya hua jaan
Me: aj kya hua hai
Raj: kyun
Me,itni Der ho gai par tum jhad Nahi rahe
Raj: kyun achha nahi laga
Me::,bahut par muh dard kar kar gaya
Raj,koi baat nahi ab mujhe kuch karne do
Aur mujhe seat par Lita kar meri sari aur peticote oopar karne lagta hai.
Painty to pehle he uter du thi
Is liye jaise he sari oopar hue me kamar ke niche nangi ho gai par ghuguru meri chut ki faak me fas gaye the
Raj: meri chut par hath pherne lagta hai
Raj: maa Dekh rahi ho kaise ye ghuguru aap ki chut ki faako me fas kar maze le rahe hai
Me,: tumhari vajah se aur Kai Baar to paresan bhi karte hai
Raj: kaise
Me: jaise abhi meri faako me fade hue hai to Kabhi Kabhi dard karte hai
Raj: to utar do
Me: Kabhi nahi tumhe Achha lagata hai Na meri chut par ghuguru to ye aise he rahenge tumhari khushi ke liye
Aur Raj jhuk kar meri chut par apni jeebh ferne lagta hai
Me: sssssssss maaaaaaaa
Mere muh se siskiya Nikal ne lagti hai par Raj meri chut ko bade pyar se chat raha tha
Me: uuuuuuiiifffffffffff maaaaaaaaa Raj kya kar rahe ho jaan gudgudi ho rahi hai
Raj meri ankhon me dekhte hue meri chut ki clit ko apne danto se halka halke katne lagta hai
Aur meri chut thoda pri cum chhod deti hai
Raj clit ko katte latte meri chut me apni do ungli daal deta hai
Ab Do taraf se hamla ho Raha tha meri chut par ek clit ko kaat Raha tha aur dusri ungli kar raha tha
Aur meri chut in hamlo ko seh Nahi payi aur Pani chhod ne lagi Jo behkar bahar aane laga jise Raj ne chat chat kar saaf kar diya
Tab bhi wo meri ankhon me dekh Raha tha
Jaise puch Raha ho kaise laga
Aur mere muh se bas itna nikla
Me: maza aa gaya jaan
Aur apni ankhe band kar li
Mujhe mehsus hua ki raj mere oopar aa gaya hai
Aur chut chusne ki vajah se uska Lund thada ho gaya tha
Me: Raj ki ankhon me dekhte hue
Kya karna hai
Raj: jara Lund ko apni chut par set karo chut Marni hai
Me: thodi der aaram karne do abhi to chut be Pani chhoda hai
Raj: phir GaanD maar Lu
Me,: Mann ho raha hai to maar lo
Raj: dard hoga
Me,: hone do bas itna karna jab mere muh se cheakh nikle to mere muh ko band kar denA
Phir Jaise Mann kare meri GaanD maar lena aur mere dard ki parwah mat karna
Raj: itna pyar karti ho mujhe se
Me: Apne aap se jyada jaan
Itne men Raj ne apna topa meri chut me ghusa Diya
Me : uuuuuuuuueeeeee3 maaaaaaaaa badmash baat karte karte ghusa Diya Na
Raj: kya karu chut ki garmi bardast nahi kar paya aur sarak gaya
Me: Achha ji Apne ap ghus gaya
Raj:itni Der maim ek aur jhqtka mar Diya
Me: aaaahhhhhh seeeeeeee jaan daal do pura ruko mat ab mujhe se ab during bardast nahi ho rahi aur jitni Tez maar soko utnj tez maro apni maa ki chut mere bete
Aur intna sunna tha Raj ne tabatod dhakke Marne shuru kar diye
Aur me Raj ke niche padi PADI sisak ti rahi jab Raj se dhakke bardast ke bahar ho gaye to apni dono tange Raj ki kamar par lapet Di
His se uski speed kam ho Jaye par Nahi Aj usne wo kiya Jo me soch bhi nahi Sakti thi
Mere pair uski kamar se lipte hue the aur meri bahe uske gale me thi aur Raj ne mujhe usi position se apni godi me utha liya position ye thi ki Raj train ke farsh par khada tha aur me uski gale me bahen dale aur Kamar me pair lapet us par jhool rahi thi aur uska Lund meri chut ke andar bahar ho raha tha
Aur mere muh se siskari ki jagah cheakhe Nikal ne lagi kyun ki aj aisa lag Raha tha ki Raj Ka Lund meri chut se ghusa kar mere muh se bahar aa jayega aur meri chut aisa lag Raha tha ki kisi ne usme love ki rod ghusa Di hai
Me: aaaahhhhhh seeeeeeee aaaaaa maaaaaaaaa marrrrrrrr daaaaaaaalaaaa Raj mar gai aj tumhari maa bahut dard ho raha hai uuuuuuiiifffffffffff faaaaaad Di maineeri. Chuuuuit tum ne aj aAaaa aisa lag raha hai ki aj such me meri chut la udghatan hua hai itna dard to pehle bhi nahi hua tha mere raja
Raj: jaaaan maza aaaà Raha hai Na mere Lund par jhula jhul kar
Me: maza ke sath sath saza bhi mil rahi hai jaan bahut Lars ho raha hai such me meri chut fat gai aj
Aaaaa maaaaaaaaa aaaahhhhhh seeeeeeee aaaaaa maaaaaaaaa marrrrrrrr daaaaaaaalaaaa kamine madarchod
Raj: maaaaa kya bola ap ne kya bola
Me: madarchod aur kya
Kya tum madarchod nahi ho apni maa se shadi ki aur ab honeymoon par la kar apne Lund par jhula jhula rahe ho
To hue Na madarchod
Raj: kuch din Aur ruk jao abhi to bhenchod bhi banaunga
Me: ban Jana mana kaun kar raha hai apni to apni maa ki chut mar Kar apniaa ki thanda karo bhir bhenchod banana
Aur Raj meri kamar ko aur tez tez uchalne laga
Me: aaaahhhhhh seeeeeeee aaaaaa me gai mere raja me gai aur Raj ke Lund par Pani chodne lagi
User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2374
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

राज था की झड़ने का नाम नही ले रहा था

मे: उूुुुउऊः रुक जा तो कुछ देर दर्द हो रहा है अंदर जलन पड़ रही है

राज: अभी से अभी तो हनिमून भी चालू नही हुआ है

मे: तब तो मेरी बेटी मेरे साथ होगी और हम दोनो मिल कर तुम्हे ठंडा कर देंगे

राज: अभी भी मेरी कमर तो उछल रहा था
ये तो चीटिंग होगी


मे: चीटिंग क्यूँ हम दी होंगी इस लिए ये चीटिंग नही है की 2 इंच की चूत मे अपना 9 इंच का लंड घुसा देते हो
और आराम भी नही करने दे रहे

राज: यहाँ आराम करने नही चूत और गान्ड का उद्घाटन करने आया हू और वो करके रहुन्गा

मे: रोक कौन रहा है तुम्हे मेरी जान पर तोड़ा आराम तो करने दो अपनी जान अपनी माँ को

और राज रुकने की जगह और तेज़ धक्के मारना शुरू कर देता है
और मेरे मूह से चीख निकलने लगती है जिन्हे मे बड़ी मुस्किल से दबा ती हूँ अपने मूह को बंद करके
और लगातार 15 मिनिट की नॉनस्टॉप चुदाई के बाद राज मेरी चूत मे झड़ने लगता है
और मुझे ले कर सीट पर बैठ जाता है

और मे भी बैठी रहती हूँ क्योंकि राज का लंड अब भी पानी छोड़ रहा था

जब राज के लंड से पानी निकलना बंद होता है मे उसपर से उठ जाती हू और उठते ही मेरी चूत मे से मेरा और राज का पानी बाहर बहने लगता है जिसे मे अपनी पैंटी से पोछने की कोशिश करती हू पर वो तो पहले से गीली थी क्यूँ की राज ने थोड़ी देर पहले उसे अपने मूह मे लिया था


और मे पानी को अपने पेटिकोट से पोछती हू
और राज के बगल मे बैठ जाती हू

और हम दोनो अपनी अपनी साँसे दुरुस्त कर रहे थे

राज: माँ मे मादरचोद हूँ

मे: हा हो और भेन्चोद बनना चाहते हो

राज: हाँ मा बनना चाहता हू

मे: मे हेल्प करूँगी

राज: जब आप को इतना दर्द हो रहा है तो नेहा की तो ,,,,,,,,,,,,,,

मे: मैं हूँ ना मेरी जान मे बनाउन्गी तुम्हे भेन्चोद मेरे मदर्चोद बेटे ये वोल कर उसे अपनी बाहों मे भर कर वही लेट जाती है और दोनो थोड़ी देर बाद सो गये

सोते से किसी के मोबाइल का अलार्म बजा आँख खुली तो राज के मोबाइल का अलार्म बज रहा था

टाइम सुबह के 4 बज रहे थे

अलार्म से राज भी जब गया

मे,: अलार्म इतनी सुबह का

राज: मेरे फोर्हेड पर किस करते हुए 5 बजे स्टेशन आ जाएगा
तो फ्रेश भी होना पड़ेगा
और मेरी हालत को देखने लगा


मे: मुझे ऐसे क्या देख रहे हो अपनी हालत देखी है
राज का लंड उस टाइम खड़ा हो रखा था

राज: ये तो सुसू की वजह से खड़ा है

मे: और मेरे कपड़े आप ने उतारे थे मेरी चूत मारने के लिए ओके
और मे उठ ने लगी

राज: एक राउंड और कर ले

मे: शरमाते हुए टाइम देखो फ्रेश होने भी जाना है

राज: ज़ल्दी से कर लेंगे

मे: हाँ पता है कितनी ज़ल्दी झाड़ ते हो आप
चलो मुझे भी सूसू आई है और आप का ये भी सूसू के लिए खड़ा हो रखा है

राज उठ गये और हम दोनो ने कपड़े ठीक किए और बाथरूम करने साथ गये
और साथ मे फ्रेश भी हो गये
User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2374
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

कूप मे आ कर


मे: जान हम जा कहाँ रहे है

राज: शिमला और अभी कालका का स्टेशन आने वाला है

मे,: चेंज करू या रहने दूं

राज: यूँ ही रहने दो अनुपम साथ है तो सोच सकता है कि कपड़े कहाँ चेंज किए

मे: ओके जान
और हम स्टेशन का वेट करने लगे

तभी गेट पे नॉक हुई

राज: कौन

नेहा की आवाज़ थी मैं

गेट खुला हुआ था
नेहा अंदर आ गई

नेहा: आप तो रेडी हो मुझे लगा रात को मेहनत की होगी तो क्या पता आँख खुली हो या नही

मे: बड़ी आई मेहनत वाली

नेहा,: आप के चेहरे से दिख रहा है कितनी मेहनत की है भाई ने आप पर

मे: हाँ मेरी चाल बिगाड़ नी होती है

नेहा: माँ अब तो आप को.आदत पड़ जानी चाहिए

मे: किसकी

नेहा: पापा के लंड की

मे: रुक जा होटेल आने दे फिर देखती हूँ जब तेरे अंदर जाएगा तो कितनी ज़ल्दी आदत पड़ेगी

नेहा: हाए वो दिन कब आएगा

मे: आज ही मेरी रानी मैने राज से वादा किया है ज़ल्दी ही इनको भेन्चोद बनाउन्गी

नेहा: मा आप ना बहुत बिगड़ गई हो

मे: अच्छा जी

नेहा: पापा देखो ना माँ को

राज: पर मुझे पापा क्यूँ बोल रही हो

नेहा: क्यूँ जब किसी की माँ दूसरी शादी करती है तो किस से शादी करती है वो ऑटोमॅटिकली उसके पापा बन जाते है

राज: पर तुम मेरी बहन हो और मे अपनी बहन को चोद कर बहन चोद बनना चाहता हू

नेहा': भाई भी

राज: हाँ मे भी
और नेहा को अपनी बाहों मे भर लेता है और मेरी तरह देख कर
वित युवर पर्मिशन

मे: कॅरी ऑन जान
और राज नेहा के लिप्स चूसना चाहता है

नेहा: भाई लिपस्टिक खराब हो जाएगी

मे: मेरे पास लिपस्टिक है
और ये सुन कर राज नेहा के होठों को चूसने लगता है और नेहा भी राज के गले मे बाहें डाल कर उसका साथ देती है और किस ऐसे कर रहे थे जैसे कभी किस ना की हो

मे: छोड़ दो कुछ होटेल के लिए रहने दो

नेहा राज से अलग हो गई

नेहा: माँ आप को जलन हुई कि मे भाई की बाहों मे थी और किस कर रही थी

मे: होती है पर राज की खुशी के लिए कुछ भी

नेहा,: अच्छा जी

मे राज की बाहों मे जा कर चिपक गई
हाँ अपने राज के लिए कुछ भी

नेहा,भाई कभी किसी से प्यार करने लगे तो

मे: जिस से शादी करेंगे उससे ठीक पर बाकी के साथ सिर्फ़ फिज़िकल मेंटली नही
क्यूँ राज आप ऐसा ही करोगे ना

राज: प्रॉमिस प्यार किसी से नही क्यूँ कि मेरा पहला और आखरी क्रश आप हो और रहोगी

मे: देखा मेरे राज को

नेहा: आप भाई से आप कर कर बात कर रही हो

मे: क्यूँ कि.शादी की है तो इज़्ज़त तो देनी पड़ेगी
ना बाकी बेड पर तो ये पूरे मादर चोद है

नेहा: मतलब

मे: कुछ नही

तभी अनुपम भी आ जाते है
और कुछ देर बात करने के बाद हमारा स्टेशन आ गया और हम कालका स्टेशन उतर गये
Post Reply