प्यास बुझाई नौकर से

Jemsbond
Super member
Posts: 5945
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: प्यास बुझाई नौकर से

Post by Jemsbond »

रूबी समझ नहीं पाती की वो राम को इतना करीब क्यों आने दे रही है, उसे मना क्यों नहीं कर पा रही? इधर रामू भी अच्छी तरह मालिश करता है। उसके गोरे पैर कितने मुलायम थे। रामू के कठोर हाथ रूबी के नरम पैरों को रगड़ रहे थे, जिससे रूबी को दर्द होने लगा था।

रूबी- रामू धीरे... दर्द होता है।

रामू- बीवीजी आप हो ही इतनी नाजुक तो दर्द तो होगा ही।

रूबी- प्लीज धीरे करो।

रामू अपने हाथ का दवाब कम करता है। अब रूबी को थोड़ी सी राहत मिलती है। राम कहता है- “बीवीजी मैं सफाई कर देता हूँ आप आराम कीजिए..." और कुछ देर तक रूबी के पैर की मसाज करने के बाद वो दूसरे कमरो में सफाई करने चला जाता है।

रूबी दर्र की गोली लेती है और गरम पानी से नहाने चली जाती है। उसे लगाकर दर्र की गोली लेने से और गरम पानी से नहाने से उसे नींद भी आ जाएगी और दर्द भी काम होगा। नहाने के बाद वो कपड़े चेंज करती है और बेड पे लेट जाती है। थोड़ी देर में उसे नींद सी आने लगती है।

इधर रामू बाकी कमरों की सफाई करने के बाद रूबी के कमरे में आता तो देखता है की रूबी सोई हुई है। रामू काम छोड़कर सिर्फ उसे निहारने लगता है। फिर उसे याद आता है की उसे काम भी खतम करना है। बड़ी मुश्किल से वो रूबी के चेहरे से अपनी नजर हटाता है और रूम की सफाई करने लगता है। लेकिन बार-बार अपनी आखों से रूबी को देखता है, जिससे उसके दिल को शांति मिलती है। कितनी खूबसूरत है छोटी मालेकिन। भगवान ने फुर्सत में ही बनाई होगी ऐसी अप्सरा।

सफाई करते-करते वो गलती से कमरे के बाथरूम का दरवाजा खोल लेता है और उसकी नजर सीधी रूबी के बाथरूम के फर्श पे पड़ी पैंटी पे जाती है। रूबी की पैंटी देखकर उसके मन में हलचल होने लगती है और वो काम करना बंद कर देता है। उसका लण्ड उसकी पैंट में टाइट होने लगता है। वो अपने लण्ड को पैंट के ऊपर से ही से चूंटी काट लेता है, जिसका जवाब लण्ड जोर से हिलकर देता है। राम का दिल पैंटी उठाकर देखने का करता है पर वो पक्का करना चाहता है की रूबी सोई हुई है या नहीं?

राम हल्के से रूबी को आवाज लगाता है की अगर उठ गई तो बोल दूंगा की काम खतम हो गया है। पर रूबी कोई रेस्पान्स नहीं देती। जब रामू को यकीन हो जाता है की रूबी सोई हुई है तो वो बाथरूम में जाकर पैंटी उठा लेता है। उसे पैंटी में एक सफेद सा दाग दिखता है। हो ना हो यह कल रात का चूत का पानी होगा, जो रूबी ने तकिये से चूत रगड़कर निकाला होगा। रामू पैंटी को अपनी नाक के पास लेजाकर सूंघता है। एक अजीब सी दुर्गंध रामू को उतेजित कर देती है। वो पैंटी के सफेद दाग को चूमता है।
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 5945
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: प्यास बुझाई नौकर से

Post by Jemsbond »

(^%$^-1rs((7)
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************


User avatar
naik
Super member
Posts: 4312
Joined: 05 Dec 2017 04:33

Re: प्यास बुझाई नौकर से

Post by naik »

(^^^-1$i7) (#%j&((7) (^@@^-1rs7)
FANTASTIC UPDATE BROTHER KEEP POSTING
WAITING FOR THE NEXT UPDATE (^^^-1j7)

User avatar
SATISH
Super member
Posts: 8102
Joined: 17 Jun 2018 16:09

Re: प्यास बुझाई नौकर से

Post by SATISH »

(^^^-1$i7) 😘 😠 excellent story mind blowing hot & sexy please continue
Image

Post Reply