Fantasy मोहिनी

Post Reply
chusu
Novice User
Posts: 683
Joined: 20 Jun 2015 16:11

Re: Fantasy मोहिनी

Post by chusu »

nice.... keep updating
User avatar
Dolly sharma
Pro Member
Posts: 2787
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: Fantasy मोहिनी

Post by Dolly sharma »

जिस जगह मैं गोरखनाथ को छोड़कर गया था वह वहाँ नहीं था। अलबत्ता एक दासी खड़ी थी जो उसी तरह के लबादे में थी। पहाड़ों की रानी भी वहाँ नहीं थी। दासी ने मुझसे कहा कि अब मेरे भोजन का समय हो गया है, अतः मैं भोजन पर चलूँ। मैंने उससे कोई सवाल नहीं किया और चुपचाप चल पड़ा।
जिन हैरतअंगेज घटनाओं से मैं गुजर रहा था उस पर कौन विश्वास करेगा। लोग तो मुझे पागल ही समझेंगे लेकिन मैं किसी को विवश भी नहीं करता कि वह मेरी आपबीती पर विश्वास ही करे। ऐसी बातें किसी को भी सुनाने की नहीं होतीं। इसलिए मैंने आज तक अपनी आपबीती किसी को सुनायी भी नहीं थी।

मैं लोगों को बता देना चाहता हूँ। तांत्रिकों या काले जादूगरों को भी समझा देना चाहता हूँ कि मोहिनी को प्राप्त करने का बीड़ा कोई न उठाये अन्यथा उसकी जिंदगी ख़तरे में पड़ जाएगी। मोहिनी मेरी है, सिर्फ मेरी।

मेरी बात भी आम आदमी से अलग हटकर है। मैं मोहिनी के साक्षात दर्शन कर पाने में यूँ ही सफल नहीं हो गया। उसके लिए मैंने सारी जिंदगी खंडहर बना दी थी और मोहिनी की इच्छा के कारण ही मैं उसके दर्शन कर पाने में सफल हो पाया था; परन्तु मैं ईश्वर से प्रार्थना करूँगा कि ईश्वर किसी को इस मार्ग पर न जाने दे।

मैं उन्हीं गुफाओं में अपने दिन व्यतीत कर रहा था। दासियाँ मेरी सेवा किया करतीं और पहाड़ों की रानी के निर्देश पर मुझे जड़ी-बूटियों का सेवन कराया जा रहा था, परन्तु पहाड़ों की रानी के दर्शन भी एक मुद्दत तक मुझे नहीं हो पाए।

उन तिलिस्मी गुफाओं के भीतर मुझे एक महल के अवशेष नजर आते। मोहिनी के दर्शनोपरान्त मुझे जिस भाग में ठहराया गया था, वहाँ बड़े-बड़े कमरे थे। पत्थरों के स्तम्भ खड़े थे। दीवारों पर कारीगरी थी और एक बड़ा दरबार हाल था जिस पर सभासदों के बैठने के लिए कुर्सियाँ थीं और उनसे कुछ फासले पर एक मंच पर स्वर्णजड़ित सिंहासन रखा था। न जाने यह मार्ग कितना लम्बा-चौड़ा था। हकीकत यह थी कि वहाँ के तिलिस्मी रास्तों पर बिना दूत के सहारे मैं चल भी नहीं सकता था। मुझे बताया गया कि पहाड़ों की रानी युद्ध की रूपरेखा तैयार करने में व्यस्त है। गोरखनाथ भी अब मेरे पास नहीं रहा था। मेरे लिए वहाँ सभी व्यवस्थायें आला दर्जे की थीं जैसे कि एक शाही मेहमान के लिए की जाती हैं। एक डोर के खींचते ही सेविका हाजिर हो जाती थी।

और दिन इसी प्रकार व्यतीत हो रहे थे। मोहिनी को देखने के लिए मन विह्वल हो उठता था। एकान्त अब बुरी तरह खल रहा था।

एक दिन मैं यूँ ही अकेला उस रहस्यमयी किले का भ्रमण करने निकल पड़ा। मेरे आने-जाने में कहीं भी रोक-टोक नहीं थी; अतः मैं एक दूसरे रास्ते पर भटकता-भटकता एक ऐसी जगह पहुँच गया जो मैंने पहले कभी नहीं देखी थी। यह एक मीनार थी जिसके ऊपर बर्फ आच्छादित थी।

इस मीनार में प्रविष्ट होने का रास्ता उस वक्त खुला था। वहाँ कोई पहरा नहीं था, परन्तु मुझे यूँ लगा जैसे बहुत से साये मीनार के द्वार में प्रविष्ट होते ही मेरे इर्द-गिर्द मँडराने लगे हैं। लगता जैसे वहाँ भटकती आत्माएँ कैद हैं जो मुझे भयभीत करके मीनार से बाहर खदेड़ देना चाहती हैं। एक-दो बार तो मुझे धक्का भी दिया गया और मैं लड़खड़ाकर गिरा भी, लेकिन मैं भयभीत नहीं हुआ। अपने जीवन में मैंने जितने रहस्यों का और जितनी मुसीबतों का सामना किया था, उसने मुझे बहुत मजबूत बना दिया था। यूँ भी उन दिनों मैं अपने आप में अपरम्पार शक्ति महसूस करता था।

वह मिन्नतें करने लगे कि मैं आगे न बढ़ूँ। इनकी भिनभिनाती आवाजें सुनायी पड़ रही थीं। मेरा दृढ़ इरादा देखकर उन्होंने मिन्नत करनी भी छोड़ दी और मेरे मन की उत्सुकता जो कि इँसानी फितरत है, बढ़ती चली गयी कि आखिर वे मुझे वहाँ जाने से क्यों रोक रहे हैं ?

मीनार के भीतर चक्करदार सीढ़ियाँ थीं। मैं उन पर चढ़ता रहा। फिर एक कक्ष के दरवाजे पर जाकर मेरे कदम रुके। मुझे वहाँ रोशनी का एक दायरा दिखायी दिया और फिर मैंने देखा कि रोशनी के उस दायरे में विश्व सुन्दरी मोहिनी बैठी है। उसकी आँखें बन्द थीं और उसके लम्बे बाल सम्पूर्ण सीने पर फैले हुए थे। उसके मस्तक से शक्ति का प्रकाश बह रहा था। वह कुछ बुदबुदा रही थी।

मैं छिपकर मोहिनी को देखने लगा।

मीनार के उस हिस्से में एक चौड़ी खिड़की थी। प्रकाश वहीं से आ रहा था और मोहिनी उसमें स्नान करती प्रतीत हो रही थी। उसके एक हाथ में अब भी त्रिशूल था। फिर मैंने असँख्य साँपों को मोहिनी के सामने शीश नवाते देखा। जैसे मोहिनी उन आत्माओं से बातें कर रही थी। उन्हें हुक्म सुना रही थी। वे सभी साये आते रहे और अदृश्य होते रहे। फिर मोहिनी ने धीरे-धीरे गुनगुनाते हुए आँख खोल दिए और एक पुस्तक का अध्ययन करने में लीन हो गयी। उसे मेरी कोई खबर नहीं थी।

कुछ समय अध्ययन में व्यतीत करने के उपरान्त वह उठी। उसने करीब रखा लबादा ओढ़ा और मैं बुरी तरह चौंका। अब मैंने उसे सिर पर पहाड़ों की रानी वाला ताज रखते देखा। अब वह पहाड़ों की रानी के रूप में मेरे समक्ष थी।

हे भगवान, क्या पहाड़ों की रानी मोहिनी थी ?

अचानक मोहिनी ठिठक पड़ी। जैसे उसे किसी की उपस्थिति का आभास हुआ हो।

“राज! तुम और यहाँ ?” मोहिनी के स्वर में हल्का आश्चर्य था।

पहाड़ों की रानी की आवाज अब पहले की तरह खनकती हुई नहीं थी; बल्कि उसका स्वर सुरीला हो गया था और यह मोहिनी की ही आवाज थी।

मैंने छिपना निरर्थक समझा और मोहिनी के सामने आ गया।

“हाँ, मैं यहाँ।”

“मेरे प्रिय, यह तुमने अच्छा नहीं किया।”

“क्यों मोहिनी, तुमने अब तक यह बात मुझसे छिपाकर क्यों रखी कि तुम ही पहाड़ों की रानी हो ? अगर मैं आज अपनी आँखों से न देख लेता तो न जाने कब तक इस दुविधा में रहता! यह भेद तुमने मुझसे क्यों छिपाकर रखा ?”

“उसके लिए अभी समय नहीं आया था राज। खैर, अगर तुम जान ही गये हो तो इस भेद को अपने तक ही सीमित रखना। राज, अगर मैं तुम्हें समय आने पर यह भेद बताती तो उचित रहता।”

“यह तुम बार-बार कौन से समय की बात करती हो ?”

“जब तुम अपनी मोहिनी को स्पर्श कर सको। उससे प्रेम कर सको। बस कुछ मास ही शेष हैं, जब आकाश की बेटी आकाश के बेटे से जा मिलेगी। फिर हमें कोई एक-दूसरे से जुदा न कर सकेगा।”

“मोहिनी, सच बताओ, तुम कोई आत्मा तो नहीं हो ?”

“राज! हम सब आत्मायें हैं। मगर मैं इन सबसे भिन्न हूँ। वैसे यह निर्णय करना बहुत कठिन है कि वास्तव में हम कौन हैं ? यदि मेरा मस्तिष्क भूल नहीं करता तो वह पुस्तक जिसका अध्ययन मैं कर रही हूँ, उसमें लिखा हुआ है कि आकाश के बेटे इस धरती पर आये और उन्होंने देखा कि इँसान की बेटियाँ नहीं हैं। तो फिर क्या ऐसा नहीं हो सकता कि आकाश की एक बेटी धरती पर आयी हो और वह एक पुरुष की सुन्दरता पर मोहित हो गयी हो और उसे इस प्यार की सजा जीवन भर भोगनी पड़ी हो। अच्छा हो राज, तुम ऐसे प्रश्न न करो और जो देख रहे हो उसे बस देखते रहो।”

मोहिनी की बातें अब मुझे संदिग्ध करने वाली थीं। रियासत की महारानी ने कहा था कि पहाड़ों की रानी एक भटकती रूह है। वहाँ गंदी आत्मायें रहती हैं जो इँसानी लहू पीती हैं और यदि मोहिनी इँसानी देह नहीं तो फिर मेरा यह प्रेम कैसा ? मैं किस तरह उसे पा सकता हूँ ? वह एक आत्मा थी या औरत ? यह फैसला करना कठिन था। मैंने इस मन्दिर में जिस तरह उसे शरीर धारण करते देखा था, वह आश्चर्य केवल आत्मायें ही दिखा सकती थीं।

पहाड़ों की रानी शायद इसलिए अपना सम्पूर्ण शरीर छिपाकर रखती थी क्योंकि उसकी देह में एक छिपकली और औरत के मिले-जुले कँकाल के सिवा कुछ नहीं था। उसकी आवाज भी खोखली और खनकती हुई थी। फिर मेरे सामने ही उसने आग में स्नान करके इँसानी देह धारण कर ली तो वह औरत किस तरह हो सकती थी ? उसका कोई अस्तित्व नहीं था। मैं उसे छू नहीं सकता था। शायद इसी कारण कि उसका अस्तित्व था ही नहीं। जिस तरह मैं उस मोहिनी को नहीं छू सकता था जो मेरे सिर पर आया करती थी।

किन्तु फिर भी मैं उसके प्रेम में गिरफ्तार था। अपनी इच्छा तो जैसे मर चुकी थी। उसका एक भेद तो मेरे सामने खुल चुका था और मैं जानना चाहता था कि वहाँ जो दूसरे दूत रहते हैं, क्या वे भी इँसानों और छिपकली के मिले-जुले ढांचे हैं ?

हम दोनों मीनार से साथ-साथ आये।
User avatar
Dolly sharma
Pro Member
Posts: 2787
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: Fantasy मोहिनी

Post by Dolly sharma »

एक दिन उसने मुझसे कहा कि वह सारी दुनियाँ का राजा मुझे बनाएगी और स्वयं मेरी रानी होगी। हमारी जोड़ी सितारों की जोड़ी की भाँति आकाश पर सदा चमकेगी। हम दोनों सारे संसार पर विजय पा लेंगे।

यह शब्द कहते-कहते मोहिनी के माथे का प्रकाश चौड़ा होकर फैल गया था। उसकी काली आँखें विचित्र ढंग से चमकने लगी थीं।

मैं उसकी बात सुनकर घबरा गया।

“मोहिनी! ये कैसे होगा ?”

“सब कुछ मेरी इच्छाओं के अनुरूप होगा। मैंने संसार भर के समस्त मानचित्रों का अध्ययन किया है। हम छोटे-मोटे देशों को जीतते हुए बड़ी शक्तियों के सामने आयेंगे।”

“मोहिनी! मैं बेगुनाहों की हत्या करके विश्व सम्राट नहीं बनना चाहता।”

“राज! यदि तुम इँसानों की हत्या नहीं करना चाहते तो मैं ऐसा मार्ग भी ढूँढ लूँगी, जिससे हम शांतिप्रिय ढंग से सारे संसार पर शासन करेंगे।”
अभी हम यह बातें कर ही रहे थे कि एक दूत भीतर आया और सिर झुकाकर खड़ा हो गया।

“क्या काम है ?” मोहिनी ने बड़े रोबीले स्वर में पूछा।

“पवित्र माँ! हमारे सब जासूस वापस आ गये हैं।”

“अच्छा, तो उन्होंने क्या सूचना लाकर दी है ?”

“पवित्र माँ! उन्होंने बताया है कि कानून के वासी लोगों की रियासत में सूखे के कारण भुखमरी पड़ गयी है। उनके खेत जल गये हैं। महारानी ने कहा है कि यह सब कुछ आप ही कारण हुआ है। इसलिए वह अपनी सेनाओं को इकट्ठा करके हमारे ऊपर आक्रमण की तैयारियाँ कर रही है।”

“मैं समझ गयी। उस औरत के सीने की जलन उसे ऐसा करने के लिए मजबूर कर रही है। राज! अभी तुम कह रहे थे कि हमें बेगुनाहों का खून नहीं बहाना चाहिए। मगर देख लिया इन लोगों का हाल! यही लोग मुझे इस बात के लिए विवश करते हैं कि मैं इनका बलिदान स्वीकार करूँ। महामंत्री! तुम जाओ, मैं स्वयं देख लूँगी कि कहीं यह जासूस मुझे धोखा तो नहीं दे रहे हैं।”

उसके बाद मोहिनी ने ध्यान तोड़ा और अपनी पूर्वस्थिति में आ गयी।

फिर सामान्य स्वर में बोली–“जासूसों की सूचना सही है। राज देखो, यह औरत तुम्हारे प्रेम में किस तरह खून बहाने पर उतर आयी है। तुमने खुद अपनी आँखों से देख लिया कि किस तरह उसने तुम्हें पिछले जन्म में खोया था। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा राज। वह तुम्हारी छाया भी न पा सकेगी। मेरे सरदार! क्या तुम भी यह युद्ध देखोगे ? नहीं...नहीं...तुम यहीं रहोगे! उस चुड़ैल से मुकाबला करने के लिए मैं अकेली ही काफी हूँ। मैं अपने प्रेमी के निकट दुःख की छाया तक न आने दूँगी। उस औरत के हृदय में ईर्ष्या की आग जल रही है और मैं उस आग को सदैव के लिए ठंडा कर दूँगी।” मोहिनी क्रोध भरे स्वर में बोली।

मोहिनी क्रोध में टहल रही थी। वह किसी सोच में डूबी हुई थी।

थोड़ी देर पश्चात वह बोली–“मैंने तुम्हें कहा था न कि मैं सारे विश्व पर विजय प्राप्त करना चाहती हूँ। मगर वह शक्ति मैंने तुम्हें दिखायी कहाँ ? आओ, आज वह यंत्र भी तुम्हें दिखाती हूँ जो मैंने तैयार किए हैं।”

और वह मुझे साथ लेकर चल पड़ी।

वह मुझे ऐसे टेढ़े-मेढ़े रास्तों से लेकर चली जहाँ से हम पहले कभी नहीं गुजरे थे। एक द्वार पर जाकर हम रुके जिसे खोलने के लिए उसने मुझसे कहा। मैंने बढ़कर द्वार खोला। अन्दर गुफा में तेज प्रकाश था। उसे देखते ही मेरी बुद्धि चकरा गयी। वह मोहिनी की प्रयोगशाला थी। क्योंकि उसमें बहुत सी चीजें ऐसी थीं, जो किसी वैज्ञानिक की प्रयोगशाला में ही हो सकती थीं।

अब हम वहाँ प्रविष्ट हुए तो मैंने देखा कि वहाँ पहले से कुछ लोग काम कर रहे थे। सभी लबादों में थे। उन्होंने पहाड़ों की रानी को झुककर प्रणाम किया और फिर हाथ जोड़कर खड़े हो गये।

मोहिनी आगे बढ़ी और एक यन्त्र मुझे दिखाने लगी। विज्ञान की इतनी उन्नति तो हमारी दुनियाँ में कहीं भी नहीं हुई थी जितनी मोहिनी इन पहाड़ों में लिए बैठी थी। सोने के बड़े-बड़े ढेर पड़े थे; जिस तरह किसी कारखाने में बेकार का लोहा पड़ा हो। उसे मोहिनी की वैज्ञानिक शक्ति ने तैयार किया था।

“क्या इतना सोना इन पहाड़ों से निकाला गया है ?” मैंने उससे पूछा।

मोहिनी इस प्रश्न पर हँस दी।

“क्या तुम आशा करते हो कि इतना सोना पहाड़ों से निकल सकता है ? मेरे प्रेमी यह सब कच्चा लोहा है जिसे मैंने अपने विज्ञान की शक्ति से सोना बना दिया है। ये सब ढेर सोने के हैं। तुम लोग इसे जादू समझते हो। मैं तुम्हें फिर कहती हूँ कि ये जादू नहीं विद्या का खेल है। विज्ञान का मैंने बहुत अध्ययन किया है। एक लम्बे समय तक मैं चोटी के वैज्ञानिकों के सिरों पर घूमती रही हूँ। ये उसी का फल है कि मैं संसार की सबसे शक्तिशाली स्त्री हूँ।”

“मोहिनी, मुझे डर है कि कहीं विज्ञान की इतनी बड़ी उन्नति जिससे तुमने भयंकर हथियार तैयार किये हैं, सारे विश्व का सर्वनाश न कर दें।” मैंने डरकर कहा।

“तुम इसकी चिंता न करो, मेरे प्यारे राज। मैंने जो कुछ भी किया है यह सब तुम्हारे लिए है। तुम्हारे बिना मैं कुछ भी नहीं हूँ।”
❑❑❑
User avatar
Dolly sharma
Pro Member
Posts: 2787
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: Fantasy मोहिनी

Post by Dolly sharma »

मोहिनी के रहते यूँ मैंने खूब दौलत का नशा देखा था; परन्तु ऐसा करिश्मा तो मोहिनी ने कभी नहीं दिखाया था कि कच्चे लोहे को सोना बनाकर रख दे। यह कोई ऐसी बात नहीं थी जिसे आसानी से भुलाया जा सके।

इस बीच गोरखनाथ से मेरी मुलाकात एक बार भी नहीं हो सकी। मोहिनी से पूछने पर उसने बताया कि गोरख अब उसकी रणनीति तय करने में व्यस्त है और तराई की ओर युद्ध के लिए मोर्चे बनवा रहा है।

“गोरख को मैं महामंत्री बनाऊँगी।” मोहिनी ने कहा।

मैंने मोहिनी के खतरनाक रॉकेट देखे। वह एटमी युग से आगे के शस्त्र बना रही थी और सूरज की ऊर्जा से विनाश की किरणें तैयार कर रही थी।

अगर सिर्फ लोहे से सोना बनाने की बात ली जाए तो वह सारी दुनियाँ को खरीदने का दमखम रखती थी। छोटे-मोटे देश तो उसके साधारण चमत्कारों द्वारा प्रभावित होकर उसकी अधीनता स्वीकार कर लेते। वह चाहती तो सारी पृथ्वी में सोने का ढेर लगा सकती थी।

जब मैं मोहिनी के करीब होता तो कभी-कभी वह न जाने किन सोचो में गुम हो जाया करती थी। बात करते-करते रुक जाती, कुछ सोचने लगती। कभी-कभी वह बहुत ही रूखे स्वर में बात करती। कभी स्वयं ही हँसने लगती, तो कभी अपने स्थान से उठकर गंभीरता से आकाश की ओर देखने लगती।

प्यार में मनुष्य अन्धा होता है। उसे प्रेमिका की हर अदा से प्यार टपकता नजर आता है; भले ही वह उसे गाली दे रही हो। ऐसी ही हालत कुछ मेरी थी।
मैं चाहता था कि वह हमेशा मेरे करीब रहे। मेरी आँखों में आँखें डाले प्रेम का अमृत पान करती रहे। सदा के लिए उसकी नशीली आँखों में मैं खो जाऊँ। जैसे मेरे सदियों के प्यासे होंठ अपनी प्यास बुझाने के लिए मचल रहे थे। मैं अपने धड़कते दिल से उसकी धड़कनें गिनना चाहता था। मैं मोहिनी का प्रेम पुजारी था।

परन्तु उस पर मेरी इस कैफियत का जरा भी असर नहीं होता था। वह हमेशा ही मुझे अपने आप से दूर रहने को कहती थी। मैं मन के घरौंदों में उससे बात किया करता और वह आकाश से बातें करती रहती।

प्रेम की आग बहुत बुरी होती है। इसमें संसार के हजारों लाखों लोग जलकर राख हो चुके हैं। यह दास्तान हम दोनों पर ही आकर समाप्त नहीं होती। यह कहानी तो सदियों से दोहराई जा रही है और प्रलय के दिन तक दोहराई जाएगी। यह रिश्ते तो जन्म-जन्म के होते हैं। लाख चाहो पर रिश्तों की डोर टूटती नहीं। प्रेम को मिटाने के लिए इस संसार ने कितने जतन किए, मगर आज तक यह प्रेम नहीं मिट सका। आज भी प्रेम जीवित है और हर प्रेमी भली-भाँति जानता है कि इससे पूर्व प्रेम करने वालों का क्या हाल हुआ। मगर किसी भी प्रेमी ने उस भयंकर अंत को देखते हुए प्रेम करना नहीं छोड़ा। संसार ने कई रंग बदले। करोड़ों लोग यहाँ से चले गये और फिर वापस भी आये। यह आवागमन का चक्कर समाप्त नहीं हुआ और न होगा।

मोहिनी ने ढेर सारी पुस्तकें मुझे लाकर दी थीं और वह चाहती थी कि मैं ज्ञान प्राप्त करता रहूँ। जब तक वह छोटे-मोटे युद्ध जीतती है, मैं ज्ञान का प्रकाश बढ़ाता रहूँ। वह मुझे संसार का सबसे ज्ञानी पुरुष बनाना चाहती थी।

कभी-कभी यूँ लगता कि मैं मोहिनी का कैदी हूँ। वह मुझ पर बाहर की हवा का स्पर्श भी नहीं होने देना चाहती थी। शायद वह कोई बहुत बड़ी जादूगरनी है जिसके जादू ने मुझे पागल बनाकर रख छोड़ा था। इस संसार में अब मोहिनी के सिवाय किसी चीज से प्यार न रहा था। मेरा संसार ही मोहिनी थी। उसके बिना तो मैं साँस भी नहीं ले सकता था। जब वह एक-दो दिन तक मुझसे न मिलती तो मैं पागल सा हो जाता था और उसकी एक झलक देखने के लिए व्याकुल हो जाता था।

जादू! जादू! मोहिनी की सुन्दरता का जादू! मोहिनी के करिश्मों का जादू!
❑❑❑
Post Reply