Adultery दिव्या का सफ़र

Post Reply
Rishu
Novice User
Posts: 885
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: Adultery दिव्या का सफ़र

Post by Rishu »

सुबह राजेश के उठने से पहले वह उसके लिए चाय बना कर लेकर आती है, राजेश भी उसे गुड मॉर्निंग विश कर उसे अपनी जांघों पर बैठा लेता है।

राजेश: अब जल्दी तैयार हो जाओ जान।

दिव्या तैयार होने में काफी समय लेती है पर जब वह तैयार होकर आती है तो उसे देख राजेश देखता ही रह जाता है, दिव्या किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी।

Image

राजेश: जान मन तो कर रहा है कि अभी यही शुरू हो जाऊं। तुम्हें ऐसे देख तो छोड़ने का मन ही नहीं हो रहा।

दिव्या: ज्यादा बदमाशी मत करो, चुपचाप बताओ चलना कहाँ है।

राजेश: हाँ हाँ, चलो तो सही।

राजेश दिव्या को लेकर बाहर आता है और अपनी कार में उसे बैठाकर कर्नल के फार्म हाउस की ओर निकल पड़ता है, पूरे रास्ते में वो दिव्या को बार-बार छेड़ने का कोई मौका नहीं छोड़ता, कभी उसकी जाँघों में हाथ रखता है तो कभी उसके मम्मों को छेड़ने की कोशिश करता है। दिव्या भी इस सब में काफी मजा लेती है, कुछ देर में शहर से दूर वो एक बहुत ही खूबसूरत लोकेशन पर पहुंच जाते हैं। फार्म हाउस देख दिव्या भी काफी खुश हो जाती है। खासकर उसका स्विमिंग पूल देख वो काफी खुश थी।

दिव्या: वाओ राजेश ये तो बहुत अच्छी जगह है पर यहाँ कोई और क्यों नहीं है।

राजेश: क्योंकि यहाँ सिर्फ हम लोग हैं।

फार्म हाउस का चौकीदार आकर दोनों का सामान उठाकर एक कमरे में ले जाता है जो पहले से ही सजा हुआ था। जैसे ही दिव्या और राजेश उस कमरे में घुसते हैं, उनके ऊपर गुलाब के फूलों की बारिश होने लगती है। कमरे की डेकोरेशन देख दिव्या राजेश के गले से लग जाती है

दिव्या: तुम नहीं जानते, ये मेरी बेस्ट एनिवर्सरी होने वाली है, मुझे नहीं लगता था कि तुम इतने रोमांटिक भी हो सकते हो।
Rishu
Novice User
Posts: 885
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: Adultery दिव्या का सफ़र

Post by Rishu »

राजेश बोलने ही वाला था कि ये सब उसने नहीं किया पर तभी कर्नल और रेणुका सामने आ कर उन्हें एनिवर्सरी विश करते हैं।

लाला: हैप्पी एनिवर्सरी टू बोथ ऑफ़ यू।

इतना कहते ही कर्नल दिव्या को राजेश के सामने ही गले लगा लेता है और माथे पर किस करके विश करता है। कर्नल को देख दिव्या के चेहरे का रंग ही उड़ जाता है, उसने नहीं सोचा था कि कर्नल यहाँ भी उसका पीछा नहीं छोड़ेगा।

लाला: यू आर लुकिंग आसम, मुझे भी नहीं लगा था कि राजेश ऐसा कुछ प्लान कर सकता है। वैसे उम्मीद है कि हम कबाब में हड्डी नहीं बन रहे होंगे।

राजेश: नहीं नहीं, ऐसा कुछ नहीं है, इनफैक्ट साथ मिलकर एन्जॉय करने का तो मजा ही कुछ और है।

लाला: हाँ, ये तो है, अब तुम लोग एन्जॉय करो, इतने में भी स्विमिंग पूल में थोड़ा नहा लेता हूँ। वैसे तुम भी चाहो तो ज्वाइन कर सकते हो।

इतना कह कर्नल वहाँ से बाहर निकल जाता है। कर्नल के जाने के बाद दिव्या राजेश से शिकायत करने लगती है कि क्यों उसने कर्नल के साथ प्लान बनाया पर वह खुलकर राजेश को कुछ नहीं कह पाती। राजेश दिव्या को जैसे तैसे उसे मना लेता है। कुछ देर बाद दोनों थोड़ा रेस्ट कर बाहर पूल में नहाने के लिए ड्रेस चेंज कर लेते हैं।

पूल के पास जब दोनों पहुंचते हैं तो कर्नल के साथ रेणुका भी पूल में ही थीं, जिसे कर्नल स्विमिंग सिखाने के बहाने उसके शरीर से खेल रहा था।

Image

दिव्या को स्विम सूट में देख एक बार तो कर्नल का भी मुँह खुला का खुला रह जाता है पर वह दिव्या को इग्नोर कर रेणुका को स्विमिंग सिखाना चालू रखता है। दिव्या शुरू में थोड़ा हिचकिचाती है पर राजेश की जिद करने पर वह भी उसके साथ पूल में उतर जाती है।
Rishu
Novice User
Posts: 885
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: Adultery दिव्या का सफ़र

Post by Rishu »

दिव्या तैरना नहीं जानती थी जिसकी वजह से उसे पूल में खड़ा होने में भी काफी दिक्कत आती थी, दिव्या को स्ट्रगल करते देख कर्नल उस पर हँसने लगता है और राजेश को उसे संभालने को कहता है। कुछ देर तक चारों पूल में नहाने का मज़ा उठाते हैं फिर कर्नल पास को चेयर पर लेट कर ड्रिंक्स का लुत्फ़ उठाने लगता है, राजेश कई बार उसे पूल में बुलाता है पर वह कुछ देर वेट करने को कह कर वहीं धूप में लटकता रहता है और दिव्या को देख तरसता रहता है।

Image

दिव्या का पानी में भीगा बदन उस पर बिजली गिरा रहा था। आज वो सिर्फ दिव्या का मुंह चोद कर शांत नहीं हो सकता था बल्कि वो उसे पूरी तरह अपनी बनाने का प्लान बनाने लगता है।

राजेश का पीठ कर्नल की और होने की वजह से वह कर्नल को भले ही न देख पा रहा हो पर कर्नल दिव्या को बीच-बीच में इशारा कर छेड़ रहा था। इस सब में रेणुका पूल में अकेली सी पड़ गई थी तो वह भी बाहर निकलने लगती है जिसे देख राजेश उसे रुकने को कहता है।

रेणुका: आप दोनों अब एन्जॉय करो, मैं कबाब में हड्डी क्यों बनूं।

राजेश: नहीं ऐसा नहीं है, इनफैक्ट आप दोनों लेडीज कुछ समय आपस में टाइम पास करो, इतने में अंकल को थोड़ी कंपनी दे देता हूँ।

राजेश पानी से निकलकर कर्नल के पास वाली कुर्सी पर लेटे जाता है, उसके जाते ही रेणुका दिव्या के पास आ जाती है।

दिव्या: तुमने अच्छा नहीं किया मेरे साथ रेणुका, मैंने तो तुम्हें अपना फ्रेंड माना था।

रेणुका: मैं तुम्हें ये सब समझा नहीं पाऊंगी दिव्या, मैं भी तुम्हें अपना फ्रेंड मानती हूँ पर जब मैंने तुम्हे वार्न किया तो तुमने कर्नल को बोल दिया तो फिर मजबूरन मुझे वो सब करना पड़ा।

कर्नल किसी भी तरह दिव्या को छूना चाहता था पर राजेश को अभी कोई शक न हो तो वो चांस नहीं लेता। यहाँ भी कर्नल राजेश को ड्रिंक्स ऑफर करता है जिसे वह मना नहीं करता। कर्नल को अब राजेश पर पूरा भरोसा है कि वह दिव्या के बारे में अब कुछ भी कहे, राजेश बुरा नहीं मानेगा।

राजेश: आपने अच्छा किया अंकल कि आप भी यहाँ आ गए, वर्ना अकेले इतना मजा नहीं आता।

राजेश कहता तो है पर इस पर कर्नल को कोई रिएक्शन नहीं देता देख वह उसे टोकता है।

राजेश: क्या हुआ अंकल, कहाँ खोए हुए हो?

लाला: बस तुम्हारी ही बीवी को देख रहा हूँ, समझ नहीं आता तुमने इतना मस्त माल फसाया कैसे। बिन बच्चे के भी इतने बड़े मम्मे कर रखे हैं इसके, कितना चूसते हो।

राजेश: क्या अंकल आप भी। बड़े तो रेणुका के भी हैं।

लाला: हाँ, पर ऐसी बात उसमें नहीं है। और मैं अभी सही से कम्पेयर भी नहीं कर सकता दोनों के मम्मों को।

राजेश: वो क्यों।

लाला: तुमने अभी तक देखने का चांस ही कहा दिया है।

राजेश: कोई नहीं, मौका हुआ तो आज देख लेना।

राजेश के मुंह से बरबस ही निकल जाता है।
Post Reply