Meri jindgi

Rishuarya
Rookie
Posts: 31
Joined: 28 Apr 2019 16:47

Re: Meri jindgi

Post by Rishuarya »

काजल कुछ देर सोचती रहती है फिर बोलती है कि
काजल  "  ठीक है अगर तूने मुझे सजा देने के बारे ने अगर सोच ही लिया है तो मैं तेरी दूसरी सजा को मानती हूं लेकिन मेरी एक बात को समझ लेना की आज के बाद अगर तूने कुछ भी गलती किया तो तेरी सजा मैं  तय करूँगी और वो तुझे हर हालत में मनाना ही पड़ेगा।"
रिशु  "चल मैं जब कोई गलती करूँगा तब तू भी मुझे सजा दे लेना मगर अभी तो मेरी बारी है सजा देने की "
काजल  " ठीक है अभी तो मैं जा रही हु लेकिन कल जरूर आऊंगी मैं फिर तुझे मुझसे कौन बचाएगा ये मैं देखती हूं ।"
पुजा  "अगर तुम लोग का यह बच्चों की तरह झगडना हो गया हो तो मेरी भी बात सुन लो तुम दोनों।"
दोनों एक साथ बोलते है कि भाभी हम लोग का इसी तरह लगा रहता है आपको कुछ काम था हम लोग से इसपर पुजा बोलती है कि
पुजा   "नही कुछ खास काम तो नही था बस आज मुझे शॉपिंग करने मार्केट जाना चाहती थी तो सोची की तुम लोगो से भी पूछ लू कि तुम लोगो को चलना है हमारे साथ क्यूंकि अभी मैं और रानी दोनों जा रहे है।"
रिशु  "भाभी मुझे तो अभी कुछ भी खरीदना नही है लेकिन आप ने मुझसे पूछा यही मेरे लिए बहुत है आप चाहो तो काजल को साथ मे लेकर जा सकती हो ।"
रानी  "काजल ही क्यों तुम चलो साथ मे तुमने भी बहुत दिनों से कुछ भी नही खरीदा है मैं चाहती हु तू जब कॉलेज जाओ तो सभी बस तुझे ही देखते रहे और अभी तू जो भी पहनता है उसमें सभी तो क्या आंटी तक भी तुझे नही देखेंगी।"
काजल को रानी की बात सुनकर उसे बुरा लगता है और वो  गुस्से में वहां से जाने लगती है तभी पुजा उंसके हाथो को पकड़ कर उसे अपने पास बैठा लेती है और बोलती है कि
पुजा  "मेरी लाडो ननद जी आप इस तरह नारज हो कर कहा जाने लगी मैं  करवाऊंगी आपकी शॉपिंग आप इतना गुस्से में क्यों जा रही हो ।मैं जानती हूं आपको इस बात का बुरा लगा आपकी रानी दीदी आपको ले जाने की बात ही नही कर  रही है।"
अब काजल इस बात का क्या उत्तर दे वह तो खुद भी नही समझ पा रही थी कि रिशु के बारे में ऐसा  बोलने से उसे इतना बुरा क्यों लगा । फिर वह पुजा की तरफ देखती हुई बोलती कि
काजल   ""आप इतना  चिंता न करे  मुझे कोई शॉपिंग नहीं करनी है और मुझे क्यों बुरा लगेगा दीदी ने  इसलिए बोली क्योंकि दीदी जानती है रिशु जल्दी अपने कुछ भी नहीं खरीदता और जो इसके पास कपड़े है वो स्कूल में तो चल गए क्यूंकि  वहां पर ड्रेस थी इसलिए कोई दिक्कत नहीं हुई परन्तु कॉलेज में ऐसा नहीं है और मेरे पास वैसे भी बहुत है और अगर कुछ चाहिए तो मै दीदी से बोलकर खुद ही पैसे लेकर चली जाऊंगी ।"
इतना बोलकर काजल वहाँ से जाने लगती है तो रानी बोलती है कि
रानी  "मेरी बातों का बुरा मानकर जा रही है ना तू  क्या तुम मुझे माफ नहीं कर सकती है मेरे कहने का मतलब नहीं था।
काजल " दीदी मैं आपसे नाराज हो कर नहीं बल्कि इस पागल से बच कर जा रही हूं ना जाने फिर इसे किस बात का बुरा लग जाए और फिर यह कोई और सजा निर्धारित कर दे ।इसलिए अभी तो मै जा रही हूं पर तू अभी मेरी बातो को ध्यान से सुन अगर तूने आज के बाद कोई भी गलती की तो इतना समझ ले कि तुझे मै क्या सजा दूंगी ये तो तू सोच भी नहीं सकता है।"
इतना बोल कर काजल वहां से चली जाती है फिर रानी रिशु से बोलती है कि
रानी "मुझे अभी तेरी कोई भी बात नहीं सुननी है मै तुझे 30 मिनट का समय दे रही हूं तू तैयार हो कर मेरे कमरे में आ जाना अगर मुझे बुलाने आना पड़ा तो तू सोच लेना।
इतना बोलकर रानी और पूजा भी चली जाती है । इन दोनों के जाने के बाद रिशु अपने मन में सोचता है कि इधर काजल भी नाराज हो कर चली गई और जाते हुए धमकी देकर गई और अब दीदी भी लगता है आज का दिन ही खराब है और ना चाहते हुए भी तैयार होने के लिए चला जाता है ।
इधर रूम से निकलने के रानी  पुजा से बोलती है कि
रानी "भाभी आपने उसे शॉपिंग के लिए बोली और मुझसे एक बार भी इस बारे में कुछ इशारा भी नहीं किया और मै यह भी नहीं समझ पाई कि इसकी क्या जरूरत थी । हम लोग तो उससे घूमने जाने के लिए बात करने वाले थे।"
पुजा "मै तो इसलिए ऐसा बोली कि वहां पर काजल भी थी शॉपिंग माल में हमें उससे अकेले में बात करने का मौका मिल जाता और ये इसलिए भी जरूरी था क्यूंकि तुमने सायद काजल की बात ठीक से सुनी नहीं की रिशु के पास अच्छे कपड़े नहीं है। इसका कारण तो तुम जानती हो पापा तो उसे कुछ दिलवाते नहीं और मा जी भी बस जितना काम चले इतना ही दिलाती है इसलिए भी जरूरी है घूमने से पहले खरीदारी करना।अब तुम ज्यादा बात मत करो वो रेडी हो कर आ जाएगा तुम यही रह जाओगी।"
रानी "अपने यह बात बिल्कुल ठीक बोलीं आप मै जा रही हूं रेडी होने वैसे निशा अभी तक आयी की नहीं वो आजाती तो उसे भी लेकर चलते ।"
पुजा "वो अभी आई भी नहीं है और ये भी नहीं पता कि कब तक आयेगी वो ।हम लोग उसे फिर कभी घुमा लाएंगे अभी तो हमे चलना चाहिए।"
रानी "ठीक है आप भी तैयार हो कर आइए फिर साथ में चलेंगे ।"
इसके वो दोनों भी तैयार होने चली जाती है ।इधर निशा अपने टीम मेंबर और मिस्टर सिंह के साथ मीटिंग हॉल बैठ कर बाते कर रहे थे।
मिस्टर सिंह "तो अफिसर आप सभी लोग को पता है कि आप लोगो को कौन सा काम दिया जा रहा है इसमें जान जाने का खतरा हर वक्त बना रहेगा ।अगर आप मै से कोई भी इस काम के लिए खुद को तैयार नहीं महसूस कर रहे है तो अभी ये आखिरी समय है पिछे हटने का क्यूंकि अगर इसके बाद तुम लोग पीछे हट भी गए तो गुंडे मावली तुमको नहीं छोड़ेंगे।"
जय "नो सर अपने हमे इस काबिल समझा कि हम लोग इस काम के लायक है यही हमारे लिए बहुत है । हममें से कोई भी आपके विश्वाश को टूटने नहीं देंगे चाहे इसके लिए हमें अपनी जान की बाजी ही क्यों ना लगाना पड़े।"
कविता " हा सर जय बिल्कुल ठीक कह रहा है 2 साल हो गए ज्वाइन किए हुए आज तक कुछ भी नही कर पाए आज मौका मिला है मुझे अपने आपको साबित करने का तो हम पीछे कैसे हट सकते है।"

Reich Pinto
Expert Member
Posts: 282
Joined: 10 Jun 2017 21:06

Re: Meri jindgi

Post by Reich Pinto »

superb story writing

User avatar
SATISH
Super member
Posts: 8102
Joined: 17 Jun 2018 16:09

Re: Meri jindgi

Post by SATISH »

😘 (^^^-1$i7) 😱 भाई बहोत मस्त स्टोरी है लाजवाब एकदम झकास चालू रखीये 😋
Image



Post Reply