काला इश्क़

josef
Super member
Posts: 3253
Joined: 22 Dec 2017 15:27

Re: काला इश्क़

Post by josef »

update 40

मैं उसकी तरफ करवट ले कर लेट गया, अपनी उँगलियों से ऋतू के बाएँ गाल को सहलाने लगा| उँगलियाँ सहलाते हुए मैं उसकी गर्दन तक ले आया और फिर धीरे-धीरे उस के स्तनों के ऊपर| ऋतू के दोनों स्तन लाल थे, मैंने आगे बढ़ कर ऋतू के दाएँ स्तन को मुंह में ले लिया और धीरे-धीरे प्यार से उसे चूसने लगा| मैं बहुत आहिस्ते-आहिस्ते ऋतू के स्तन को निचोड़ कर पी रहा था और अब ऋतू के जिस्म में हरकत शुरू हो गई थी| "उम्..ममम...हम्म्म...अह्ह..!!!" कराहते हुए उसने अपने दाएँ हाथ को मेरे सर पर रख दिया और अपनी उँगलियाँ मेरे बालों में फिरानी शुरू कर दी| मैं रूका और ऋतू की तरफ देखने लगा, उसकी आँखें अभी भी बंद थी| मैं ऊपर की तरफ आया और उसकी पलकों को धीरे से चूम लिया| फिर नीचे को आया और उसके अध् खुले अधरों को चूम लिया, तब जा कर ऋतू की आँख धीरे-धीरे खुली| ऋतू बहुत धीरे से बुदबुदाते हुए बोली; "जानू!" मुझे तो ऐसा लगा जैसे उसमें शक्ति ही नहीं बची कुछ बोलने की| मैं अपने बाएं कान को उसके होठों के पास ले गया, तब ऋतू बुदबुदाते हुए बोली; "जानू! सर दुःख रहा है! बदन टूट रहा है|" मैं समझ गया की मुझे क्या करना है| मैं उठ के खड़ा हुआ और ऋतू को अपनी गोद में उठाया और उसे बाथरूम में ले आया| कमोड पर ऋतू को बिठाया और गर्म पानी का शावर चालु किया| जैसे ही गर्म पानी की बूँदें हमारे शरीर पर पड़ीं, जिस्म को चैन आया| ऋतू अब भी आँखें बंद किये हुए गर्दन पीछे किये हुए बैठी थी| पानी की बूँदें उसके चेरे से होती हुई उसके स्तन पर गिर रही थीं| धीरे-धीरे ऋतू की आँखें खुलीं और मुझे खुद को इस तरह देखते हुए वो शर्मा गई और मुस्कुराते हुए दूसरी तरफ मुँह कर लिया| मैंने अपने दाहिने हाथ से ऋतू की ठुड्डी को पकड़ के अपनी तरफ घुमाया, ऋतू ने अपनी आँखें मूँद ली थी और मुझे उस पर बहुत प्यार आ रहा था|

शर्म भी इक तरह की चोरी है…
वो बदन को चुराए बैठे हैं…

ये शेर सुन कर ऋतू ने आँखें खोलीं और बैठे-बैठे ही मेरी कमर को अपने हाथ से थाम लिया| "अच्छा मेरी जानेमन! अब आपको कैसा लग रहा है?" मैंने ऋतू से पूछा तो वो मेरा हाथ पकड़ कर खड़ी हुई और बोली; "बेहतर लग रहा है|" मैंने साबुन उठाया और अपने और ऋतू के ऊपर वाले बदन पर लगाया, नीचे लगाने के लिए जब मैं झुका तो उसने मुझे रोक लिया और खुद अपने और मेरी टांगों में साबुन लगाया| फिर उसने साबुन से मेरे लंड को साफ़ किया और फिर अपनी बुर को| अच्छे से नाहा-धो कर हम दोनों बाहर आये और अब काफी तरो-ताजा महसूस कर रहे थे| ऋतू की नजर जब बिस्तर पर पड़ी तो उसे जैसे रात का एक-एक वाक्य याद आ गया और वो खुद हैरानी से मुझे देखने लगी| उसे और मुझे खुद यक़ीन नहीं हो रहा था की कल रात को हम दोनों को आखिर हुआ क्या था जो हम सेक्स के लिए इस तरह पागल हो गए थे|

तभी दरवाजे पर दस्तक हुई, मैंने दरवाजा खोला तो बाहर काम्या और रोहित खड़े थे| हालाँकि मैंने उनका रास्ता रोका हुआ था पर फिर भी काम्या मजाक-मजाक में मुझे अंदर की तरफ धकेलते हुए अंदर आ गई और बिस्तर की हालत देख कर अपने दाएँ हाथ से अपने माथे को पीटा| पीछे से रोहित भी अंदर आ गया और मेरी पीठ थपथपाने लगा| मैं हैरानी से उसकी तरफ देख रहा था की तभी काम्या बोली; "मानु जी! आप तो सच्ची बड़े बेदर्दी हो! मेरी फूल सी दोस्त की रात भर में हालत ख़राब कर दी आपने?"

"इसका क्रेडिट मुझे जाता है?" रोहित बड़े गर्व से बोला और हम तीनों उसकी तरफ देखने लगे|

"क्या मतलब?" काम्या बोली|

"मैंने बारटेंडर से XXX सेक्स ऑन दा रॉक्स बनाने को कहा था, उसने हमारी ड्रिंक्स में वायग्रा डाल दी थी|" उसने हँसते हुए कहा, अब ये सुन कर तो मैंने अपना सर पीट लिया और मैं सोफे पर बैठ गया| "मेरी और आपकी ड्रिंक्स में तो डबल डोज था!" उसने ठहाका मारते हुए कहा|

"तेरा दिमाग ख़राब है बहनचोद!" मैंने उसे डाँटते हुए कहा| "चूतिया हो गया है क्या? वियाग्रा कभी ड्रिंक्स के साथ लेते हैं? वो भी डबल डोज़?" मैंने उसे गुस्सा करते हुए कहा|

"सॉरी ब्रो! मैं तो बस मजे के लिए...."

"अबे काहे के मजे? तेरे मजे के चक्कर में बेचारी ऋतू बेहोश हो गई थी! साले उसे कुछ हो जाता न तो सोच नहीं सकता की मैं तेरा क्या हाल करता!" मैंने सोफे से उठते हुए रोहित को आँखें दिखाते हुए कहा| तभी काम्या मेरे पास आई और हाथ जोड़कर माफ़ी माँगते हुए बोली; "मानु जी! माफ़ कर दो! मैं इसकी तरफ से आपसे माफ़ी मांगती हूँ|" अब चूँकि आज उसका जन्मदिन था तो मैंने बस हाँ में गर्दन हिलाई और ऋतू की तरफ देखा जो डर के मारे गर्दन झुका कर खड़ी थी|

मैं चल कर ऋतू के पास पहुँचा और उसे गले लगा लिया, उसे बुरा लग रहा था की उसने ऐसे नासमझ दोस्त बनाये जिस के कारन आज मुझे इतना गुस्सा आया| "सॉरी मानु जी! मेरा कोई गलत मकसद नहीं था.....I’m extremely sorry!” ऋतू की वजह से मैंने बात को ज्यादा नहीं खींचा और उसे माफ़ कर दिया| “Let’s order some black coffee; this headache is killing me!” सब ने ब्लैक कॉफ़ी के लिए हाँमि भरी और मैंने साथ में आलू के परांठे भी मंगाए| अब चूँकि हमारा कमरा पहले से ही तहस-नहस था तो हम अपना खाना ले कर काम्या वाले कमरे में चले गए| उनका कमरा हमारे कमरे के ठीक उलट था, वहाँ तो सब कुछ ठीक-ठाक था| लग ही नहीं रहा था की वहाँ कोई चुदाई हुई है! खेर मैंने इस बारे में कुछ नहीं कहा और सोफे पर बैठ के नाश्ता करने लगा| ऋतू ने टी.वी. पर गाने लगा दिए और हम चुप-चाप बैठ के खाने लगे| खाने के बाद अनु मैडम का फ़ोन आया और मैं उनका कॉल लेने के लिए बाहर चला गया| आज मैडम का मूड बिलकुल ऑफ था और वो काफी मायूस लग रही थीं| मैंने पूछा भी पर उन्होंने टाल दिया और बात घुमा दी| मैंने उन्हें कुछ मेल फॉरवर्ड किये और एक लास्ट मेल में उन्हें CC करते हुए अंदर आया| मेरी नजर अब भी फ़ोन में थी और जब मैं अंदर घुसा तो काम्या बोली; "क्या मानु जी? यहाँ भी काम? यहाँ तो हम एन्जॉय करने आये हैं|"

"ऑफिस का एक प्रोजेक्ट है, बीच में छोड़ के आया हूँ और ऊपर से ऋतू भी यहीं है! इसलिए कुछ मेल्स फॉरवर्ड करने थे!" मैंने कहा और फ़ोन जेब में रख कर वापस बैठ गया| "तो आज कहाँ का प्रोग्राम है?" काम्या ने मुझसे पुछा?

"यहाँ पर किले हैं देखने के लिए, जंतर मंतर है और हाँ जल महल भी है|" मैंने कहा तो काम्या बोली; "किले देखने कल चलेंगे! कल रात की थकावट अब भी है|" हम तैयार हो के निकले और पहले जंतर-मंतर गए| आगे-आगे मैं और ऋतू थे एक दूसरे का हाथ थामे और पीछे रोहित और काम्या| अचानक से काम्या आई और ऋतु के कंधे पर हाथ रख कर उसे मेरे से दूर ले गई| दोनों एक तरफ जा कर सेल्फी खींचने लगीं| मैं अकेला था तो मैं चुपचाप चल रहा था और वहाँ जो कुछ लिखा था उसे पढ़ रहा था| तभी पीछे से रोहित आ गया और मुझे कंपनी देते हुए वो भी पढ़ने लगा| दोनों लडकियां फोटो खींचते हुए बातें कर रहीं थी और मैं और रोहित बेंच पर चुपचाप बैठे थे|

काम्या: रितिका....तू और मैं बेस्ट फ्रेंड्स हैं ना?

ऋतू: हाँ पर क्यों पुछा?

काम्या: देख तू ने मेरे लिए इतना कुछ किया, अपने बॉयफ्रेंड के साथ यहाँ मेरा बर्थडे सेलिब्रेट करने आई और....और वो भी कितना अंडरस्टैंडिंग है! तेरी कितनी केयर करता है, तुझे कितना प्यार करता है!

ऋतू: क्यों रोहित तुझे प्यार नहीं करता?

काम्या: वो तो साला चूतिया है! कल देख कितना अच्छा मौका था, हरामखोर ने दो-दो वायग्रा खाईं पर साले ने कुछ किया ही नहीं?! कुत्ता मेरे से पहले ही झाड़ गया और मैं बेचारी तड़पती रही! जब दुबारा इसका खड़ा हुआ तब मुझे उठाने आया तो मैंने भी इसकी गांड पर लात मार दी, भोसड़ी का लंड हिला कर सो गया रात को! पर तेरे तो मजे हैं! पूरी रात मानु जी ने तेरी जी तोड़ कुटाई की! तेरा तो जीवन धन्य हो गया! काश की मुझे भी कोई ऐसा मिला होता!

ऋतू: अब मैं हूँ तो नसीब वाली पर तू मेरी किस्मत को नजर मत लगा! तू ऐसा कर छोड़ दे इस लड़के को!

काम्या: वही तो नहीं कर सकती ना! ये साला बहुत पैसे वाला है और ऊपर से मेरे कण्ट्रोल में है, मेरी उँगलियों पर नाचता है ये!

इतना कह कर काम्या कुछ सोचने लगी और फिर बोली;

काम्या: सुन? ..... आज मेरा बर्थडे है....मैं अगर तुझसे कुछ माँगू तो तू मना तो नहीं करेगी?

ऋतू: यार मेरे पास है ही क्या तुझे देने को?

काम्या: नहीं तू दे सकती है|

ऋतू: अच्छा? चल बोल क्या चाहिए मेरी दोस्त को? (ऋतू ने काम्या के कंधे पर हाथ रखते हुए कहा|)

काम्या: मुझे बस आज की रात मानु जी के साथ गुजारनी है|

ये सुनते ही ऋतू के जिस्म में आग लग गई| उसने जो हाथ अभी तक काम्या के कंधे पर रखा था वो झटके से हटाया और उसे जोर से धक्का देते हुए बोली;

ऋतू: तेरी हिम्मत कैसे हुई ऐसा कहने की?

काम्या: देख प्लीज...तू...

ऋतू: (बीच में बात काटते हुए) मुझे कुछ नहीं सुनना, तेरी गन्दी नियत मुझे आज पता चल गई| आज के बाद मुझे कभी अपनी शक्ल मत दिखाइओ और खबरदार जो तू उनके आस-पास भी भटकी तो, जान ले लूँगी तेरी!

काम्या: अरे सुन तो सही....

पर ऋतू रुकी नहीं और मुझे ढूंढते हुए तेजी से एग्जिट गेट पर पहुँच गई| मैं और रोहित वहीँ खड़े थे और बात कर रहे थे| मेरी नजर अब तक ऋतू पर नहीं पड़ी थी;

रोहित: ब्रो... help me .... काम्या मुझसे पटती ही नहीं! कल रात भी मैंने उसी के चक्कर में सब को वायग्रा खिलाई थी पर साली ने मुझे रात में छूने भी नहीं दिया| कुछ तो बताओ मैं क्या करूँ?

मैं: देख ... पहली बात तो ये जो तू अमेरिकन एक्सेंट बकता है इसे बंद कर, तू कतई इसमें चूतिया लगता है! देसी है देसी बन! उसे ये तेरा अमेरिकन गैंगस्टर लुक नहीं चाहिए... मॉडर्न होना ठीक है पर इतना भी नहीं की चूतिये दिखो|

अभ हमारी इतनी ही बात हुई थी की रोती-बिलखती ऋतू मेरे पास आई और मैं उसे इस तरह रोता हुआ देख समझ नहीं पाया की वो रो क्यों रही है; "चलो आप! हम अभी घर जा रहे हैं|" इतना कह कर वो मुझे खींच कर बाहर ले आई| मैंने कई बार उससे पूछा की बात क्या है पर वो कुछ नहीं बोली और हम सीधा होटल पहुँचे| कमरे में घुसते ही उसने सामान समेटना शुरू कर दिया| "जान! बताओ तो सही हुआ क्या?" मैंने ऋतू से प्यार से पुछा|

ये सुनते ही ऋतू गुस्से में बोली; "वो कुतिया कह रही थी की उसे आपके साथ सोना है!" ये सुनते ही मुझे भी बहुत गुस्सा आया और इससे पहले की मैं कुछ बोलता ऋतू ही बोल पड़ी; "गलती सारी मेरी ही थी, मुझे भी पता नहीं किस कुत्ते ने काटा था की मैंने इसे अपना दोस्त बनाया| आपने इतना समझाया था की दोस्त चुन कर बनाना और मुझे यही कामिनी मिली| ये तो गनीमत है की मैंने इसे हमारे बारे में कुछ भी सच नहीं बताया वर्ण ये तो मुझे आज ब्लैकमेल कर के आपके साथ सब कर लेती| अच्छा हुआ जो मुझे इस हरामजादी के रंग पहले ही पता चल गए|" इतना कहते हुए ऋतू पलंग पर बैठ गई और अपने दोनों हाथों से अपना चेहरा छुपा कर रोने लगी| मैं ऋतू के सामने घुटनों के बल खड़ा हुआ और उसे चुप कराया| "बस मेरी जान! चलो कपडे पैक करो हम अभी चेकआउट करते हैं|" हम अभी लॉबी में पहुँचे थे की वहाँ रोहित और काम्या मिल गए| काम्या ने रोहित से कुछ भी नहीं कहा था, मेरे हाथ में बैग देखते ही वो समझ गई की क्या माजरा है| उसने फिर से ऋतू को रोकने की कोशिश की, इधर मैं रिसेप्शन पर अपने रूम का चेकआउट करवा रहा था| "क्या हुआ ब्रो?" रोहित ने पुछा|

"Go and ask Kamya!" मैंने कहा|

"She's not telling me shit!" उसने जवाब दिया पर मैं आगे कुछ नहीं बोला और अपने रूम की सारी पेमेंट कर दी| उधर काम्या ने ऋतू का हाथ पकड़ा हुआ था और उसे रोक रही थी; "यार बात तो सुन!" काम्या ने मिन्नत करते हुए कहा| ऋतू ने बड़े जोर से उसका हाथ झटक दिया और बोली; "Stay away from me!" इतना कह कर वो तेजी से चल के मेरे पास आई| रिसेप्शन पर जो कोई था वो सब उन दोनों को ही देख रहे थे| बाहर से ऑटो किया और हम बस स्टैंड पहुँचे पर पूरे रास्ते ऋतू ने मेरा दाहिना हाथ थामा हुआ था, उसका सर मेरे कंधे पर था| बस स्टैंड पहुँच कर पता चला की अगली बस एक घंटे बाद की है, अब भूख लग आई थी पर ऋतू बहुत-बहुत उदास थी| जब मैंने उससे कहा की मैं कुछ खाने को लाता हूँ तो वो इस कदर घबरा गई जैसे मैं उसे छोड़के काम्या के पास जा रहा हूँ| ऋतू मेरे सीने पर सर रख कर बैठी रही और मैं बस उसके सर पर हाथ फेरता रहा| बस आई और हम दोनों बैठ गए, ऋतू ने अपना फ़ोन निकाला और काम्या और रोहित का नंबर ब्लॉक कर दिया| उसके साथ खींची हर फोटो को उसने डिलीट कर दिया, ऐसा करने से उसे ऐसा लग रहा था मानो की उसने काम्या को अपनी जिंदगी से निकाल फेंका है|

josef
Super member
Posts: 3253
Joined: 22 Dec 2017 15:27

Re: काला इश्क़

Post by josef »

update 41

बस आधे रास्ते पहुँची थी, रात के 8 बजे थे तो मैं ऋतू को अपने साथ ले कर नीचे उतरा और उसे खाने को कुछ कहा| उसके लिए मैंने परांठे मंगाए और मैंने बस एक चिप्स का पैकेट लिया| खाना खा कर हम वापस अपनी सीट पर बैठ गए, ऋतू ने अपना सर मेरे सेने पर रख दिया था और अपनी बाहें मेरी कमर के इर्द-गिर्द कस ली थीं|

मैं: जान! क्यों परेशान हो आप? मैं आपके पास हूँ ना?

ऋतू: आपको खो देने से डर लगता है|

मैं: ऐसा कभी नहीं होगा|

अब मुझे कैसे भी कर के ऋतू की बेचैनी मिटानी थी;

मैं: अच्छा एक बात तो बताओ आप ये रिंग हमेशा पहने रहते हो?

ऋतू: सिर्फ हॉस्टल के अंदर नहीं पहनती वरना आंटी जी पूछती|

ऋतू ने बड़े बेमन से जवाब दिया|

मैं: Hey! .... जान! अच्छा एक बात बताओ?

ऋतू: हम्म

मैं: शादी कब करनी है?

ये सुनते ही ऋतू की आँखें चमक उठीं और वो मेरी तरफ आस भरी नजरों से देखने लगी|

ऋतू: आप .... सच?

मैं: मैंने आपको प्रोपोज़ कर दिया और तो और हम दोनों ...you know ... बहुत क्लोज आ चुके हैं तो अब बस शादी करना ही रह गया है|

ऋतू: (खुश होते हुए) मेरे फर्स्ट ईयर के पेपर हो जाएँ फिर|

मैंने ऋतू के माथे को चूम लिया और अब ऋतू की खुशियाँ लौट आईं थी| मैंने ऋतू से उसका दिल खुश करने को कह तो दिया था पर ये डगर बहुत कठिन थी| मेरे दिमाग बस यही सोच रहा था की कहीं से मुझे कोई ट्रांसफर का ऑप्शन मिल जाए ताकि मैं ऋतू का कॉलेज कॉरेस्पोंडेंस/ ओपन में ट्रांसफर कर दूँ जिससे उसकी पढ़ाई बर्बाद ना हो| आखरी ऑप्शन ये था की मैं उसकी पढ़ाई छुड़ा दूँ और जब हम दोनों शादी कर के सेटल हो जाएँ तब वो फिर से अपनी पढ़ाई शुरू करे, पर उसमें दिक्कत ये थी की उसे फर्स्ट ईयर से शुरू करना पड़ता| यही सब सोचते हुए मैं जगा रहा और रात के सन्नाटे में गाड़ियों को दौड़ते हुए देखता रहा| रात 2 बजे बस ने हमें लखनऊ उतारा, मैंने कैब बुक की और हम घर आ गए| मैंने सामान रखा और ऋतू बाथरूम में घुस गई| इधर मुझे भूख लग रही थी तो मैंने मैगी बनाई और तभी ऋतू बाहर आ गई| "मैं भी खाऊँगी!" कहते हुए ऋतू ने मुझे पीछे से कस कर जकड़ लिया| उसने अभी मेरी एक टी-शर्ट पहनी थी और नीचे एक पैंटी थी बस! मैंने अभी कपडे नहीं उतारे थे, ऋतू ने पीछे से खड़े-खड़े ही मेरी कमीज के बटन खोलने शुरू कर दिए| फिर वो अपना हाथ नीचे ले गई और मेरी पैंट की बेल्ट खोलने लगी| धीरे-धीरे उसे भी खोल दिया, अब उसने ज़िप खोली और फिर बटन खोला| पैंट सरक कर नीचे जा गिरी, मैं ऋतू का ये उतावलापन देख रहा था और मुस्कुरा रहा था| आखरी में उसने मेरी कमीज भी निकाल दी और अब बस एक बनियान और कच्छा ही बचा था| उसका ये उतावलापन मेरे अंदर भी आग लगा चूका था, मैंने गैस बंद की और ऋतू को गोद में उठा कर उसे बिस्तर पर लिटाया| अपनी बनियान निकाल फेंकी और ऋतू के ऊपर छा गया| ऋतू ने अपने दोनों हाथों से मेरे चेहरे को पकड़ा और मेरे होठों को अपने होठों से मिला दिया| मैंने अपनी जीभ उसके में में प्रवेश कराई थी की उसने मुझे धक्का दिया और खुद मेरे पेट पर बैठ गई| अपने निचले होंठ और जीभ के साथ उसने मेरे ऊपर वाले होंठ को अपने मुँह भर लिया| इधर मैंने उसकी टी-शर्ट के अंदर हाथ दाल दिया और उसके स्तनों को धीरे-धीरे मींजने लगा| वो मुलायम एहसास आज मुझे पहली बार इतना सुखदाई लग रहा था, मन कर रहा था की कस कर उन्हें दबोच लूँ और उमेठ लूँ पर आज मैं अपने प्यार को दर्द नहीं प्यार देना चाहता था| दो मिनट में ही ऋतू की बुर गीली हो गई और मुझे उसका गीलापन अपने पेट पर उसकी पैंटी से महसूस होने लगा| वो अब भी बिना रुके मेरे होठों का रस पान करने में व्यस्त थी, उसके हाथों का दबाव मेरे चेहरे पर बढ़ने लगा था| मैंने ऋतू को धीरे-धीरे अपने मुँह से दूर करना चाहा पर वो तो जैसे मेरे होठों को छोड़ना ही नहीं चाहती थी| बड़ी मुश्किल से मैंने उससे अपने होंठ छुड़ाए और उसकी आँखों में देखा तो मुझे एक ललक नजर आई| उस ललक को देख मेरा मन बेकाबू होने लगा और इधर ऋतू के जिस्म में तो सेक्स की आग दहक चुकी थी| उसने खड़े हो कर अपनी पैंटी निकाल फेंकी और धीरे-धीरे मेरे लंड पर बैठने लगी| पहले के मुकाबले आज लंड धीरे-धीरे अंदर फिसलता जा रहा था, ऋतू जरा भी नहीं झिझकी और धीरे-धीरे और पूरा का पूरा लंड उसने अपनी बुर में उतार लिया| शायद कल की जबरदस्त चुदाई के बाद उसकी बुर मेरे लंड की आदि हो चुकी थी! पूरा लंड जड़ तक समां चूका था और ऋतू बस गर्दन पीछे किये चुप-चाप बैठी थी| दस सेकंड बाद उसने अपनी कमर को क्लॉकवाइज़ घूमना शुरू कर दिया| अब ये मेरे लिए पहली बार था, अंदर से ऐसा लग रहा था जैसे मेरा लंड ऋतू की बुर की दीवारों से हर जगह से टकरा रहा है| फिर पांच सेकंड बाद ऋतू ने अपनी कमर को एंटी-क्लॉकवाइज़ घुमाना शुरू कर दिया| मुझे अब इसमें भी मजा आने लगा था| फिर ऋतू रुकी और मेरा दोनों हाथ पकड़ के सहारा लिया और उकडून हो कर बैठ गई और मेरे लंड पर उठक-बैठक शुरू कर दी| लंड पूरा बाहर आता, बस टिप ही अंदर रहती और फिर ऋतू झटके से नीचे बैठती जिससे पूरा का पूरा लंड एक बार में सट से अंदर घुसता| पर बेचारी दो मिनट भी उठक-बैठक नहीं कर पाई और मेरी छाती पर सर रख कर लेट गई| मैंने अपने दोनों हाथो को उसकी कमर पर कसा और अपने कूल्हे हवा में उठाये और जोर-जोर से धक्के नीचे से लगाने शुरू कर दिए| "ससस..आह...हहह.ह.ह.ह.हह.ह.मम..म..उन्हक!" ऋतू की आवाजें कमरे में गूंजने लगी| जब ऋतू मेरे लंड पर उठक-बैठक कर रही थी तब उसके मुँह से कोई आवाज नहीं निकल रही थी क्योंकि वो बहुत धीरे-धीरे कर रही थी पर अभी जब मैंने तेजी से उसकी बुर चुदाई की तो वो सिस्याने लगी थी| पांच मिनट तक पिस्टन की तरह मेरा लंड ऋतू की बुर में अंदर-बाहर होने लगा था| ऋतू ने अपने दाँतों को मेरी कालर बोन में धंसा दिया था| मैंने आसन बदला और ऋतू के नीचे ले आया और खुद पलंग से नीचे उतर कर खड़ा हो गया| मैंने ऋतू को खींचा उसकी दोनों टांगों के बीच खड़ा हुआ और ऋतू की कमर बिलकुल बसिटर के किनारे तक ले आया| फिर धीरे से अपना लंड उसकी बुर से भिड़ा दिया और धीरे-धीरे अंदर दबाने लगा| लंड पूरा का पूरा अंदर चला गया और मैं ऋतू के ऊपर झुक गया| उसके होठों को चूमा और उसकी आँखों में देखने लगा पर पता नहीं कैसे ऋतू समझ गई की मैं क्या चाहता हूँ| "जानू! फुल स्पीड!" इतना कह कर वो मुस्कुरा दी और उसकी ये बात मेरे लिए उस हरी झंडी की तरह थी जो किसी रेस कार को दिखाई जाती है| उसके बाद तो मैंने जो ताक़त लगा कर ऋतू की बुर में लंड अंदर-बाहर पेला की उसका पूरा जिस्म हिल गया था| ऋतू के हाथ बिस्तर को पकड़ना चाहते थे की कहीं वो गिर ना जाये पर मेरी रफ़्तार इतनी तेज थी की वो कुछ पकड़ ही नहीं पाई और अगले दस मिनट बाद पहले वो झड़ी और फिर मैं| झड़ते ही मैं ऋतू पर जा गिरा और उसने अपनी टांगों को मेरी कमर पर कस लिया, साथ ही अपने हाथों से मेरी गर्दन को लॉक कर दिया| कल रात के बाद ये दूसरा मौका था जब ऋतू ने मेरा साथ इतनी देर तक दिया था| करीब पाँच मिनट बाद जब दोनों की साँसे दुरुस्त हुईं तो हम अलग हुए और अलग होते ही लंड ऋतू की बुर से फिसल आया| लंड के साथ ही ऋतू के बुर में जमी मलाई भी नीचे टपकने लगी| मैं भी ऋतू की बगल में उसी की तरह टांगें लटकाये हुए लेट गया| पहले ऋतू उठी और जा कर बाथरूम में मुँह-हाथ धो कर आई और फिर मैं उठा| हमने किचन काउंटर पर खड़े-खड़े ही सूख कर अकड़ चुकी मैगी खाई| ऋतू ने बर्तन धोने चाहे तो मैंने उसे मना कर दिया, उसने फर्श पर से हमारी मलाई साफ़ की और हम दोनों बिस्तर पर लेट गए| सुबह के 4 बजे थे और अब नींद बहुत जोर से आ रही थी| मैं और ऋतू एक दूसरे से चिपक कर सो गए|


सुबह के 6 बजे ऋतू बाथरूम जाने को उठी और मेरी भी नींद तभी खुली पर मन नहीं किया की उठूँ| इसलिए मैं सीधा हो कर लेट गया, जब ऋतू बाथरूम से निकली तो उसकी नजर मेरे मुरझाये हुए लंड पर पड़ी| वो बिस्तर पर चढ़ी और मेरी टांगों के पास बैठ गई| मेरी आँख लग गई थी पर जैसे ही ऋतू ने मेरे लंड को अपने मुँह में लिया मैं चौंक कर उठा और ऋतू को देखा तो वो आज बड़ी शिद्दत से मेरे लंड को चूस रही थी| मेरे सुपाडे को वो ऐसे चूस रही थी जैसे की वो कोई टॉफी हो| अपनी जीभ से वो मेरे पूरे सुपाडे को चाट रही थी और उसके ऐसा करने से मेरे जिस्म के सारे रोएं खड़े हो चुके थे| मैंने अपने हाथों को ऋतू के सर पर रख दिया और उसे नीचे दबाने लगा| ऋतू समझ गई और उसने मेरे लंड को धीरे-धीरे अपने मुँह में उतारना शुरू कर दिया| 5 सेकंड में ही मेरा पूरा लंड उसके मुँह में उतर गया और ऋतू ऐसे ही रुकी रही| मेरी तो हालत खराब हो गई, उसकी गर्म सांसें और मुँह की गर्माहट मेरे लंड को आराम दे रही थी| अब ऋतू घुटनों के बल बैठी और अपने मुँह को मेरे लंड के ऊपर अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया| वो जब मुँहनीचे लाती तो लंड जड़ तक उसके गले में उतर जाता और फिर जब वो अपने मुँह को ऊपर उठाती तो बिलकुल सुपाडे के अंत तक अपने होठों को ले जाती| उसकी इस चुसाई के आगे मैं बस पॉँच मिनट ही टिक पाया और अपना गाढ़ा-गाढ़ा वीर्य उसके मुँह में उगल दिया| मुझे हैरानी तो तब हुई जब वो मेरा सारा का सारा वीर्य पी गई और मैं आँखें फाड़े उसे देख रहा था| वो मुझे देख कर मुस्कुराई और फिर बाथरूम चली गई, मैं उठ कर बैठ गया और दिवार से टेक लगा कर बैठ गया, सुबह से ऋतू के इस बर्ताव से मेरे जिस्म में खलबली मच चुकी थी| ऋतू ठीक वैसे ही सेक्स में मेरा साथ दे रही थी जैसा मैं चाहता था| जब ऋतू मुँह धो कर आई तो मेरी जाँघ पर सर रख कर लेट गई;

मैं: जान! एक बात तो बताओ? ये सब कहाँ से सीखा आपने?

ऋतू: (जान बुझ कर अनजान बनते हुए|) क्या?

मैं: (उसकी शरारत समझते हुए|) ये जो आपने गुड मॉर्निंग कराई अभी मेरी वो? और जो आप इतनी देर तक मेरे साथ टिके रहे वो? आपका सेक्स में खुल कर पार्टिसिपेट करना वो सब?

ऋतू: लास्ट टाइम आपने मुझे डाँटा था ना, तो मुझे एहसास हुआ की अगर मैं आपको खुश न रख सकूँ तो लानत है मेरे खुद को आपकी पत्नी कहने पर| इसलिए उस कुटिया से मैंने बात की और उसे कहा की मैं अपने बॉयफ्रेंड को sexually खुश नहीं कर पाती| तो उसने मुझे बहुत साड़ी पोर्न वीडियो दिखाई, इतनी तो शायद आपने नहीं देखि होगी! पर आलतू-फ़ालतू वीडियो नहीं ...कुछ वीडियो X - Art की थी, कुछ Fellatio वाली...कुछ कामसूत्र वाली और एक तो वो थी जिसमें एक टीचर कुछ कपल्स को एक साथ बिठा कर सिखाती है की अपने पार्टनर को खुश कैसे करते हैं|

ये सब बताते हुए ऋतू बहुत उत्साहित थी और मैं उसके इस भोलेपन को देख मुस्कुरा रहा था|

ऋतू: बाकी रहा मेरा वो सेल्फ कण्ट्रोल....तो उसके लिए मैंने बहुत एफर्ट किये! मस्टरबैशन बंद किया... थोड़ा योग भी किया...

ये कहते हुए वो हँसने लगी और मेरी भी हँसी निकल गई| सच्ची ऋतू बहुत ही भोलेपन से बात करती थी...

ऋतू: मैंने न....वो.... Kinky वाली वीडियो भी देखि.... बहुत मजा आया.... पर वो सब शादी के बाद!

इतने कह कर वो शर्मा गई और मेरी नाभि से अपना चेहरा छुपा लिया और कस के लिप्त गई| मैं उसके सर पर हाथ फेरने लगा और हम दोनों ऐसे ही सो गए| हम 11 बजे उठे और अब बड़ी जोर से भूख लगी थी| मैंने ऋतू से पूछा की क्या वो भुर्जी खायेगी तो उसने हाँ कहा और नहाने चली गई| अब चूँकि उसने कभी अंडा पकाया नहीं था इसलिए मैंने ही भुर्जी बनाई| जब ऋतू नहा कर आई तो पूरे कमरे में भुर्जी की खुशबु भर गई थी, ऋतू ने अभ भी मेरी एक टी-शर्ट पहनी हुई थी और नीचे अपनी पैंटी| वो चल कर मेरे पास आई और मैंने उसे ब्रेड से एक कौर खिलाया| पहला कौर खाते ही उसकी आँखें चौड़ी हो गईं और वो बोली; "Wow!!!" उसकी ख़ुशी छुपाये नहीं छुप रही थी| "मैंने उस दिन कहा था ना की मेरे हाथ की भुर्जी खाओगी तो याद करोगी!" मैंने ऋतू को वो दिन याद दिलाया| "आज से आप जो कहोगे वो हर बात मानूँगी|" ऋतू ने कान पकड़ते हुए कहा| फिर हमने डट के भुर्जी खाई और लैपटॉप में मूवी देखने लगे| शाम हुई तो ऋतू ने चाय बनाई और मैं उसे ले कर छत पर आ गया| छत पर टंकियों के पीछे थोड़ी जगह थी जहाँ मैं हमेशा बैठा करता था| वहाँ से सारा शहर दिखता था और रात होने के बाद तो घरों की छोटी-छोटी टिमटिमाती रौशनी देख के मैं वहीँ चुप-चाप बैठ जाय करता था| अंधेरा होना शुरू हुआ था और हम दोनों वहाँ बैठे थे, ऋतू का सर मेरे कंधे पर था और वो भी चुप-चाप थी| "हम बैंगलोर में भी ऐसा ही घर लेंगे जहाँ से सारा शहर दिखता हो| एक बालकनी जिसमें छोटे-छोटे फूल होंगे, रोज वहीँ बैठ कर हम चाय पीयेंगे| जब कभी लाइट नहीं होगी तो हम वहीँ सो जाएंगे, एक छोटा सा डाइनिंग टेबल जहाँ रोज सुबह मैं आपको नाश्ता ख़िलाऊँगी, हमारा बैडरूम जिसमें एक रोशनदान हो और सुबह की पहली किरण आती हो| हमारे प्यार की निशानी के लिए एक पालना... " ऋतू बैठे-बैठे हमारे आने वाले जीवन के बारे में सब सोच चुकी थी और सब कुछ प्लान कर चुकी थी|

"वैसे तुम्हे लड़का चाहिए या लड़की?" मैंने पूछा|

"लड़का... और आपको?" ऋतू ने मुझसे पुछा|

"लड़की.. जिसका नाम होगा 'नेहा'|" मैंने गर्व से कहा|

"और लड़के का नाम?"

"आयुष"

"आपने तो सब पहले से ही सोच रखा है?" ऋतू ने खुश होते हुए कहा|

हम दोनों वहीँ बैठे रहे और जब रात के नौ बजे तब नीचे आये| ऋतू ने रात का खाना बनाया और ठीक ग्यारह बजे हम खाना खाने बैठ गए| ऋतू मुझे अपने हाथ से खिला रही थी, पर जब मैंने उसे खिलाना चाहा तो उसने 1-2 कौर ही खाये| खाने के बाद उसने बर्तन धोये और हम लैपटॉप पर मूवी देखने लगे| मूवी में एक हॉट सीन आया और उसे देख कर ऋतू गर्म होने लगी| उसका हाथ अपने आप ही मेरे लंड पर आ गया और वो मेरे बरमूडा के ऊपर से ही उसे मसलने लगी| ऋतू के छूने से ही मेरे जिस्म में जैसे हलचल शुरू हो चुकी थी| पहले तो मैं खुद को अच्छे से कण्ट्रोल कर लिया करता था पर पिछले दो दिनों से मेरा खुद पर काबू छूटने लगा था| मैंने लैपटॉप पर मूवी बंद कर दी और गाना चला दिया; "दिल ये बेचैन वे!" ऋतू मुस्कुरा दी और मुझे नीचे धकेल कर मेरे ऊपर चढ़ गई और मेरे होठों को अपने मुँह में ले कर चूसने लगी| आज वो बहुत धीरे-धीरे मेरे होठों को चूस रही थी और इधर मेरी धड़कनें बेकाबू होने लगी थीं| मुझसे ऋतू का ये स्लो ट्रीटमेंट बरदाश्त नहीं हो रहा था, इसलिए मैंने उसे पलट कर अपने नीचे किया| फिर नीचे को बढ़ने लगा पर ऋतू ने मुझे नीचे नहीं जाने दिया, उसने ना में गर्दन हिलाई और मुझे उसकी बुर को चूसने नहीं दिया| मेरा बरमूडा उसने नीचे किया पर पूरा निकाला नहीं, लंड हाथ में पकड़ उसने अपनी पैंटी सामने से थोड़ा सरकाई और मेरे लंड पकड़ कर उसने अपनी बुर से स्पर्श करा दिया| मैंने अपनी कमर पीछे को की और धीरे से एक झटका मारा और मेरा सुपाड़ा ऋतू की बुर में दाखिल हो गया| ऋतू ने अपने दोनों हाथों से मेरे कन्धों को पकड़ लिया, मैंने फिर से कमर पीछे की और अपना लंड जितना अंदर डाला था वो बाहर निकाल कर फिर से अंदर पेल दिया| इस बार लंड आधा अंदर चला गया, ऋतू के मुँह से सिसकारी निकली; "सससससस स.स..आअह!!!" मैंने एक आखरी झटका मारा और पूरा लंड अंदर चला गया ठीक उसी समय गाने की लाइन आई;
सावन ने आज तो, मुझको भिगो दिया...
हाय मेरी लाज ने, मुझको डुबो दिया...
सावन ने आज तो, मुझको भिगो दिया...
हाय मेरी लाज ने, मुझको डुबो दिया...
ऐसी लगी झड़ी, सोचूँ मैं ये खड़ी...
कुछ मैंने खो दिया, क्या मैंने खो दिया...
चुप क्यूँ है बोल तू...
संग मेरे डोल तू...
मेरी चाल से चाल मिला...
ताल से ताल मिला...
ताल से ताल मिला...

इस दौरान में बस ऋतू को टकटकी बांधे देखता रहा और ऐसा महसूस करने लगा जैसे वो अपने दिल की बात कह रही हो| ऋतू ने जब नीचे से अपनी कमर हिलाई तब जा कर मैंने अपने धक्कों की रफ़्तार पकड़ी| कुछ ही देर में मेरे हिस्से की लाइन आ गई;

माना अनजान है, तू मेरे वास्ते...
माना अनजान हूँ, मैं तेरे वास्ते...
मैं तुझको जान लूं, तू मुझको जान ले....
आ दिल के पास आ, इस दिल के रास्ते...
जो तेरा हाल है...
वो मेरा हाल है...
इस हाल से हाल मिला...
ताल से ताल मिला हो, हो, हो...

इन लाइन्स को सुन ऋतू बस मुस्कुरा दी और मैंने इस बार बहुत तेज गति से उसकी बुर में लंड पेलना शुरू कर दिया| अगले दस मिनट तक एक जोरदार तूफ़ान उठा जिसने हम दोनों के जिस्मों को निचोड़ना शुरू कर दिया और जब वो तूफ़ान थमा तो हम दोनों एक साथ झड़ गए| ऋतू की बुर एक बार फिर मेरे वीर्य से भर गई और मैं उस पर से हैट कर दूसरी तरफ लेट गया| ऋतू ने मेरी तरफ करवट की और अपना दायाँ हाथ मेरे सीने पर रख कर सो गई| नींद तो मुझे भी आने लगी थी और फिर एक खुमारी सी छाई जिससे मैं भी चैन से सो गया|

josef
Super member
Posts: 3253
Joined: 22 Dec 2017 15:27

Re: काला इश्क़

Post by josef »

update 42

आज शनिवार का दिन था, सुबह मैं जल्दी उठ गया पर ऋतू अब भी मुझसे चिपकी हुई थी| मैंने घडी देखि तो सुबह के 6 बजे थे, मैंने धीरे से अपने आप को ऋतू से छुड़ाना चाहा तो ऋतू भी जाग गई| "सॉरी जान!" मैंने उसे जगाने के लिए माफ़ी मांगी तो मुस्कुराने लगी, उसकी मुस्कराहट देख मेरी मॉर्निंग और भी गुड हो गई| मैंने उसके माथे को चूमा और उठ के बाथरूम में घुस गया| जब वापस आया तो ऋतू चाय बना रही थी, चाय छान कर उसने मुझे बड़े प्यार से मुस्कुराते हुए दी और फिर खुद बाथरूम चली गई| फ्रेश हो कर आई तो मैं अब भी कप थामे उसके आने का इंतजार कर रहा था| वो भी समझ गई और हम दोनों अपनी-अपनी चाय लिए खिड़की के पास खड़े हो गए| ऋतू मेरे आगे थी, और हम दोनों के दाहिने हाथों में हमारे कप थे| मेरा बायाँ हाथ ऋतू के पेट पर था और ऋतू ने भी अपने बाएँ हाथ से मेरे हाथ को पकड़ रखा था| "काश की हम हर रोज इसी तरह खड़ा हो कर चाय पीते?" ऋतू बोली, मैंने ऋतू के सर को पीछे से चूम लिया| "वो दिन भी आएगा|" मैंने जवाब दिया तो ऋतू ने उत्सुकता वश पूछा; "कब?" अब मैं इसका जवाब नहीं जानता था पर फिर भी मैंने ऋतू को आस बंधाते हुए कहा; "जल्द" इसके आगे उसने और कुछ नहीं कहा और हम दोनों इसी तरह खड़े खिड़की से बाहर पेड़ों को देखते रहे| आज बरसों बाद मुझे सुबह की ठंडी हवा सुकून दे रही थी|

कुछ देर ऐसे ही खड़े रहने के बाद मुझे याद आया की हमें तो गाँव भी जाना है? "ऋतू... आज गाँव चलें?" मैंने ऋतू से संकुचाते हुए पुछा| तो वो मेरी तरफ पलटी और ऐसे देखने लगी जैसे की मैंने उससे कहा हो की मैं सरहद पर जा रहा हूँ?! "घर वालों को शक न हो इसलिए कह रहा हूँ|" मैंने ऋतू के दाएँ गाल पर आई उसकी लट को ऊँगली से हटाते हुए कहा| "आपसे दूर जाने को मन नहीं करता|" ऋतू ने सर झुकाते हुए कहा| मैंने ऋतू को कस कर अपने सीने से लगा लिया; "मेरी जानेमन! बस कुछ दिनों की तो बात है| फिर मैं आपके साथ आज का दिन और कल का दिन वहीँ रुकूँगा और सोमवार को मैं वापस आ जाऊँगा|"

"और मेरा क्या? मुझे कब 'लिवाने' आओगे?" ऋतू ने मेरे सीने से अलग होते हुए शर्माते हुए पुछा| पर जब उसने 'लिवाने' शब्द का इस्तेमाल किया तो मेरे चहरे पर मुस्कुराहट आ गई|

"बुधवार को अपनी दुल्हनिया को लिवाने आएंगे उसके साजना|" मेरा जवाब सुन ऋतू बुरी तरह शर्मा गई और कस कर मेरे सीने से चिपक गई|

"एक बात पूछूँ? अगर सब कुछ नार्मल होता, I mean ... की हम एक परिवार के ना होते, तो आप मेरा हाथ घरवालों से कैसे माँगते?" ऋतू का सवाल सुन में कुछ सोच में पड़ गया| फिर मुझे कुछ याद आया और मैंने फ़ोन में एक वीडियो प्ले की, फिर ऋतू के सामने अपने एक घुटने पर बैठ गया;

Saturday morning jumped out of bed and put on my best suit
Got in my car and raced like a jet, all the way to you
Knocked on your door with heart in my hand
To ask you a question
'Cause I know that you're an old fashioned man yeah yeah

Can I have your daughter for the rest of my life? Say yes, say yes
'Cause I need to know
You say I'll never get your blessing till the day I die
Tough luck my friend but the answer is no!

Why you gotta be so rude?
Don't you know I'm human too
Why you gotta be so rude
I'm gonna marry her anyway
(Marry that girl) Marry her anyway
(Marry that girl) Yeah no matter what you say
(Marry that girl) And we'll be a family

ये सुनते ही ऋतू खिलखिला कर हँस पड़ी| पर गाने की जब अगली लाइन्स आईं तो ऋतू आँखें फाड़े मुझे देखने लगी;

I hate to do this, you leave no choice
I can't live without her
Love me or hate me we will be boys
Standing at that alter
Or we will run away
To another galaxy you know
You know she's in love with me
She will go anywhere I go

Can I have your daughter for the rest of my life? Say yes, say yes
'Cause I need to know
You say I'll never get your blessing till the day I die
Tough luck my friend cause the answer's still no!


Why you gotta be so rude?
Don't you know I'm human too
Why you gotta be so rude
I'm gonna marry her anyway
(Marry that girl) Marry her anyway
(Marry that girl) Yeah no matter what you say
(Marry that girl) And we'll be a family…..


ये सुन कर ऋतू ने मुझे गले लगा लिया, मेरा मुँह उसके पेट पर था और उसका हाथ मेरे बालों में था| "मैं सच में बहुत खुशकिस्मत हूँ की मुझे आपके जितना चाहने वाला मिला|" ऋतू ने मेरे बालों में उँगलियाँ फेरते हुए कहा|


कुछ देर बाद हम नाश्ता कर के तैयार हुए और मेरी प्यारी बुलेट रानी पर सवार हो कर गाँव की तरफ निकल लिए| ठीक दोपहर के खाने पर पहुँचे और हमें वहाँ देख कर किसी को कुछ ख़ास ख़ुशी नहीं हुई| "तुम दोनों को शहर की हवा लग गई है|" ताऊजी ने गुस्से में गरजते हुए कहा| कुछ देर पहले मेरी जान जो बहुत खुश थी वो अचानक ही सहम गई| "ऋतू...तू अंदर जा|" मैंने ऋतू को अंदर भेजा| "उसे क्यों अंदर भेज रहा है?" ताऊ जी ने गरजते हुए कहा|

"ऑफिस में वर्क लोड इतना बढ़ गया है की मैं ही गाँव नहीं आ पा रहा था तो वो बेचारी अकेले तो गाँव आ नहीं सकती ना?" मैंने अपनी सफाई दी|

"आग लगे तेरी नौकरी को|" ताई जी ने गुस्से से चिल्लाते हुए कहा|

"तुझे कहा था न की छोड़ दे ये नौकरी और खेती संभाल, पर नहीं तुझे तो उड़ना है|" पिताजी ने भी आगे आते हुए ताना मारा| मेरा गुस्सा अब फूटने को था पर तभी अनु मैडम का फ़ोन आया; "Mam मैं आपको दो मिनट में कॉल करता हूँ|" अभी मैंने कॉल काटा भी नहीं था की ताऊजी चिल्ला कर बोले; "मिनट भर हुआ नहीं घर में घुसे और तेरे फ़ोन आने चालु हो गए? ऐसी कौन सी तनख्वा देते है तुझे?" मैडम ने सब सुन लिया था और खुद ही फ़ोन काट दिया| अब घर में तो कोई नहीं जानता था की मेरी तनख्वा बढ़ गई है इसलिए मैं बस अपने गुस्से पर काबू करना चाहता था|

"मैं पूछती हूँ तुझे कमी क्या है इस घर में? सब कुछ तो है हमारे पास| सारी उम्र बैठ कर खा सकता है, फिर क्यों तू दूसरों के यहाँ नौकरी करता है?" माँ ने कहा|

"बस बहु बहुत होगया इसका! इसी साल तेरी शादी कर देते हैं|" ताऊ जी ने अपना फरमान सुनाते हुए कहा|

"आपने वादा किया था ताऊ जी!" मैंने उन्हें उनका वादा याद दिलाया|

"तूने तीन साल मांगे थे और वो इस साल पूरे होते हैं| अगले साल जनवरी में ही तेरी शादी होगी और ये मैं तुझसे पूछ नहीं रहा बल्कि बता रहा हूँ|" ताऊ जी ने आखरी फैसला सुना दिया| अब मुझे कुछ तो बहाना मारना था ताकि इस शादी की लटक रही तलवार से अपनी गर्दन बचा सकूँ|

मैं: मुझे शहर में घर लेना है!

मैं बस इतना कह कर चुप हो गया और मेरी बात सुन के सब के सब आँखें फाड़े मुझे देखने लगे|

ताऊ जी: क्या?

मैं: मैं शादी के बाद यहाँ रहना नहीं चाहता| मैं नहीं चाहता की मेरा बच्चा उसी स्कूल में जमीन पर बैठ के पढ़े जहाँ मैं पढ़ा था! यहाँ अगर इंसान बीमार हो जाए तो इलाज के लिए एक घंटे दूर बाजार जाना पड़ता है| न इंटरनेट है न ही ठीक से बिजली आती है, ऐसी जगह मैं अपनी नै जिंदगी शुरू नहीं करना चाहता| शहर में सब सुख सुविधा है, पर यहाँ सिर्फ बीहड़ है| घर में अगर बाइक न हो तो कहीं भी जाने के लिए सड़क तक पैदल जाना पड़ता है....

ताऊ जी: (बात काटते हुए) ये क्या बोल रहा है तू?

मैं: ताऊ जी, अपने परिवार के बारे में सोचना गलत तो नहीं? आज कल की नै पीढ़ी इस तरह बंध कर नहीं रह सकती| अगर हम गरीब होते और ये सुख-सुविधा नहीं खरीद सकते तो मैं आपसे कुछ नहीं कहता पर हम गरीब तो नहीं?

मेरी बात सुन कर ताऊ जी चुप हो गए पर ताई जी तमतमाते हुए बोलीं;

ताई जी: तो तू क्या चाहता है हम सब खेती-किसानी बेच के तेरे साथ शहर चलें?

मैं: बिलकुल नहीं... मैं बस इतना चाहता हूँ की मैं शहर में अपना घर ले सकूँ, अपनी बीवी-बच्चों के साथ वहां रह सकूँ और उन्हें वो सब सुख सुवुधा दूँ जिसके लिए मुझे घर से दूर जाना पड़ा था|

माँ: तो तू शादी के बाद वहीँ रहेगा? हमें छोड़ के?

मैं: नहीं माँ! बच्चों की छुट्टियों में मैं यहाँ आता रहूँगा और आप सब भी हमसे मिलने वहीँ आ कर मेरे घर में रहना|

ताऊ जी: बस बहुत हो गया! बता कितने पैसे चाहिए तुझे? 10 लाख? 20 लाख? छोटे (मेरे पिताजी) वो नहर वाली जमीन....

मैं: (बात काटते हुए) 55 लाख चाहिए मुझे!

ये सुन कर तो ताऊ जी सन्न रह गए!

मैं: मैं आपसे ये पैसे मांग नहीं रहा| मैं अपने पैसों से घर लेना चाहता हूँ, मेरी अपनी मेहनत की कमाई से!

ताऊ जी: अच्छा? तेरी वो चुल्लू भर कमाई से घर खरीदने की सोचेगा तो जिंदगी भर नहीं खरीद पाएगा|

मैं: ताऊ जी मुझे बस दो साल का समय लगेगा ताकि मैं कुछ पैसे जोड़ लूँ, उसके बाद बाकी सारा पैसा में लोन लूँगा|

ताऊ जी: क्या?

पिताजी: तेरा दिमाग ख़राब हो गया है?

मैं: नहीं... मुझे अपने पाँव पर खड़ा होना है|

पिताजी; तो ये सब जो जमीन जायदाद है वो किसकी है?

मैं: मेरी तो नहीं? मैंने उसे कमाया नहीं है! मुझे मेरे पैसे का घर चाहिए!

पिताजी और ताऊ जी आगे कुछ नहीं बोले|

मैं: मैं शादी से मना नहीं कर रहा, बस आपसे दो साल का समय और माँग रहा हूँ|

ताऊ जी: ठीक है! पर ये आखरी बार है जब हम तुझे समय दे रहे हैं, अगली बार तू हमें कुछ नहीं बोलेगा और कोई बहाना नहीं करेगा|

मैं: जी

इतना कह कर ताऊ जी और सब खाना खाने बैठ गए| उस समय मुझे ऐसा लगा जैसे की उन्हें मेरे ऊपर गर्व है की मैं खुद कुछ बनना चाहता हूँ| खाना खाने के समय मैं बस ऋतू को देख रहा था जो सर झुकाये बेमन से खाना खा रही थी| मेरा मन तो किया की मैं उसे जा के अपने हाथ से खाना खिलाऊँ पर मजबूर था! खेर खाना खा कर मैं अपने कमरे में आ गया और लैपटॉप पर कुछ ढूँढ रहा था| तभी ऋतू मेरे सामने से अपने कमरे की तरफ बिना कुछ बोले चली गई| मैं उठा और जा के देखा तो वो जमीन पर बैठी सर झुका कर रो रही थी| उसे रोता हुआ देख दिल दुख मैंने जा के जमीन से उसे उठा कर बिस्तर पर बिठाया, ऋतू आ कर मेरे सीने से लग गई और रोने लगी| "बस-बस! कोई शादी नहीं हो रही! मुझे जो भी बहाना सूझा वो मैंने बना दिया और देख सब मान भी गए, फिर क्यों रो रही है?" मैंने ऋतू के आँसूँ पोछते हुए पुछा| पर उसके मन में डर बैठ गया था जिसे निकालने के लिए मैं चाह कर भी कुछ नहीं कर सकता था| घर पर सभी लोगों की मौजूदगी थी और ऐसे में हम दोनों का इस तरह चिपके रहना मुसीबत खड़ी कर सकता था| मैंने एक आखरी कोशिश की; "तुझे मुझ पर भरोसा है?" ऋतू ने हाँ में सर हिलाया| "तो बस मुझ पर भरोसा रख, मैं कोई शादी-वादी नहीं करने वाले| इन लोगों ने ज्यादा जोर-जबरदस्ती की तो हम उसी वक़्त भाग जायेंगे|" अब ये सुन कर ऋतू को तसल्ली हुई और उसका रोना बंद हुआ| मैंने ऋतू के माथे को चूमा और बाहर आ गया| फिर याद आया की मैंने मैडम को फ़ोन करना है तो उन्हें कॉल मिला कर मैं छत पर आ गया| घंटी बजती रही पर मैडम ने फ़ोन नहीं उठाया, मुझे लगा शायद बीजी होंगी इसलिए मैंने कॉल काटा और घर से बाहर टहलने को निकल गया| जब शाम को वापस आया तो ऋतू अब सामन्य दिखी, सब ने बैठ के चाय पी और उस पूरे दौरान मैं चुप रहा| कुछ देर बाद ताऊ जी बोले; "तूने वहाँ कोई जमीन देखि है?"

"जी ...देखि है... करीब 250 गज है|" मैंने झूठ बोला|

"कितने की है?" ताऊ जी ने चाय का घूँट पीते हुए पुछा|

"जी...वो... 35 लाख की है| घर बनवाई और बाकी के काम जोड़-जाड कर 15 लाख ऊपर से लगेगा|" मैंने बात बनाते हुए कहा| वो चुप हो गए और चाय पी कर पिताजी को अपने साथ ले कर चले गए| आंगन में बस मैं, ताई जी, माँ और भाभी ही बचे थे, ऋतू रसोई में बर्तन धो रही थी| "ऋतू तेरी पढ़ाई कैसी चल रही है?" मैंने पुछा तो वो रसोई से बाहर आई और बोली; "ठीक चल रही है|" फिर मैंने उसे एकाउंट्स की किताब लेन को कहा तो वो चुप-चाप ऊपर के कमरे से अपनी किताब ले आई| मैं उसे जानबूझ कर सब के सामने पढ़ाने लगा ताकि सब को लगे की हम दोनों शहर में एक दूसरे से नहीं मिलते| आखिर ताई जी ने पूछ ही लिया; "इतना भी क्या काम रहता है तुझे की तुझसे अपनी प्यारी भतीजी से मिला नहीं जाता?"

"बैंगलोर का एक प्रोजेक्ट है, उसकी वजह से संडे को भी ऑफिस जाता हूँ| इसलिए टाइम नहीं मिलता की ऋतू के हॉस्टल जा सकूँ|" मैंने जवाब दिया तो ताई जी चुप हो गईं| कुछ देर पढ़ने के बाद ऋतू खुद ही खाना बनाए की तैयारी करने लगी| मुझे इत्मीनान हो गया की ऋतू पढ़ाई भी करती है ना की सारा टाइम मुझे खुश करने के लिए पोर्न देखती है| रात को खाने के बाद मैं छत पर टहल रहा था की ऋतू आ गई, उसके हाथ में एक कटोरी थी और कटोरी में गुड़! "आपने मुझसे एक वादा किया था न?" उसने पुछा पर मैं सोच में पड़ गया की वो कौनसे वादे की बात कर रही है| "सिगरेट और शराब नहीं पीने का?" जब ऋतू ने ये कहा तब मुझे याद आया और मैंने हाँ में सर हिलाया| "तो आज से सब बंद! Promise me???" ऋतू ने कहा तो मैंने उसे विश्वास दिलाते हुए कहा; "I Promise की आज से शराब या सिगरेट को हाथ नहीं लगाऊँगा|" ऋतू मुस्कुराई और नीचे चली गई| कुछ देर बाद संकेत तिवारी आया और माँ ने मुझे नीचे बुलाया| उसके घर पर पतुरिया का प्रोग्राम था और वो मुझे बुलाने आया था| "चल यार घर पर प्रोग्राम है और तू यहाँ घर पर बैठा है? कम से कम मुझे बता तो देता की तू आया हुआ है?" मुझे माँ को कुछ कहने की जर्रूरत ही नहीं पड़ी और मैं उसके साथ चला गया| वहाँ पहुँच कर सबसे आगे की चारपाई पर हम दोनों बैठ गए और गाना-बजाना चल रहा था| सारे गाने डबल मीनिंग वाले थे और वहाँ खड़े लौंडे सब चिल्ला रहे थे और पैसे उड़ा रहे थे| वो औरत नाचती हुई आई और मुझे खींच के स्टेज पर ले जाने लगी तो मैंने उसके हाथ से अपना हाथ छुड़ा लिया और संकेत को आगे कर दिया| संकेत ने अपने मुँह में एक 500 का नोट दबाया और अपनी गर्दन उसके मुँह के आगे कर दी, उस औरत ने अपने होठों से संकेत के मुँह से वो नोट छुड़ाया और संकेत उसे अपनी बाँहों में कस कर नाचने लगा| वो जानती थी की यही मालिक है इसलिए वो उसे ज्यादा से ज्यादा खुश कर रही थी, कभी अपनी कमर यहाँ लचकाती तो कभी वहाँ| अपने चुचों से दुपट्टा उतारा और संकेत की तरफ फेंक दिया| उसकी बड़ी-बड़ी चूचियों की घाटी साफ़-साफ़ नजर आ रही थी और हो-हल्ला शुरू हो गया था| खेर इसी तरह मैं वहाँ बैठा रहा और रात 1 बजे तक ये प्रोग्राम चलता रहा| इस पूरे दौरान मैं ऋतू के बारे में सोच रहा था और मेरा लंड बिलकुल अकड़ चूका था| जब प्रोग्राम खत्म हुआ तो संकेत ने गांजा भर के चिलम मेरी तरफ बधाई| उस चिलम को देखते ही मेरा मन करने लगा की एक कश मार लूँ पर ऋतू को वादा जो किया था इसलिए मैंने उसे मना कर दिया| "ओह बहनचोद! तू इसे मना कर रहा है? तबियत तो ठीक है ना तेरी?" संकेत ने पुछा| "ना यार मन नहीं है!" इतना कह कर मैं घर जाने को उठ खड़ा हुआ| दरवाजा खटखटाया तो भाभी ने दरवाजा खोला; "देख आये पतुरिया का नाच?" भाभी ने मुझे छेड़ते हुए कहा, पर मैंने कोई जवाब नहीं दिया और चुपचाप अपने कमरे में आ कर लेट गया| ऋतू सो चुकी थी पर मुझे आज उसके बिना नींद नहीं आ रही थी| मन कर रहा था की जा कर उसके जिस्म से चिपक जाऊँ पर डरता था की घर में काण्ड ना हो जाए| पूरी रात बस करवटों में निकल गई और सुबह ऊँघता हुआ उठा| ऋतू ने जब मुझे देखा तो प्यार से बोली; "जानू! नींद नहीं आई आपको?" मैंने ना में गर्दन हिलाई और कहा; "कैसे आती? मेरी जानेमन मुझसे दूर थी!" ये सुनते ही वो शर्मा गई और मुझे गले लग्न चाहा पर तभी भाभी आ गई; "और सो लो थोड़ा? पतुरिया को याद कर-कर के सोये तो होंगे नहीं?" ये सुनते ही ऋतू गुस्सा हो गई; "भाभी थोड़ी तो शर्म किया करो?! देखते नहीं ऋतू खड़ी है?" मैंने उन्हें झाड़ते हुए कहा|

"बच्ची थोड़े ही है?" उन्होंने कहा और चली गईं| ऋतू भी उनके पीछे-पीछे जाने लगी, माने दौड़ कर उसका हाथ पकड़ लिया और उसे अपने कमरे में खींच लिया| "मेरे होते हुए आप पतुरिया देखने गए?" ऋतू ने गुस्से से कहा|

"जान! मुझे नहीं पता था की वो कहाँ बुला रहा है? यक़ीन मानो मैंने कुछ नहीं किया ना ही उसे छुआ, वो मुझे खींच कर ले जा रही थी पर मैंने संकेत को आगे कर दी| उसने तो मुझे चिलम भी ऑफर की थी पर मैंने तुम्हारे वादे की खातिर उसे मना कर दिया|" मैंने ऋतू से ऐसे कहा जैसे की एक छोटा बच्चा अपनी सफाई देता है| ये सुन कर ऋतू खिलखिला कर हँस पड़ी और मेरे दोनों गाल पकड़ के खींचते हुए बोली; "I know ...I was joking!!!" हँसती-खेलती हुई वो नीचे चली गई| मैं भी नहा धो कर अपना लैपटॉप ले कर नीचे आ गया और आंगन में बैठ कुछ PPTs पर काम करने लगा| अम्मा और माँ मुझे काम करता हुआ देख रहे थे और पहला ताना माँ ने ही मारा; "दो दिन के लिए घर आया है, कम से कम यहाँ तो इस डिब्बे को बंद कर दे!"

अब इससे पहले ताई जी मुझे ताना मारें मैंने लैपटॉप बंद किया और उनके पास जा कर बैठ गया| माँ और ताई जी बैठीं मटर छील रही थीं और मैं भी वहीँ बैठ गया और मटर छीलने लगा| मुझे देख कर भाभी जोर से हँस पड़ीं और उनकी देखा-देखि सब हँस पड़े| "क्या हुआ? आपने ही कहा था की डिब्बा बंद कर दो, तो सोचा की आपकी मदद ही कर दूँ|" ये सुन कर ताई जी बोलीं; "ये काम करने को नहीं बोला, ये बता वहाँ तू अकेला खाना कैसे बनाता है?" मैं पहले तो थोड़ा हैरान हुआ क्योंकि आज तक कभी मुझसे इस तरह की बात नहीं की गई थी| "रात को सात बजे तक पहुँचता हूँ, फिर राइस कुकर में चावल और स्टील वाले में दाल डाल कर गैस पर चढ़ा देता हूँ| एक साथ दोनों तैयार हो जाते हैं, फिर चॉपर में प्याज-टमाटर और हरी मिर्च डाल कर के 5-7 बार खींचता हूँ और फटफट तड़का मारा... खाना तैयार| जब ज्यादा लेट हो जाता हूँ तो बाहर से मँगा लेता हूँ|" मैंने कहा|

"ये चापर क्या होता है?" माँ ने पुछा तो मैंने उन्हें बता दिया; "एक कटोरी जैसे बर्तनहोता है उसमें दो ब्लेड लगे होते हैं, उसके ऊपर एक हैंडल होता है और उसे खींचने से नीचे ब्लेड घूमता है| अगली बार आऊँगा तब आपको ला कर दिखा देता हूँ|" तभी ऋतू बोल पड़ी; "आज आप ही खाना बना कर खिला दो सब को!" पर ताई जी को ये बात नहीं जचि और वो ऋतू पर बिगड़ पड़ीं; "पागल हो गई तू? इतने महीनों बाद आया है और तू इससे चूल्हा-चौका करवाएगी?" ऋतू ने अपना सर झुका लिया|

"ताई जी, आज तो आपको ऐसा खाना खिलाऊंगा की आप उँगलियाँ चाट जाओगे!" मैंने जोश में आते हुए ऋतू का बचाव किया| मैंने हाथ-मुँह धोये और रसोई में घुस गया, सबसे पहले मैंने फ़ोन में गाना लगाया: "ना जा न जा" और ऋतू का हाथ सब के सामने पकड़ा और उसके दाहिने हाथ की ऊँगली पकड़ कर उसे गोल घुमा दिया| ऋतू इस सबसे बेखबर थी और मेरे अचानक उसे गोल घुमाने से वो गोल घूम गई|

उस एक पल के लिए मैं सब कुछ भूल गया था, मुझे बस ऋतू के उदास चेहरे को खुशियों से भरना था| ऋतू डांस करने में बहुत झिझक रही थी पर मैं ही उसे जबरदस्ती नचा रहा था| चूँकि वहाँ सिवाय औरतों के कोई नहीं था तो इसलिए कोई कुछ बोला नहीं| जब गाना खत्म हुआ तो ताई जी बोलीं; "देख रही है छोटी (माँ) तू, गाँव में जिस लड़के की आवाज नहीं निकलती थी वो शहर जा आकर नाचने भी लगा है|" मैंने ऋतू की तरफ एक टमाटर उछाला जिसे उसने बड़ी मुश्किल से पकड़ा और मैंने उसे काट के देने को कहा| तभी भाभी बोल पड़ी; "देखो ना चची कितने बेशर्म हो गया है मानु, ऋतू को नचा रहा है!" अब ये बात मुझे बहुत चुभी; "अपनी माँ और ताई जी के सामने नचा रहा हूँ बाहर सड़क पर तो नहीं नचा रहा|" ये सुन कर भाभी का मुँह बन गया और माँ कहने लगी; "कोई बात नहीं बहु, कम से कम इसके आने से घर में थोड़ी रौनक तो आ गई|"

"तू एक बात बता मानु, तू अपनी भाभी से चिढ़ा क्यों रहता है?" ताई जी ने पुछा|

"ताई जी ये जब देखो ऋतू के पीछे पड़ीं रहती हैं, मैंने आज तक इन्हें कभी हँस कर ऋतू से बात करते नहीं देखा| हमेशा उसे ताना मरती रहतीं हैं, उससे प्यार से बात करें तो मैं भी इनसे हँस कर बात करूँ| अगर उसे नचा सकता हूँ तो इनको भी थोड़ा नचा दूँगा|" मैंने माहौल को थोड़ा हल्का करने के लिए कहा| फिर मैं खाना बनाने में लग गया और सारा सब्जी काटने का काम ऋतू से करवाया; "अगर सारी चोप्पिंग मुझसे करानी थी तो खाना मैं ही बना लेती|' ऋतू ने प्यार से मुझे ताना मारते हुए कहा|

"खाना तो बना लेती पर मेरे हाथ का स्वाद कैसे आता?" मैंने ऋतू को आँख मारते हुए कहा| जब सब दोपहर को खाने बैठे तो खाना वाक़ई में सब को पसंद आया पर पिताजी और ताऊ जी ने कुछ कहा नहीं, हाँ बस ताई जी और माँ ने खाने की तारीफ की थी| भाभी बोलीं; "चलो भाई एक बात तो तय हुई, शादी के बाद मानु अपनी लुगाई को खुश बहुत रखेगा|" ये सुन ऋतू मुस्कुराई जैसे खुद पर फक्र कर रही हो| शाम होने तक मैं सभी के पास बैठा रहा, 7 बजे लाइट चली गई और फ़ोन की बैटरी भी डिस्चार्ज हो गई और लैपटॉप तो मैं चार्जर पर लगाना ही भूल गया था| रात का खाना भी मैंने ही बनाया और इस बार पिताजी बोल ही पड़े; "घर में तू तीसरा आदमी है जिसे खाना बनाना आता है| याद है भाईसाहब जब हम छोटे होते थे तब खेतों में आलू का भरता बनाते थे|" ताऊजी मुस्कुराये और उन्होंने अपने बचपन की कहानी सुनाई; "मैं और तेरा बाप माँ के गुजरने के बाद चूल्हा-चौका संभालते थे| कभी-कभी कहते में पहरिदारी करनी होती थी तो घर से रोटी बना कर ले जाते और खेत में कांडों की आग में आलू भूनते और फिर उसमें घर का नून मिला कर रोटी के संग खाते थे|" सब के सब उनकी बातें बड़े गौर से सुन रहा थे, चन्दर ने तो आज तक रसोई में घुस के एक गिलास पानी तक नहीं लिया था| खेर खाना खा कर मैं और ऋतू छत पर बैठे थे क्योंकि लाइट अभी तक नहीं आये थे| तभी सब अपने-अपने बिस्तर ले कर ऊपर आ गए| एक कोने में सारे आदमी लेट गए और दूसरे कोने में सारी औरतें लेट गईं| मेरा बड़ा मन कर रहा था की ऋतू को कस कर अपनी बाहों में प्यार करूँ पर सब के रहते ये नामुमकिन था| करवटें बदलते हुए सो गया और सुबह जल्दी उठ गया| पांच बजे नाहा धो कर तैयार होगया| ठीक 6 बजे में निकलने लगा क्योंकि मुझे सीधा ऑफिस जाना था तो ऋतू ने मेरे लिए दोपहर का खाना पैक कर दिया| बुधवार को ऋतू को 'लिवाने' का वादा कर मैं घर से निकला, आँखों में उसकी वही हँसती हुई तस्वीर थी| सीधा उसी ढाबे पर रुका और अपना फ़ोन चार्जिंग पर लगाया क्योंकि घर में लाइट तो आई नहीं थी| चाय पी कर वहाँ से निकला, घडी में 9 बजे थे की मैडम के ताबड़तोड़ कॉल आने लगे| मैंने बाइक साइड खड़ी की और फ़ोन चेक किया तो मैडम के कल से अभी तक 50 कॉल आये थे| इससे पहले की मैं कॉल करता उनका ही फ़ोन आ गया; "मानु जी!!!! आप कहाँ हो?" उन्होंने घबराते हुए कहा| "Mam रास्ते में हूँ..." आगे मैं कुछ बोल पाता उससे पहले ही मैडम ने कहा: "आप सीधा फॅमिली कोर्ट आना, कोर्ट नंबर 5!!!" इतना कह कर उन्होंने फ़ोन काट दिया| ये सुन कर मैं परेशान हो गया की भला उन्होंने मुझे कोर्ट क्यों बुलाया है? माने उन्हें दुबारा कॉल मिलाया तो फ़ोन स्विच ऑफ बता रहा था| अब मरते क्या न करते मैं कोर्ट की तरफ चल दिया|

User avatar
naik
Super member
Posts: 4312
Joined: 05 Dec 2017 04:33

Re: काला इश्क़

Post by naik »

(^^^-1$i7) (#%j&((7) (^@@^-1rs2)
FANTASTIC UPDATE BROTHER KEEP POSTING
WAITING FOR THE NEXT UPDATE 😪

User avatar
SATISH
Super member
Posts: 8102
Joined: 17 Jun 2018 16:09

Re: काला इश्क़

Post by SATISH »

(^^^-1$i7) 😘 😠 excellent story mind blowing hot & sexy please continue
Image

Post Reply